आई दिवाली आई - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

गुरुवार, 27 अक्तूबर 2016

आई दिवाली आई

दशहरा गया दिवाली आई
हो गई घर की साफ-सफाई
व्हाट्सएप्प और फेसबुक पर
लोग देने लगे बधाई
आई दिवाली आई
खुशियों की सौगात लाई

देखकर दुकानें दुल्हन सी सजी-धजी
मैं भी सरपट दौड़ी-भागी बाजार गई
खरीद लाई नये लत्ते-कपड़े घर भर के
अब कैसे कहूँ बड़ी कमरतोड़ है महंगाई
देख खुश हुई मुरझाये चेहरों की रौनक
बेरौनक बाजार में रंगत छाई
आई दिवाली आई
खुशियों की सौगात लाई

लगी है घर-दफ्तर की भागम-भाग
पर लक्ष्मी पूजन सामग्री भी लाना है
दीए, खील-बताशे, मिठाई, बम-पटाखे
उफ! लंबी सूची, पकवान भी बनाना है
दीपक बन उजियारा फैलाओ जग में
बात ये बड़े-बुजुर्गो ने है बताई
आई दिवाली आई
खुशियों की सौगात लाई

सबकी अपनी-अपनी दिवाली
सबके अपने-अपने ढँग हैं
धूम-धड़ाका देख तमाशा
जाने छिपे कितने रंग हैं
सबका अपना हिसाब-किताब यहाँ
सीधा हो या जुआड़ी-नशेड़ी भाई
आई दिवाली आई
खुशियों की सौगात लाई


ज्योति पर्व का प्रकाश आप सभी के जीवन को सुख, समृद्धि  एवं वैभव से आलोकित करे, इसी शुभकामना के साथ...... कविता रावत



29 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शुक्रवार 28 अक्टूबर 2016 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  2. सुन्दर ........
    दिवाली की शुभकामना..

    जवाब देंहटाएं
  3. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि- आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (28-10-2016) के चर्चा मंच "ये माटी के दीप" {चर्चा अंक- 2509} पर भी होगी!
    दीपावली से जुड़े पंच पर्वों की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  4. आई दिवाली आई
    खुशियों की सौगात लाई
    आपको भी बधाई,बधाई
    बधाई!

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर ... दिवाली आती है तो सफाई के बहाने बहुत कुछ पुराना भी मिल जाता है ... सबकी अपनी अपनी दिवाली ... आपको भी बहुत शुभकामनायें ...

    जवाब देंहटाएं
  6. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन ’अहिंसक वीर क्रांतिकारी को नमन : ब्लॉग बुलेटिन’ में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

    जवाब देंहटाएं
  7. मेरे साथ भी हुआ है कुछ चीजे इस साल खोई अगले साल मिली....तभी दिवाली की सफाई बहुत जरूरी है सफाई के बहाने बहुत कुछ पुराना भी मिल जाता है .....दीपावली की शुभकामनाएं कविता दीदी

    जवाब देंहटाएं
  8. वाह . बहुत उम्दा,सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति

    मंगलमय हो आपको दीपों का त्यौहार
    जीवन में आती रहे पल पल नयी बहार
    ईश्वर से हम कर रहे हर पल यही पुकार
    लक्ष्मी की कृपा रहे भरा रहे घर द्वार

    जवाब देंहटाएं
  9. सुंदर रचना ।
    दीप-पर्व की शुभकामनाएँ ।

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत अच्छी कविता
    दीपावली की ढेर सारी शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
  11. बहुत अच्छा शब्दचित्र दीप-पर्व का... आपको परिवार सहित शुभकामनाएँ!

    जवाब देंहटाएं
  12. सुन्दर शब्द रचना
    दीपावली की शुभकामनाएं .
    http://savanxxx.blogspot.in

    जवाब देंहटाएं
  13. विलम्बित दीप पर्व की शुभकामनाये।

    जवाब देंहटाएं
  14. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  15. aapko bhi happy diwali.......

    please also visit for Hindi Website

    http://www.achhiadvice.com/

    जवाब देंहटाएं


  16. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार २१ अक्टूबर २०१९ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं

  17. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना हमारे सोमवारीय विशेषांक
    २१ अक्टूबर २०१९ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।,

    जवाब देंहटाएं
  18. बेहतरीन प्रस्तुति।दीपावली की ढेरों शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
  19. वाह!!कविता जी ,बहुत खूबसूरत भावों से भरी रचना । सफाई हो गई ,अब मिठाई की बारी आई 😊 दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं ।

    जवाब देंहटाएं
  20. बहुत सुंदर काव्य सृजन ।
    दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
  21. आम आदमी की भागदौड़ भरी जिंदगी और त्योहार के अवसर पर परिवार के लिए छोटी छोटी खुशियाँ जुटाने की चाह भी, जिम्मेदारी भी। बहुत सुंदर सरल रचना कविता जी।

    जवाब देंहटाएं