जब से मिले तुम मुझको - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

Wednesday, November 30, 2016

जब से मिले तुम मुझको

जब से मिले तुम मुझको
मेरे ख्याल बदल गए
जीने से बेजार था दिल
तुम बहार बन के आ गए

ख़ुशी होती है क्या जिंदगी में
न थी इसकी खबर मन को
जब से तुम मिले प्यार से
लगता पा लिया गगन को
सूनी फुलवारी में तुम
तुम बहार बन के आ गए
जब से मिले तुम मुझको
मेरे ख्याल बदल गए

दिल की बस्ती में राज तेरा
तुम मुस्कान बन होंठों पर छाए
जब से मिले तुम मुझको
मेरे ख्याल बदल गए
..........................................................

आज वैवाहिक जीवन की 21वीं वर्षगांठ है तो सोचा कुछ लिखती चलूँ .. ऐसे में प्रेम पातियाँ बड़े काम आती हैं  ......कविता रावत

21 comments:

  1. क्या बात है!
    इस तरह से हि दिन महीने साल गुजरते..

    ReplyDelete
  2. शादी के सालगिरह की हार्दिक शुभकामनाएं। प्रेम की सुन्दर अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  3. शादी के सालगिरह की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  4. दिल की बस्ती में राज तेरा
    तुम मुस्कान बन होंठों पर छाए
    जब से मिले तुम मुझको
    मेरे ख्याल बदल गए
    बेहतरीन शब्द कविता जी ! और हाँ , विवाह संस्कार की वर्षगाँठ पर आपको अनंत शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  5. सालगिरह की शुभ कामनाएँ
    सादर

    ReplyDelete
  6. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शुक्रवार 02 दिसम्बर 2016 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  7. शानदार ...
    शादी की वर्षगांठ पर हार्दिक शुभकामनाएं..

    ReplyDelete
  8. बहुत-बहुत बधाई आपको.

    ReplyDelete
  9. वैवाहिक वर्षगांठ पर अनंत शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  10. बहुत ही बढ़िया आर्टिकल है "कविता जी" ... Thanks for this article!! :) :)

    ReplyDelete
  11. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि- आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा आज शुक्रवार (02-12-2016) के चर्चा मंच "

    सुखद भविष्य की प्रतीक्षा में दुःखद वर्तमान (चर्चा अंक-2544)
    " (चर्चा अंक-2542)
    पर भी होगी!
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  12. ढ़ेरों शुभकामनाओं के संग बधाई

    ReplyDelete
  13. ढेरों शुभकामनाएं परिवार को ।

    ReplyDelete
  14. साल-गिरह पर हार्दिक शुभकामनाएं....खूबसूरत रचना!!!

    ReplyDelete
  15. शादी के सालगिरह की हार्दिक शुभकामनाएं...बहुत अच्‍छा लि‍खा है।

    ReplyDelete
  16. सुन्दर प्रस्तुति
    शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  17. सुखमय वैवाहिक जीवन की 21 वर्षगांठ पर आपको बहुत—बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  18. प्रेम जब भी लिखो बाहर ले ही आता है ... बहुत बहुत बधाई २१ वर्ष पूरे होने पर ...

    ReplyDelete
  19. शादी की सालगिरह की हार्दिक बधाइयाँ..

    ReplyDelete
  20. शुभकामनाएँ ।

    ReplyDelete