2017 - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

Saturday, December 16, 2017

चूहे के न्याय से बिल्ली का अत्याचार भला

December 16, 2017 20
कानून का निर्णय काले कौए को बरी लेकिन फाख्ता को दोषी ठहराता है निर्धन के लिए मुसीबत और धनवान के लिए कानून फायदेमंद होता है मुकदमे में कि...
और पढ़ें>>

Thursday, November 30, 2017

Wednesday, November 1, 2017

अंधेरा काटकर सूरज दिखाती कविता रावत की कविताएं : रवीन्द्र प्रभात

November 01, 2017 15
           कहा गया है, कि साधना जब सरस्वती की अग्निवीणा पर सुर साधती है तो साहित्य की अमृतधारा प्रवाहित होती है, जिससे हित की भावनाएं हि...
और पढ़ें>>

Wednesday, October 25, 2017

दरिया जिधर बह निकले वही उसका रास्ता होता है

October 25, 2017 21
दो काम एक साथ हाथ में लेने पर एक भी नहीं हो पाता है। बहुत ज्यादा सोच-विचार वाला कुछ भी नहीं कर पाता  है।। जो कुछ नहीं जानता वह किसी बात ...
और पढ़ें>>

Thursday, October 19, 2017

क्या दीवाली लक्ष्मी जयन्ती है?

October 19, 2017 12
एक मान्यता के अनुसार दीपावली ‘लक्ष्मी जयन्ती’ अर्थात् लक्ष्मी के जन्मदिन के रूप में मनाई जाती है। निश्चित ही यह कल्पना अर्वाचीन है, क्यो...
और पढ़ें>>

Friday, October 13, 2017

Saturday, September 9, 2017

Monday, August 14, 2017

Sunday, August 6, 2017

Friday, August 4, 2017

बांध कलाई में राखी बहिना अपना प्यार जताती है

August 04, 2017 10
बहिन विवाहित होकर अपना अलग घर-संसार बसाती है। पति-बच्चे, पारिवारिक दायित्व दुनियादारी में उलझ जाती है।। सतत स्नेह, प्रेम व प्यार की नि...
और पढ़ें>>

Saturday, July 29, 2017

बरखा बहार आयी

July 29, 2017 22
सूरज की तपन गई बरखा बहार आयी झुलसी-मुरझाई धरा पर हरियाली छायी बादल बरसे नदी-पोखर जलमग्न हो गए खिले फूल, कमल मुकुलित बदन खड़े हुए नदियां ...
और पढ़ें>>

Sunday, July 9, 2017

Monday, June 26, 2017

हेमलासत्ता (भाग-2)

June 26, 2017 17
नाई की बात सुनकर खेतासर के लोग बोले- हेमला से हम हार गए, वह तो एक के बाद एक को मारे जा रहा है, बड़े गांव में भी हम लोगों को चैन से नहीं र...
और पढ़ें>>

Monday, June 5, 2017

हेमलासत्ता [भाग- 1]

June 05, 2017 18
एक छोटे से गांव खेतासर में हेमला जाट रहता था। उसके घर में दूध, पूत, धन, धान्य सभी था। सभी तरह से उसकी जिन्दगी सुखपूर्वक कट रही थी। उस...
और पढ़ें>>

Wednesday, May 31, 2017

Monday, May 29, 2017

तानाशाह का काम किसी भी बहाने से चल सकता है

May 29, 2017 15
अनाड़ी कारीगर अपने औजारों में दोष निकालता है। पकाने का सलीका नहीं जिसे वह देगची का कसूर बताता है।। कातना न जाने जो वह चर्खे को दुत्कारने ...
और पढ़ें>>

Friday, April 28, 2017

कब साकार होगा नशा मुक्त देवभूमि का सपना

April 28, 2017 16
जब कोई हमारी प्रकृति की सुरम्य पहाड़ियों की गोद में बसे देवता, ऋषि-मुनियों एवं तपस्वियों की निवास स्थली देवभूमि उत्तराखंड की चर्चाएं मद्यपा...
और पढ़ें>>

Wednesday, March 22, 2017

हम पानी का मोल क्यों नहीं समझ पा रहे हैं?

March 22, 2017 17
 22 मार्च पानी बचाने  का संकल्प, उसके महत्व को जानने  और संरक्षण के लिए सचेत होने का दिन है।   अनुसंधानों से पता चला है  कि विश्व के 1.5 अ...
और पढ़ें>>

Sunday, March 12, 2017