भाई-बहिन का स्नेहिल बंधन है रक्षाबंधन - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

गुरुवार, 11 अगस्त 2022

भाई-बहिन का स्नेहिल बंधन है रक्षाबंधन

हमारी भारतीय संस्कृति में अलग-अलग प्रकार के धर्म, जाति,  रीति,  पद्धति,  बोली, पहनावा, रहन-सहन के लोगों के अपने-अपने उत्सव, पर्व, त्यौहार हैं,  जिन्हें वर्ष भर बड़े धूमधाम से मनाये जाने की सुदीर्घ परम्परा है। ये उत्सव, त्यौहार, पर्वादि हमारी भारतीय संस्कृति की अनेकता में एकता की अनूठी पहचान कराते हैं। रथ यात्राएं हो या ताजिए या फिर किसी महापुरुष की जयंती, मन्दिर-दर्शन हो या कुंभ-अर्द्धकुम्भ या स्थानीय मेला या फिर कोई तीज-त्यौहार जैसे- रक्षाबंधन, होली, दीवाली, जन्माष्टमी, गणेश चतुर्थी, शिवरात्रि, क्रिसमस या फिर ईद सर्वसाधारण अपनी जिन्दगी की भागदौड़, दुःख-दर्द, भूख-प्यास सबकुछ भूल कर मिलजुल के उल्लास, उमंग-तरंग में डूबकर तरोताजा हो उठता है।
          इन सभी पर्व, उत्सव, तीज-त्यौहार, या फिर मेले आदि को जब जनसाधारण जाति-धर्म, सम्प्रदाय से ऊपर उठकर मिलजुलकर बड़े धूमधाम से मनाता है तो उनके लिए हर दिन उत्सव का दिन बन जाता है। इन्हीं पर्वोत्सवों की सुदीर्घ परम्परा को देख हमारी भारतीय संस्कृति पर "आठ वार और नौ त्यौहार" वाली उक्ति चरितार्थ होती है।
          परिवर्तन समाज की अनिवार्य प्रक्रिया है, युग का धर्म है। परिवर्तन हमारी संस्कृति की जीवंतता का प्रतीक है।  इसने न अतीत की विशेषताओं से मुंह मोड़ा ना ही आधुनिकता की उपयोगिता को अस्वीकारा, तभी तो महाकवि इकबाल कहते हैं-
"यूनान, मिश्र, रोमां , सब मिट गये जहाँ से ।
अब तक मगर है बाकी , नाम-ओ-निशां हमारा ।।
कुछ बात है कि हस्ती , मिटती नहीं हमारी ।
सदियों रहा है दुश्मन , दौर-ए-जहाँ हमारा ।।"
रक्षाबंधन पर्व बहिन द्वारा भाई की कलाई में राखी बांधने का त्यौहार भर नहीं है, यह एक कोख से उत्पन्न होने के वाले भाई की मंगलकामना करते हुए बहिन द्वारा रक्षा सूत्र बांधकर उसके सतत् स्नेह और प्यार की निर्बाध आकांक्षा भी है। युगों-युगों से चली आ रही परम्परानुसार जब बहिन विवाहित होकर अपना अलग घर-संसार बसाती है और पति, बच्चों, पारिवारिक दायित्वों और दुनियादारी में उलझ जाती है तो वह मातृकुल के एक ही मां के उत्पन्न भाई और सहोदर से मिलने का अवसर नहीं निकाल पाती है, जिससे विवशताओं के चलते उसका अंतर्मन कुंठित हो उठता है। ऐसे में ‘रक्षाबंधन‘ और भाई दूज, ये दो पर्व भाई-बहिन के मिलन के दो पावन प्रसंग हैं। इस पावन प्रसंग पर कई  बहिन बर्षों से सुदूर प्रदेश में बसे भाई से बार-बार मनुहार करती है-
"राह ताक रही है तुम्हारी प्यारी बहना 
अबकी बार राखी में जरुर घर आना 
न चाहे धन-दौलत, न तन का गहना 
बैठ पास बस दो बोल मीठे बतियाना 
मत गढ़ना फिर से कोई नया बहाना 
राह ताक रही है तुम्हारी प्यारी बहना
अबकी बार राखी में जरुर घर आना "
गाँव-देश छोड़ अब तू परदेश बसा है
बिन तेरे घर अपना सूना-सूना पड़ा है 
बूढ़ी दादी और माँ का है एक सपना
 नज़र भरके नाती-पोतों को है देखना
 लाना संग हसरत उनकी पूरी करना 
राह ताक रही है तुम्हारी प्यारी बहना 
अबकी बार राखी में जरुर घर आना

