अपने-पराये का भेद - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

सोमवार, 26 दिसंबर 2016

अपने-पराये का भेद

लाठी मारने से पानी जुदा नहीं होता है।
हर पंछी को अपना घोंसला सुन्दर लगता है।।

शुभ कार्य की शुरुआत अपने घर से की जाती है।
पहले अपने फिर दूसरे घर की आग बुझाई जाती है।।

दूसरे के भरे बटुए से अपनी जेब के थोड़े पैसे भले होते हैं।
समझदार पराया महल देख अपनी झोंपड़ी नहीं गिराते हैं।।

पड़ोसी की फसल अपनी फसल से बढ़िया दिखाई देती है।
बहुधा पराई चीज़ अपनी से ज्यादा आकर्षक नजर आती है।।

जूते में पड़े कंकर की चुभन को कोई दूसरा नहीं जानता है।
कांटा जिसे भी चुभा हो वही उसकी चुभन समझ सकता है।।

अपना सिक्का खोटा हो तो परखने वाले का दोष नहीं होता है।
जो दूसरों का भाग्य सराहता है अपने भाग्य को कोसता है।।


21 टिप्‍पणियां:

  1. दिनांक 27/12/2016 को...
    आप की रचना का लिंक होगा...
    पांच लिंकों का आनंद... https://www.halchalwith5links.blogspot.com पर...
    आप भी इस प्रस्तुति में....
    सादर आमंत्रित हैं...

    जवाब देंहटाएं
  2. लोकोक्ति आधारित सुन्दर कविता है .........

    जवाब देंहटाएं
  3. सच्चाई पहले अपने घर की आग को बुझाना ... कोई गैर नहीं आता ...
    वैसे हर छंद तीखा, सोचने वाला और सत्य की अदायगी है ... बहुत खूब ... नव वर्ष मुबारक हो ...

    जवाब देंहटाएं
  4. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" बुधवार 28 दिसम्बर 2016 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  5. बेहद खूबसूरत रचना
    उम्दा अभिव्यक्ति

    जवाब देंहटाएं
  6. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  7. अपने पराये का भेद ।
    वाह!!!

    जवाब देंहटाएं
  8. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (30-12-2016) को "महफ़ूज़ ज़िंदगी रखना" (चर्चा अंक-2572) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  9. हमेशा की तरह एक और बेहतरीन पोस्ट इस शानदार पोस्ट के लिए धन्यवाद। .... Thanks for sharing this!! :) :)

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत सुंदर.नव वर्ष की शुभकामनाएं !

    जवाब देंहटाएं
  11. बहुत ही उम्दा ...कभी मेरे ब्लॉग पे भी आये तो ख़ुशी होगी https://muskuratealfaz.blogspot.in/

    जवाब देंहटाएं
  12. सुन्दर शब्द रचना
    नव बर्ष की शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
  13. बहुत ही सटीक बात कही है आपने ....

    जवाब देंहटाएं
  14. बहुत ही लाजबाब.
    बलदेव नेगी.

    जवाब देंहटाएं
  15. अति उत्तम !कहावतों का बेजोड़ उपयोग

    जवाब देंहटाएं
  16. बहुत ही अच्छा लेख है

    जवाब देंहटाएं