आओ मिलकर दीप जलाएं - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

Wednesday, November 7, 2018

आओ मिलकर दीप जलाएं

आओ मिलकर दीप जलाएं
अँधेरा धरा से दूर भगाएं
रह न जाय अँधेरा कहीं घर का कोई सूना कोना
सदा ऐसा कोई दीप जलाते रहना
हर घर -आँगन में रंगोली सजाएं
आओ मिलकर दीप जलाएं.

हर दिन जीते अपनों के लिए
कभी दूसरों के लिए भी जी कर देखें
हर दिन अपने लिए रोशनी तलाशें
एक दिन दीप सा रोशन होकर देखें
दीप सा हरदम उजियारा फैलाएं
आओ मिलकर दीप जलाएं.

भेदभाव, ऊँच -नीच की दीवार ढहाकर
आपस में सब मिलजुल पग बढायें
पर सेवा का संकल्प लेकर मन में
जहाँ से नफरत की दीवार ढहायें
सर्वहित संकल्प का थाल सजाएँ
आओ मिलकर दीप जलाएं
अँधेरा धरा से दूर भगाएं.


Kavita Rawat

19 comments:

प्रकाश गोविंद said...

कभी दूसरों के लिए भी जी कर देखें
हर दिन अपने लिए रोशनी तलाशें
एक दिन दीप सा रोशन होकर देखें
दीप सा हरदम उजियारा फैलाएं
आओ मिलकर दीप जलाएं


बहुत सुन्दर रचना
बहुत सारगर्भित सन्देश

दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं

आज की आवाज

दिगम्बर नासवा said...

न्दर रचना से झिलमिलाता आपका ब्लॉग ............ बहूत सुन्दर रंग

आपको और आपके पूरे परिवार को दीपावली की मंगल कामनाएं .........

निर्मला कपिला said...

जो दूसरोके काम आने की बात करते हैं वो मुझे बहुत अच्छे लगते हैं और खास कर बेटियां। बहुत सुन्दर लिखती हो। लिखती रहो मेरा आशीर्वाद है

Unknown said...

आओ मिलकर दीप जलाएं
अँधेरा धरा से दूर भगाएं
रह न जाय अँधेरा कहीं घर का कोई सूना कोना
सदा ऐसा कोई दीप जलाते रहना
हर घर -आँगन में रंगोली सजा
kavitaji
bahut badiya
mein bhi jalata hun deep
sayad bhage ye andhiyara ...wah

नीलांश said...

bahut sunder...

यशवन्त माथुर (Yashwant Raj Bali Mathur) said...

आपको दीपावली की सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएँ !

कल 23/अक्तूबर/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
धन्यवाद !

Sanju said...

Very Nice Post...
Happy Diwali

प्रभात said...

दिवाली की हार्दिक शुभकामनाएं!

Unknown said...

आपकी इस पोस्ट की चर्चा कल 9/11/2015 को हिंदी चर्चा ब्लॉग पर की जाएगी ।
चर्चा मे आपका स्वागत है ।

Meena sharma said...

बहुत सुंदर रचना। दीपावली की आपको एवं आपके सारे परिवार को हार्दिक शुभेच्छा।

सुशील कुमार जोशी said...

दीपपर्व शुभ हो। मंगलकामनाएं।

Ravindra Singh Yadav said...

नमस्ते,

आपकी यह प्रस्तुति BLOG "पाँच लिंकों का आनंद"
( http://halchalwith5links.blogspot.in ) में
गुरुवार 8 नवम्बर 2018 को प्रकाशनार्थ 1210 वें अंक में सम्मिलित की गयी है।

प्रातः 4 बजे के उपरान्त प्रकाशित अंक अवलोकनार्थ उपलब्ध होगा।
चर्चा में शामिल होने के लिए आप सादर आमंत्रित हैं, आइयेगा ज़रूर।
सधन्यवाद।

शिवम् मिश्रा said...

ब्लॉग बुलेटिन टीम की और मेरी ओर से आप सब को दिवाली की हार्दिक शुभकामनाएं|


ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 07/11/2018 की बुलेटिन, " एक अनुरोध सहित दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं - ब्लॉग बुलेटिन “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

Sweta sinha said...

बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना..
दीपावली की हार्दिक शुभच्छायें।

दिगम्बर नासवा said...

आशा और उम्मीद का पैगाम लिए ... प्रकाश के महत्त्व को मध्य रक्खे हुए .... बहुत ही सुन्दर रचना ...
दीपावली की हार्दिक बधाई और ढेरों शुभकामनायें ...

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' said...

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (09-11-2018) को "भाई दूज का तिलक" (चर्चा अंक-3150) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
पञ्चपर्वों की श्रंखला में
भइया दूज की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

मन की वीणा said...

सुंदर भावों से सजी सुंदर रचना ।

जयन्ती प्रसाद शर्मा said...

बहुत सुंदर रचना।

संजय भास्‍कर said...

ढेरों शुभकामनायें ...