          भागदौड़ भरी जिन्दगी के बीच आज भी राखी का त्यौहार बड़े उत्साह और उमंग से मनाया जाना हमारी भारतीय संस्कृति की जीवंतता का परिचायक है।  इस अद्भुत्, अमूल्य, अनंत प्यार के पर्व का हर बहिन महीनों पहले से प्रतीक्षा करती है। पर्व समीप आते ही बाजार में घूम-घूम कर मनचाही राखी खरीदती है। वस्त्र, आभूषणों आदि की खरीदारी करती है। बच्चों को उनके मामा-मिलन के लिए आत्मीय भाव से मन में उत्सुकता जगाती है। घर-आंगन की साफ-सफाई करती है। स्वादिष्ट व्यंजन बनाकर और नये कपड़ों में सज-धज परिवार में असीम आनंद का स्रोत बहाती है। यह हमारी भारतीय संस्कृति की विलक्षणता है कि यहाँ देव-दर्शन पर भेंट चढ़ाने की प्रथा कायम है, अर्पण को श्रृद्धा का प्रतीक मानती है। अर्पण फूल-पत्तियों का हो या राशि का कोई फर्क नहीं। राखी के अवसर पर एक ओर भाई देवी रूपी बहिन के घर जाकर मिष्ठान, फूल, नारियल आदि के साथ "पत्रं-पुष्पं-फलं सोयम" की भावना से यथा सामर्थ्य दक्षिणा देकर खुश होता है तो दूसरी ओर एक-दूसरे की आप-बीती सुनकर उसके परस्पर समाधान के लिए कृत संकल्पित होते हैं।  इस तरह यह एक तरफ परस्पर दुःख, तकलीफ समझने का प्रयत्न है, तो दूसरी ओर सुख, समृद्धि में भागीदारी बढ़ाने का सुअवसर भी है।  

           ......कविता रावत




69 टिप्‍पणियां:

  1. लाना संग हसरत उनकी पूरी करना
    राह ताक रही है तुम्हारी प्यारी बहना
    अबकी बार राखी में जरुर घर आना

    बहुत सराहनीय प्रस्तुति.
    बहुत सुंदर बात कही है इन पंक्तियों में. भाई बहन के प्रेम का अनुपम रूप लिए संदर भाव .

