2009 - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

Friday, December 25, 2009

Saturday, December 19, 2009

Wednesday, December 16, 2009

देश की जो रीति पहले थी वह समझो अब तक है जारी

December 16, 2009 8
देश में एक ओर जहाँ शांतिप्रिय श्रीरामजी ने राज किया वहीँ दूसरी ओर अत्याचारी घमंडी रावण ने भी राज किया दोनों ओर ही थे धुरंधर यौद्धा और ...
और पढ़ें>>

Friday, December 11, 2009

फिर वही बात हर किसी ने छेड़ी हैं

December 11, 2009 14
अक्सर एकाकीपन ही मुझे अच्छा लगता अपनेपन से भरा साथ मिले किसी का जैसे यह दिखता कोई सुन्दर सपना है अपने पास तो आंसू ही शेष ऐसे दिखते जो...
और पढ़ें>>

Sunday, December 6, 2009

Friday, November 27, 2009

Friday, November 20, 2009

नहीं कोई 'रिसते घाव' को सहलाता है

November 20, 2009 23
जब मन उदास हो, राह काँटों भरी दिखाती हो, आस-पास हौंसलापस्त करते लोगों की निगाहों घूरती हों, जो सीधे दिल पर नस्तर सी चुभ रही हों ऐसी प...
और पढ़ें>>

Thursday, November 12, 2009

Sunday, November 8, 2009

Tuesday, November 3, 2009

Thursday, October 29, 2009

Tuesday, October 27, 2009

Sunday, October 25, 2009

Saturday, September 26, 2009

Saturday, September 19, 2009

लाख बहाने

September 19, 2009 9
लाख बहाने पास हमारे सच भूल, झूठ का फैला हर तरफ़ रोग, जितने रंग न बदलता गिरगिट उतने रंग बदलते लोग। नहीं पता कब किसको किसके आगे रोना-झु...
और पढ़ें>>

Tuesday, September 15, 2009

Thursday, September 10, 2009

समय

September 10, 2009 6
पंख होते हैं समय के पंख लगाकर उड़ जाता है पर छाया पीछे छोड़ जाता है भरोसा नहीं समय का न कुछ बोलता न दुआ सलाम करता है सबको अपने आगे झुकाकर चमत...
और पढ़ें>>

Sunday, August 2, 2009