2010 - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

Monday, December 27, 2010

Monday, December 13, 2010

Tuesday, November 30, 2010

Tuesday, November 23, 2010

Saturday, November 13, 2010

Thursday, November 4, 2010

Sunday, October 31, 2010

Thursday, October 21, 2010

मरना आसान लेकिन जीना बहुत कठिन है

October 21, 2010 38
पिछले सप्ताह एक के बाद एक तीन निकट सम्बन्धियों के मृत्यु समाचार से मन बेहद व्यथित है. कभी घर कभी बाहर की दौड़-भाग के बीच दिन-रात कैसे गुज...
और पढ़ें>>

Friday, October 8, 2010

नवरात्रि : भक्ति और शक्ति का उत्सव

October 08, 2010 42
सर्वस्वरूपे सर्वेशे सर्वशक्तिसमन्विते। भयेभ्यस्त्राहि नो देवी दुर्गे देवि नमोsस्तु ते ।। सृष्टिस्थितिविनाशानां शक्तिभूते सनातनि। ...
और पढ़ें>>

Monday, October 4, 2010

Thursday, September 30, 2010

दुष्ट प्रवृत्ति वालों को उजाले से नफरत होती है

September 30, 2010 47
एक जगह पहुंचकर अच्छे और बुरे में बहुत कम दूरी रह जाती है इने-गिने लोगों की दुष्टता सब लोगों के लिए मुसीबत बन जाती है ! दुष्ट   प्रवृत्त...
और पढ़ें>>

Sunday, September 26, 2010

Saturday, September 18, 2010

Friday, September 10, 2010

गणेशोत्सव : सबको भाता गणपति बप्पा

September 10, 2010 43
भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी से शुरू १० दिवसीय ज्ञान, बुद्धि और समृद्धि के प्रथम पूज्य देव गणेश जी के जन्मोत्सव का बड़ों को ह...
और पढ़ें>>

Saturday, September 4, 2010

कौन हो तुम

September 04, 2010 37
कौन हो तुम! पहले पहल प्यार करने वाली शीत लहर सी सप्तरंगी सपनों का ताना-बाना बुनती चमकती चपला सी शरद की चांदनी सी गुलाब की पंखुड़ियों...
और पढ़ें>>

Saturday, August 28, 2010

Sunday, August 15, 2010

बचपन के स्वत्रंत्रता दिवस का वह एक दिन

August 15, 2010 38
शहर की महज औपचारिक दिशा की और निरंतर अग्रसर होती स्वत्रंत्रता दिवस की एक दिवसीय चकाचौध के बीच बचपन में गाँव के स्कूल में मनाये जाने वाले...
और पढ़ें>>

Sunday, August 8, 2010

Sunday, August 1, 2010

Tuesday, July 27, 2010

Monday, July 19, 2010

यूँ ही अचानक कहीं कुछ नहीं घटता

July 19, 2010 52
यूँ ही अचानक कहीं कुछ नहीं घटता अन्दर ही अन्दर कुछ रहा है रिसता किसे फुरसत कि देखे फ़ुरसत से जरा कहाँ उथला कहाँ राज है बहुत गहरा बेवजह...
और पढ़ें>>

Friday, July 2, 2010

Monday, June 7, 2010

Tuesday, June 1, 2010

Saturday, May 22, 2010

Saturday, May 15, 2010