हुए हम घायल प्यार में तेरे - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

Thursday, November 30, 2017

हुए हम घायल प्यार में तेरे

हुए हम घायल प्यार में तेरे
घायल ही हमको रहने दो
जरूरत नहीं मरहम पट्टी की
घाव दिल पर गहराने दो
मुश्किल से बने हम दीवाने
अब हमें होश में मत लाना
कितना सूकूँ है इस प्यार में
बनकर दीवाना समझ जाना

मिले तुम घायल करने वाले
जरा प्यार की हद गुजरने दो
हुए हम घायल प्यार में तेरे
घायल ही हमको रहने दो

छोड़ दी यदि दीवानगी हमने
तो तुम भी घायल हो जाओगे
सोचना प्यारभरी यादों में डूबकर
बनकर दीवाना कैसे रह पाओगे
अच्छी नहीं ज्यादा दीवानगी
कहता कोई तो कहने दो
हुए हम घायल प्यार में तेरे
घायल ही हमको रहने दो

कल तक बेखबर दिल प्यार से
उसे अब प्यार निभाना सीखना है
रहना है जिस दिल में उसे
गहराई उसकी भी नापना है
पहली प्यार की ये दीवानगी
प्यार की उम्रकैदी बनने दो
हुए हम घायल प्यार में तेरे
घायल ही हमको रहने दो
.................................................
आज वैवाहिक जीवन की 22वीं वर्षगांठ पर पहले पहल प्यार में गुजरे प्रेम पातियों से निकली एक पाती प्रस्तुत है  ......कविता रावत

26 comments:

  1. परिणय पर्व की वर्षगांठ मुबारक हो। प्यार की उम्रकैद उम्रदराज हो। सुंदर 'कविता'!!!

    ReplyDelete
  2. कविता जी, बधाई स्वीकारें, सपरिवार। आने वाला समय और भी शुभ हो।

    ReplyDelete
  3. हार्दिक शुभकामनाएं स्वीकार करें....

    ReplyDelete
  4. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शुक्रवार 01 दिसम्बर 2017 को साझा की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.com पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  5. कल तक बेखबर दिल प्यार से
    उसे अब प्यार निभाना सीखना है
    रहना है जिस दिल में उसे
    गहराई उसकी भी नापना है
    पहली प्यार की ये दीवानगी
    प्यार की उम्रकैदी बनने दो
    हुए हम घायल प्यार में तेरे
    घायल ही हमको रहने दो
    बहुत ही बढिया प्रस्तुति, कविता।
    सालगिरह की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  6. हार्दिक शुभकामनाएँ आदरणीय कविता जी

    ReplyDelete
  7. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (01-12-2017) को खोज रहा बाहर मनुज, राहत चैन सुकून : चर्चामंच 2804 पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन अभिव्यक्ति , मंगलकामनाएं आपको !

    ReplyDelete
  9. अत्यंत सुन्दर भावनायें ! बधाई आपको आपके चर्चित प्रकाशन हेतु

    ReplyDelete
  10. आदरणीय कविता जी -- प्यार की पाती -- बहुत खास है | आपको परिणय बंधन की वर्षगांठ की हार्दिक बढ़ियाँ और मंगलकामनाएं | साथी के साथ आपका प्रेम और शाश्वत बंधन अटूट और अक्षुण हो ईश्वर से यही प्रार्थना है | सपरिवार आप दोनों आनंद विभोर रहें | प्रेम में घायल होने की खुशनसीबी अनंत हो | सस्नेह -----आपकी बहन

    ReplyDelete
  11. आदरणीय कविता जी -- प्यार की पाती -- बहुत खास है | आपको परिणय बंधन की वर्षगांठ की हार्दिक बधाइयाँ और मंगलकामनाएं | साथी के साथ आपका प्रेम और शाश्वत बंधन अटूट और अक्षुण हो ईश्वर से यही प्रार्थना है | सपरिवार आप दोनों आनंद विभोर रहें | प्रेम में घायल होने की खुशनसीबी अनंत हो | सस्नेह -----आपकी बहन

    ReplyDelete
  12. आदरणीय कविता जी
    बेहतरीन अभिव्यक्ति
    आपको परिणय बंधन की वर्षगांठ की हार्दिक मंगलकामनाएं

    ReplyDelete
  13. हार्दिक शुभकामनाएं, कविता जी !
    बहुत ही सुन्दर,दिल की बात....
    प्यार की उम्रकैदी बनने दो....
    वाह!!!!

