KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

Recent Posts

Friday, May 21, 2021

कोरोना में घर-परिवार और हाॅस्पिटल का संसार

May 21, 2021 18
कोरोना की मार झेलकर 10 दिन बाद हाॅस्पिटल से घर पहुंचा तो एक पल को ऐसे लगा जैसे मैंने दूसरी दुनिया में कदम रख लिए हों। गाड़ी से सारा सामान खुद...
और पढ़ें>>

Friday, April 23, 2021

ऐसा कोई मनुष्य नहीं जो दुःख और रोग से अछूता रहता है

April 23, 2021 13
ऐसा कोई मनुष्य नहीं जो दुःख और रोग से अछूता रहता है  थोड़ी देर का सुख बहुत लम्बे समय का पश्चाताप होता है  एक बार कोई अवसर हाथ से निकला तो वाप...
और पढ़ें>>

Monday, March 29, 2021

अबकी बार होली में कोरोना ने है पकड़ा

March 29, 2021 8
अबकी बार होली में  कोरोना ने है पकड़ा चुराकर सब रंग मेरे अपने रंग में है जकड़ा गले में ठूसी जा रही हैं रंग बिरंगी गोलियां मुंह बांधे उड़ी...
और पढ़ें>>

Sunday, March 21, 2021

मतलबी दुनिया में एक दिन सबका आता है

March 21, 2021 15
 न लालच, गुस्सा न शिकायत  एक समभाव वाला जीव वह भारी मेहनत करने के बाद भी रूखा, सूखा खाकर खुश रहता है  दुनिया भर का अत्याचार सहता है  जुग-जुग...
और पढ़ें>>

Monday, March 8, 2021

अब आने वाला युग महिलाओं के नाम

March 08, 2021 22
मुझे याद है जब हम बहुत छोटे थे तो हमारे घर- परिवार की तरह ही गांव से कई लोग रोजी-रोटी की खोज में शहर आकर धीरे-धीरे बसते चलते गए। शहर आकर किस...
और पढ़ें>>

Saturday, February 20, 2021

दो घरों की चिराग होती हैं बेटियाँ

February 20, 2021 33
चिरकाल से लड़कों को घर का चिराग माना जाता है, लेकिन मैं समझती हूँ कि यदि उन्हें घर का चिराग माना जाता है तो मेरे समझ से वे केवल एक घर के ही ह...
और पढ़ें>>

Saturday, January 30, 2021

Tuesday, January 19, 2021

जब शेर पिंजरे में बन्द हो तो कुत्ते भी उसे नीचा दिखाते हैं

January 19, 2021 19
जब मनुष्य सीखना बन्द कर देता है तभी वह बूढ़ा होने लगता है बुढ़ापा मनुष्य के चेहरे पर उतनी झुरियाँ नहीं   जितनी उसके मन पर डाल देता है अनुभव से...
और पढ़ें>>

Thursday, December 31, 2020

Saturday, November 28, 2020

अब मैं वह दिल की धड़कन कहाँ से लाऊंगा

November 28, 2020 19
  जब-जब भी मैं तेरे पास आया तू अक्सर मिली मुझे छत के एक कोने में चटाई या फिर कुर्सी में बैठी बडे़ आराम से हुक्का गुड़गुड़ाते हुए तेरे हुक्के...
और पढ़ें>>