KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

Recent Posts

Friday, March 20, 2020

मैं आऊँगा कल

March 20, 2020 12
यही तो रास्ता है मेरे रोज गुजरने का एक बार, दो बार, रोज ...... एक दिन अचानक नजरे मिली थी तुमसे वहाँ तुम वहीं कहीं खड़ी थी सूरत तुम्हारी ...
और पढ़ें>>

Thursday, March 12, 2020

Tuesday, March 3, 2020

Wednesday, February 26, 2020

मतलबी इंसान से पालतू कुत्ता भला होता है

February 26, 2020 5
जिस धारा का पानी पिया उसे बहुत कम लोग याद रखते हैं जिसकी रोटी खायी उसके गीत गाने वाले विरले मिलते हैं जो पेड़ छाया प्रदान करता है उसकी ...
और पढ़ें>>

Saturday, January 11, 2020

Wednesday, January 1, 2020

Saturday, December 28, 2019

Thursday, December 19, 2019

पोकेमॉन चक्र

December 19, 2019 5
“अप्रैल की सुहानी सुबह फूलों की खुशबू और आकाश में चमकते सूरज के साथ सभी प्यारे पोकेमाॅन हो, तब बच्चों के अपने नए पोकेमाॅन को चुनने के लि...
और पढ़ें>>