2016 - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

Monday, December 26, 2016

अपने-पराये का भेद

December 26, 2016 21
लाठी मारने से पानी जुदा नहीं होता है। हर पंछी को अपना घोंसला सुन्दर लगता है।। शुभ कार्य की शुरुआत अपने घर से की जाती है। पहले अपने फिर ...
और पढ़ें>>

Saturday, December 17, 2016

कैप्टन राम सिंह राष्ट्रगान के धुन निर्माता

December 17, 2016 14
आजाद हिन्द फौज के सिपाही और संगीतकार रहे कैप्टन राम सिंह ठाकुर ने ही भारत के राष्ट्र गान “जन गण  मन” की धुन बनाई थी। वे मूलतः पिथौरागढ़ जनप...
और पढ़ें>>

Thursday, December 8, 2016

भाग्य हमेशा साहसी इंसान का साथ देता है

December 08, 2016 18
बिना साहस कोई ऊँचा पद प्राप्त नहीं कर पाता है। निराश होने पर कायर में भी साहस आ जाता है।। मुर्गा अपने दड़बे पर बड़ा दिलेर होता है। कुत्ता...
और पढ़ें>>

Wednesday, November 30, 2016

Tuesday, November 8, 2016

Thursday, November 3, 2016

बीते हुए दुःख की दवा सुनकर मन को क्लेश होता है

November 03, 2016 16
बड़े मुर्गे की तर्ज पर छोटा भी बांग लगाता है। एक खरबूजे को देख दूसरा भी रंग बदलता है।। एक कुत्ता कोई चीज देखे तो सौ कुत्ते उसे ही...
और पढ़ें>>

Thursday, October 27, 2016

आई दिवाली आई

October 27, 2016 29
दशहरा गया दिवाली आई हो गई घर की साफ-सफाई व्हाट्सएप्प और फेसबुक पर लोग देने लगे बधाई आई दिवाली आई खुशियों की सौगात लाई देखकर दुकानें ...
और पढ़ें>>

Thursday, October 20, 2016

कारगर है डेंगू का एलोपैथिक के साथ आयुर्वेदिक उपाय

October 20, 2016 20
घर के आसपास पानी जमा न होने, शरीर ढंककर सोने, मच्छरदानी और मास्क्यूटो क्वायल  लगाने, टंकियों व कूलर में जमा पानी हर दिन बदलने से लेकर ...
और पढ़ें>>

Friday, October 7, 2016

भगवती दुर्गा संगठित शक्ति प्रतीक हैं

October 07, 2016 13
मानव की प्रकृति हमेशा शक्ति की साधना ही रही है। महाशक्ति ही सर्व रूप प्रकृति की आधारभूत होने से महाकारक है, महाधीश्वरीय है, यही सृजन-संह...
और पढ़ें>>

Saturday, October 1, 2016

नमक स्वादानुसार नहीं, सेहत अनुसार

October 01, 2016 10
नमक का स्वाद से जितना गहरा रिश्ता है, उतना ही बीमारियों से भी है। भोजन में इसकी अधिक मात्रा तमाम बीमारियों के लिए न्यौता देना है। एकेडमी...
और पढ़ें>>

Sunday, September 25, 2016

गया में श्राद्ध व पिंडदान करना सर्वोपरि क्यों माना जाता है?

September 25, 2016 11
इन दिनों आश्विन कृष्णपक्ष प्रतिपदा से दुर्गा पूजा की पहली पूजा तक समाप्त होने वाले पितृपक्ष यानि पितरों (पूर्वजों) का पखवारा चल रहा है। ...
और पढ़ें>>

Monday, September 19, 2016

Monday, September 5, 2016

राष्ट्र निर्माता और संस्कृति संरक्षक होता है शिक्षक

September 05, 2016 19
शिक्षक को राष्ट्र का निर्माता और उसकी संस्कृति का संरक्षक माना जाता है। वे शिक्षा द्वारा  छात्र-छात्राओं को सुसंस्कृतवान बनाकर उनके अज...
और पढ़ें>>

Thursday, September 1, 2016

Wednesday, August 24, 2016

तीन लोक से मथुरा न्यारी यामें जन्में कृष्णमुरारी

August 24, 2016 19
मथुरा प्राचीनकाल से एक प्रसिद्ध नगर के साथ ही आर्यों का पुण्यतम नगर है, जो दीर्घकाल से प्राचीन भारतीय संस्कृति एवं सभ्यता का केन्द्र रहा ह...
और पढ़ें>>

Saturday, August 13, 2016

Monday, August 8, 2016

हरेक वृक्ष नहीं फलवाला वृक्ष ही झुकता है

August 08, 2016 19
एक पक्ष की नम्रता बहुत दिन तक नहीं चल पाती है। एक बार शालीनता छोड़ने पर वह लौटकर नहीं आती है।। दूध में उफान आने पर वह चूल्हे पर जा गिरता ...
और पढ़ें>>

Monday, July 18, 2016

Tuesday, July 12, 2016

अच्छाई और सद्‌गुण इंसान की असली दौलत होती है

July 12, 2016 9
अच्छाई सीखने का मतलब बुराई को भूल जाना होता है। प्रत्येक सद्‌गुण किन्हीं दो अवगुणों के मध्य पाया जाता है।। बहुत बेशर्म बुराई को भी द...
और पढ़ें>>

Tuesday, June 21, 2016

वर्तमान परिदृश्य में योग की आवश्यकता

June 21, 2016 26
आज के भौतिकवादी युग में एक ओर जहां हम विज्ञान द्वारा विकास की दृष्टि से उन्नति के शिखर पर पहुंच रहे हैं, वहीं दूसरी ओर आध्यात्मिक रूप ...
और पढ़ें>>

Monday, June 13, 2016