    ReplyDelete
  14. कल तक बेखबर दिल प्यार से
    उसे अब प्यार निभाना सीखना है
    रहना है जिस दिल में उसे
    गहराई उसकी भी नापना है
    पहली प्यार की ये दीवानगी
    प्यार की उम्रकैदी बनने दो
    हुए हम घायल प्यार में तेरे
    घायल ही हमको रहने दो
    वाह वाह !!!!!!!!!!!!

    ढेरों शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  15. बधाई सहित शुभकामनाएं ... सादर

    ReplyDelete
  16. सादर हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  17. आदरणीय /आदरणीया आपको अवगत कराते हुए अपार हर्ष का अनुभव हो रहा है कि हिंदी ब्लॉग जगत के 'सशक्त रचनाकार' विशेषांक एवं 'पाठकों की पसंद' हेतु 'पांच लिंकों का आनंद' में सोमवार ०४ दिसंबर २०१७ की प्रस्तुति में आप सभी आमंत्रित हैं । अतः आपसे अनुरोध है ब्लॉग पर अवश्य पधारें। .................. http://halchalwith5links.blogspot.com आप सादर आमंत्रित हैं ,धन्यवाद! "एकलव्य"

    ReplyDelete
  18. बाईस वर्षों के लम्बे और प्रेम भरे जीवन की अनत शुभकामनायें ...
    आज के दिन को शब्दों के प्रेम मय वातावरण से आपने शायराना बना दिया ... ढेरों बधाई ...

    ReplyDelete
  19. अच्छी रचना और बहुत बहुत शुभकामनाएं !!!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  20. हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  21. बेहतरीन अभिव्यक्ति ,मंगलकामनाएं आपको !

    ReplyDelete
  22. छोड़ दी यदि दीवानगी हमने
    तो तुम भी घायल हो जाओगे
    सोचना प्यारभरी यादों में डूबकर
    बनकर दीवाना कैसे रह पाओगे
    बेहतरीन, मंगलकामनाएं आपको...

    ReplyDelete
  23. We are urgently in need of kidney donors in Kokilaben Hospital India for the sum of $500,000,00, (3 CRORE INDIA RUPEES) All donors are to reply via Email only: hospitalcarecenter@gmail.com or Email: kokilabendhirubhaihospital@gmail.com
    WhatsApp +91 7795833215
    --------------------------------------------------------------------

    हमें कॉकैलेबेन अस्पताल के भारत में 500,000,000 डॉलर (3 करोड़ रुपये) की राशि के लिए गुर्दे के दाताओं की तत्काल आवश्यकता है, सभी दाताओं को केवल ईमेल के माध्यम से उत्तर देना होगा: hospitalcarecenter@gmail.com या ईमेल: kokilabendhirubhaihospital@gmail.com
    व्हाट्सएप +91 7795833215

    ReplyDelete
  24. We are urgently in need of KlDNEY donors for the sum

    of $500,000.00 USD,(3 CRORE INDIA RUPEES) All donors

    are to reply via the sum of $500,000.00 USD, Email

    for more details: Email: healthc976@gmail.com

    ReplyDelete
  25. हमें तत्काल किडनी डोनर की जरूरत है

    (1 करोड़) की राशि और विदेशी मुद्रा में भी। लागू

    अब! अधिक जानकारी के लिए ईमेल करें: healthc976@gmail.com

    ReplyDelete