    जवाब देंहटाएं
  2. bahut sundar rachna hai aapki , jise ham apne blog main share kar rahe hain saabhaar , kripya aagyaa prdaan karen !!
      " इन्टरनेट सोशियल मीडिया ब्लॉग प्रेस "
    " फिफ्थ पिल्लर - कारप्शन किल्लर "
    की तरफ से आप सब पाठक मित्रों को आज के दिन की
    हार्दिक बधाई और ढेर सारी शुभकामनाएं !!नए बने मित्रों का हार्दिक स्वागत-अभिनन्दन स्वीकार करें !
    जिन मित्रों का आज जन्मदिन है उनको हार्दिक शुभकामनाएं और बधाइयाँ !!
    ये दिन आप सब के लिए भरपूर सफलताओं के अवसर लेकर आये , आपका जीवन सभी प्रकार की खुशियों से महक जाए " !!
    मित्रो !! मैं अपने ब्लॉग , फेसबुक , पेज़,ग्रुप और गुगल+ को एक समाचार-पत्र की तरह से देखता हूँ !! आप भी मेरे ओर मेरे मित्रों की सभी पोस्टों को एक समाचार क़ी तरह से ही पढ़ा ओर देखा कीजिये !!
    " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " नामक ब्लॉग ( समाचार-पत्र ) के पाठक मित्रों से एक विनम्र निवेदन - - - !!
    आपका हार्दिक स्वागत है हमारे ब्लॉग ( समाचार-पत्र ) पर, जिसका नाम है - " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " कृपया इसे एक समाचार-पत्र की तरह ही पढ़ें - देखें और अपने सभी मित्रों को भी शेयर करें ! इसमें मेरे लेखों के इलावा मेरे प्रिय लेखक मित्रों के लेख भी प्रकाशित किये जाते हैं ! जो बड़े ही ज्ञान वर्धक और ज्वलंत - विषयों पर आधारित होते हैं ! इसमें चित्र भी ऐसे होते हैं जो आपको बेहद पसंद आएंगे ! इसमें सभी प्रकार के विषयों को शामिल किया जाता है जैसे - शेयरों-शायरी , मनोरंहक घटनाएँ आदि-आदि !! इसका लिंक ये है -www.pitamberduttsharma.blogspot.com.,ये समाचार पत्र आपको टविटर , गूगल+,पेज़ और ग्रुप पर भी मिल जाएगा ! ! अतः ज्यादा से ज्यादा संख्या में आप हमारे मित्र बने अपनी फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज कर इसे सब पढ़ें !! आपके जीवन में ढेर सारी खुशियाँ आयें इसी मनोकामना के साथ !! हमेशां जागरूक बने रहें !! बस आपका सहयोग इसी तरह बना रहे !! मेरा इ मेल ये है : - pitamberdutt.sharma@gmail.com. मेरे ब्लॉग और फेसबुक के लिंक ये हैं :-www.facebook.com/pitamberdutt.sharma.7
    www.pitamberduttsharma.blogspot.com
    जो अभी तलक मेरे मित्र नहीं बन पाये हैं , कृपया वो जल्दी से अपनी फ्रेंड-रिक्वेस्ट भेजें , क्योंकि मेरी आई डी तो ब्लाक रहती है ! आप सबका मेरे ब्लॉग "5th pillar corruption killer " व इसी नाम से चल रहे पेज , गूगल+ और मेरी फेसबुक वाल पर हार्दिक स्वागत है !!
    आप सब जो मेरे और मेरे मित्रों द्वारा , सम - सामयिक विषयों पर लिखे लेख , टिप्प्णियों ,कार्टूनो और आकर्षक , ज्ञानवर्धक व लुभावने समाचार पढ़ते हो , उन पर अपने अनमोल कॉमेंट्स और लाईक देते हो या मेरी पोस्ट को अपने मित्रों संग बांटने हेतु उसे शेयर करते हो , उसका मैं आप सबका बहुत आभारी हूँ !
    आशा है आपका प्यार मुझे इसी तरह से मिलता रहेगा !!आपका क्या कहना है मित्रो ??अपने विचार अवश्य हमारे ब्लॉग पर लिखियेगा !!
    सधन्यवाद !!
    आपका प्रिय मित्र ,
    पीताम्बर दत्त शर्मा,
    हेल्प-लाईन-बिग-बाज़ार,
    R.C.P. रोड, सूरतगढ़ !
    जिला-श्री गंगानगर।
    " आकर्षक - समाचार ,लुभावने समाचार " आप भी पढ़िए और मित्रों को भी पढ़ाइये .....!!!
    BY :- " 5TH PILLAR CORRUPTION KILLER " THE BLOG . READ,SHARE AND GIVE YOUR VELUABEL COMMENTS DAILY . !!
    Posted by PD SHARMA, 09414657511 (EX. . VICE PRESIDENT OF B. J. P. CHUNAV VISHLESHAN and SANKHYKI PRKOSHTH (RAJASTHAN )SOCIAL WORKER,Distt. Organiser of PUNJABI WELFARE SOCIETY,Suratgarh (RAJ.)

