November 2010 - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

Tuesday, November 30, 2010

घर-गृहस्थी और समाज

November 30, 2010 34
बचपन की धमाचौकड़ी के साथ स्कूली शिक्षा और फिर कॉलेज की चकाचौंध से बाहर निकलकर जब मैं कुछ वर्ष बाद परिवार और नाते रिश्तेदारों की दिन-रा...
और पढ़ें>>

Tuesday, November 23, 2010

इससे पहले कि कोई

November 23, 2010 51
इससे पहले कि कोई आप, तुम से तू पर आता हुआ दिल बहलाने की चीज़ समझ बैठे संभल जाना इससे पहले कि कोई मीठी बातों में उलझा कर गलत राह पर मजब...
और पढ़ें>>

Saturday, November 13, 2010

Thursday, November 4, 2010