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर प्रस्तुति.पर्व और त्यौहार भारतीय संस्कृति के अभिन्न अंग हैं.
    नई पोस्ट : आमि अपराजिता.....

    जवाब देंहटाएं
  4. रक्षाबंधन‘ और भाई दूज, ये दो पर्व भाई-बहिन के मिलन के दो पावन प्रसंग हैं...........बिलकुल सही कहा है आपने हमारी भारतीय संस्कृति की यही विशेषता हमें अन्य संस्कृतियों से अलग करती है .....तभी तो इसने न अतीत की विशेषताओं से मुंह मोड़ा ना ही आधुनिकता की उपयोगिता को अस्वीकारा, तभी तो महाकवि इकबाल कहते हैं-
    "यूनान, मिश्र, रोमां , सब मिट गये जहाँ से ।
    अब तक मगर है बाकी , नाम-ओ-निशां हमारा ।।
    कुछ बात है कि हस्ती , मिटती नहीं हमारी ।
    सदियों रहा है दुश्मन , दौर-ए-जहाँ हमारा ।।"
    ..................बहुत सुंदर ...........

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर पोस्ट ..... सबसे प्यारा है ये पावन रिश्ता

    जवाब देंहटाएं
  6. अबकी बार राखी में जरुर घर आना
    ..... ये पंक्तियाँ भावविभ्‍ााेर कर जाती है
    बेहतरीन प्रस्‍तुति

    जवाब देंहटाएं
  7. गजब का लेखन

    भाई बहन का प्यार एक दिन का मोहताज़ नहीं
    जब चाहो रक्षा बंधन मना लेना चाहिए। :)

    जवाब देंहटाएं
  8. येन बद्धो बलिः राजा दानवेन्द्रो महाबलः। तेन त्वामभिबध्नामि रक्षे मा चल मा चल॥
    बहुत सुन्दर प्रशंसनीय सामयिक पोस्ट

    जवाब देंहटाएं
  9. पूरे भारतवर्ष में राखी का यह पुनीत पर्व देखने लायक होता है और हो भी क्यों नहीं, यही तो एक ऐसा विशेष दिन है जो भाई-बहनों के लिए बना है।
    और जैसा की आपने सुन्दर ढंग से कहा रक्षाबंधन‘ और भाई दूज, ये दो पर्व भाई-बहिन के मिलन के दो पावन प्रसंग हैं। इस पावन प्रसंग पर कई बहिन बर्षों से सुदूर प्रदेश में बसे भाई से बार-बार मनुहार करती है- "राह ताक रही है तुम्हारी प्यारी बहना
    अबकी बार राखी में जरुर घर आना
    न चाहे धन-दौलत, न तन का गहना
    बैठ पास बस दो बोल मीठे बतियाना
    मत गढ़ना फिर से कोई नया बहाना
    राह ताक रही है तुम्हारी प्यारी बहना
    अबकी बार राखी में जरुर घर आना "

    जवाब देंहटाएं
  10. त्यौहार तो अपनी जगह बरकरारा है...बस कई जगह ये प्यार कम होता जा रहा है...जब से भौतिक सुखों की प्रधानता बढ़ने लगी है सहोदर भी दुश्मन होने लगे हैं...प्रार्थना यही है अपने देश में इस त्यौहार की महत्ता बनी रहे

    जवाब देंहटाएं

  11. कल 08/अगस्त/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    जवाब देंहटाएं
  12. बहुत-बहुत सुन्दर पर्व विशेष प्रस्तुतीकरण है ..

    जवाब देंहटाएं
  13. गाँव-देश छोड़ अब तू परदेश बसा है
    बिन तेरे घर अपना सूना-सूना पड़ा है
    बूढ़ी दादी और माँ का है एक सपना
    नज़र भरके नाती-पोतों को है देखना
    लाना संग हसरत उनकी पूरी करना
    राह ताक रही है तुम्हारी प्यारी बहना
    अबकी बार राखी में जरुर घर आना

    ---------------
    गाँव छोड़ दूर परदेश में जा बसे घर परिवार की सुध न लेने वाले भाईयों के लिए मर्मस्पर्शी पंक्तियाँ ....

    बहुत सुन्दर

    जवाब देंहटाएं
  14. बेहतरीन प्रस्तुति...

    जवाब देंहटाएं
  15. jitni sundar ran-birangi hamari sanskriti hai bilkul vaise hi aapki ye post hai .happy raksha bandhan kavita ji .

    जवाब देंहटाएं
  16. Kavita aap mere blog par aayin mujhe achchaa lagaa shayad mera sandesh aap tak pahunch gayaa hai....kya aap ka email id mil saktaa hai?

    जवाब देंहटाएं
  17. रक्षाबन्धन पर हर बहन की यही कामना होती है कि वो अपने हाथों से भाई की कलाई पर राखी बाँधे।

    जवाब देंहटाएं
  18. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ..रक्षाबंधन की ढेरों शुभकामनाएँ

    जवाब देंहटाएं
  19. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    शुभकामनाएं...

    जवाब देंहटाएं
  20. खूबसूरत अभिव्यक्ति...रक्षा पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ

    जवाब देंहटाएं
  21. भारतीय संस्कृति में पर्व महत्व की सार्थकता का सुन्दर वर्णन ..राखी पर अनंत शुभकामनायें!

    जवाब देंहटाएं
  22. आज जब रिश्तों की परिभाषा बदलने लगी है, आत्मिक संबंधों पर
    उंगलियां उठने लगी हैं,ऐसे विषम समय में भाई बहन का रिश्ता जीवित है ----
    रक्षाबंधन के सार्थक महत्व को व्यक्त करती
    उत्कृष्ट प्रस्तुति ----
    शुभकामनाऐं
    सादर --

    आग्रह है ---
    आवाजें सुनना पड़ेंगी -----

    जवाब देंहटाएं
  23. अति सुंदर। भावपूर्ण। बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  24. ये मात्र क्ष का बंधन नहीं है बल्कि एक भावनात्मक, आपसी रिश्ता है जिसे समझना भारतीय परंपरा को समझने वाले को ही जान सकते हैं ...
    बहुत ही विस्तृत और रोचक तरीके से आपने इस त्यौहार से जुड़े पहलुओं को रक्खा है ... आपको बधाई रक्षाबंधन की और इस आलेख की ...

    जवाब देंहटाएं
  25. बेहद उम्दा और बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आपको बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@जब भी सोचूँ अच्छा सोचूँ

    जवाब देंहटाएं
  26. My favorite casino purely real casino I recommend to everyone!!! The engine does not slow down. I did not observe any breaks in the connection. Won $ 2200. Brought the winnings to no problem. Very beautiful, pleasant, comfortable casino. Very nice voice acting. Honesty control. In short .. all zashib

    जवाब देंहटाएं
  27. I enjoy each of the perform that you have placed into this. I’m sure that you will be making a really useful place. I has been additionally pleased. Good perform! 먹튀검증

    जवाब देंहटाएं
  28. I am genuinely thankful to the holder of this web page who has shared this wonderful paragraph at at this place 토토사이트

    जवाब देंहटाएं
  29. I definitely enjoying every little bit of this blog. It is a great website and nice share. I want to thank you. Good job! You guys do a great blog, and have some great contents. Keep up the good work 메이저놀이터

    जवाब देंहटाएं
  30. This is a fabulous post I seen by virtue of offer it. It is genuinely what I expected to see look for in future you will continue subsequent to sharing such an extraordinary post. buy web traffic

    जवाब देंहटाएं
  31. Good to become visiting your weblog again, it has been months for me. Nicely this article that i've been waited for so long. I will need this post to total my assignment in the college, and it has exact same topic together with your write-up. Thanks, good share. 먹튀폴리스

    जवाब देंहटाएं
  32. It’s really a fantastic website✅ thanks for sharing✅ There's no doubt i would fully rate it after i read  먹튀검증

    जवाब देंहटाएं
  33. This article is very interesting information. It has helped me a lot. 스포츠토토

    जवाब देंहटाएं
  34. First of all, I would like to thank you for writing this article. 검증사이트

    जवाब देंहटाएं
  35. today i find it finally. this post give me lots of advise it is very useful for me 사다리사이트

    जवाब देंहटाएं
  36. Bookmarked your blog. We hope you will continue to post these good information frequently. 안전놀이터

    जवाब देंहटाएं
  37. if you want to get the sea moss that is most suitable for you 메이저놀이터

    जवाब देंहटाएं
  38. I conceive this internet site has got some really good information 스포츠중계

    जवाब देंहटाएं
  39. We hope you will continue to post these good information frequently. 카지노사이트

    जवाब देंहटाएं
  40. I accidentally visited another hyperlink. I still saw several posts while visiting, but the text was neat and easy to read.
    토토사이트

    जवाब देंहटाएं
  41. Hi there colleagues, its wonderful paragraph on the topic of tutoringand completely explained,
    keep it up all the time.안마

    जवाब देंहटाएं
  42. Great info! I recently came across your blog and have been reading along. I thought I would leave my first comment. I don’t know what to say except that I have. 슬롯사이트

    जवाब देंहटाएं
  43. Wow, this piece of writing is pleasant, my younger sister is analyzing these things,
    thus I am going to inform her.풀싸롱


    जवाब देंहटाएं
  44. Thank you, I have recently been looking for info about this topic for ages and yours is the best I have discovered so far.
    But, what about the bottom line? Are you sure about the source?
    Here is my web site 대구오피

    जवाब देंहटाएं
  45. रक्षाबंधन पर्व की बहुत सुंदर प्रस्तुति।

    जवाब देंहटाएं
  46. रक्षाबंधन पर बेहतरीन आलेख। राखी पर्वकी हार्दिक शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
  47. Aapne bhut ache status likha hai kuch status dil ko chu gaye Mai V Status Likhta hu Hindi Mai Ek bar Jarur Read Kare👉🏻 - Bf shayari Hindi 2023!! Bf Shayari Two Line
    .........
    Facebook status hindi
    ..........
    HowToStatus
    ........
    Attitude status
    ......
    Good Morning Status

    जवाब देंहटाएं
  48. Dosto aaj mane aapke liye ek behatrin article likha hai jo life Quotes hai hindi mai umid karta hu aap Saab ko bhut pasand aaye gye.
    Reality life Quotes IN Hindi

    जवाब देंहटाएं
  49. Bahut achcha, kabil-e-tareef hai ye to, Thanks for sharing with us.

    जवाब देंहटाएं
  50. Web sitesi kurma sürecinde, HTML, CSS, JavaScript gibi web geliştirme dilleri ve CMS (Content Management System) yazılımları kullanılabilir. site kurma CMS yazılımları, kullanıcı dostu arayüzleri ile web sitenin içeriğini ve görünümünü daha kolay yönetmenizi sağlar. Wordpress, Joomla, Drupal gibi popüler CMS yazılımları bulunmaktadır.
    Site kurma hakkında biraz bilgi vermek gerekirse site kurma için kolaylaştırıcı bazı detaylar vermeye çalıştım.

    जवाब देंहटाएं