होली के गीत गाओ री! - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

Friday, March 22, 2013

होली के गीत गाओ री!

सखि! घर आयो कान्हा मेरे, खुशी से होली मनाओ री।
झूमती हूँ खुशी के मारे, तुम संग-संग मेरे झूमो री।।

उछलती कूदती मचलती, कभी खुशी से झूम उठती,
भूलकर अपना बिच्छोह, पल-पल प्रिय गले लगती।
कभी  प्रिय गले लगती, कभी खुशी के आसूं बहाती,
कभी झूम-झूम, घूम-घूम कर गली-गली घूम आती।।

गली-गली जाकर कहती, तुम संग मेरे झूमो री।
सखि! घर आयो कान्हा मेरे,खूब रंगोली सजाओ री।।

गए जब प्रियतम दूर मुझसे  नित बैचेन रहती थी,
प्रिय मिलन की बेला को, नित आतुर रहती थी।
अब सम्मुख कान्हा मेरे, नजरें उनसे चुराती हूँ,
जताकर प्रेम  उन्हीं से, गीत सुमंगल गाती हूँ।

गा रही हूँ खूब खुशी के मारे, तुम संग मेरे गाओ री।
सखि! घर आयो कान्हा मेरे, खुशी के रंग बरसाओ री।।

आया था बसंत जब, डाली-डाली हरियाली थी,
आकर कोयल आंगन में तब, गीत सुमंगल गाती थी।
फूल खिलते बहारों में, सबके ही मन लुभाती थी,
प्रिय बिनु यह सब तनिक दिल को न भाती थी।।

आया बसंत लौट के, फूलों के रंग में मुझे डुबाओ री।
सखि! घर आयो कान्हा मेरे, खुशी के फाग सुनाओ री।।

घिरकर भादो में काली घटायें, मन विकल कर गई थी,
गरज-गरज कर बरसते बादल, दिल झकझौर करती थी।
निरख दृश्य ऐसे उनकी यादों में खोई-खोई रहती थी,
लेकर आयेंगे होली के रंग, बैचेन दिल को समझाती थी।

लेकर आए वे होली के रंग, तुम भी  मेरे संग रंगो री।
सखि! घर आयो कान्हा मेरे,  होली के गीत गाओ री।।

  होली की हार्दिक शुभकामनायें!
                   ....कविता रावत 





48 comments:

  1. उम्दा होली गीत, आपको भी होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  2. सुन्‍दर होली गीत।

    ReplyDelete
  3. बहुर सुन्दर मन-भावन गीत कविता जी -बधाई इस सुन्दर गीत के लिए
    latest post भक्तों की अभिलाषा
    latest postअनुभूति : सद्वुद्धि और सद्भावना का प्रसार

    ReplyDelete
  4. आया था बसंत जब, डाली-डाली हरियाली थी,
    आकर कोयल आंगन में तब, गीत सुमंगल गाती थी।
    फूल खिलते बहारों में, सबके ही मन लुभाती थी,
    पिय बिनु यह सब तनिक दिल को न भाती थी।।
    very nice kavita ji .happy holi to you.

    ReplyDelete
  5. कविता जी बहुत ही सुन्दर गीत प्रकृति और जीवन को
    झंकृत करता हुआ ,होलो की अग्रिम सुभकामनाएं

    ReplyDelete
  6. होली के गीत गाओ और रंगों में रंग जाओ

    मंगल मिलन की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  7. होली की हार्दिक मंगलकामनाएँ...

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर होली गीत .... होली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  9. bahut sundar geet kavita jee....happy holi...

    ReplyDelete
  10. बहुत शानदार और उम्दा !
    होली की अग्रिम शुभकामनाएँ स्वीकारें !

    जब गीदड़ का लाइसेंस अनपढ़ कुत्तों के आगे काम ना आया

    ReplyDelete
  11. होली के अवसर पर ब्रज की होली के रंग में रंगी होली गीत बहुत सुन्दर लगी ..........................
    आपको भी होली की शुभकामनायें!!!!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर पंक्तियाँ..होली की शुभकामनायें..

    ReplyDelete
  13. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (24-03-2013) के चर्चा मंच 1193 पर भी होगी. सूचनार्थ

    ReplyDelete
  14. होली आई होली आई
    कान्हा के संग खेलें होली
    ग्वाल बाल संग नाचे राधा
    कृष्ण गोपियों की हंसी ठिठोली

    ReplyDelete
  15. आया बसंत लौट के, फूलों के रंग में मुझे डुबाओ री।
    सखि! घर आयो कान्हा मेरे, खुशी के फाग सुनाओ री।।
    बहुत बढियां ,भावपूर्ण चित्रण |

    ReplyDelete
  16. वाह! बहुत ख़ूब! होली की हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  17. आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 27/03/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
  18. गए जब प्रियतम दूर मुझसे नित बैचेन रहती थी,
    प्रिय मिलन की बेला को, नित आतुर रहती थी।
    अब सम्मुख कान्हा मेरे, नजरें उनसे चुराती हूँ,
    जताकर प्रेम उन्हीं से, गीत सुमंगल गाती हूँ।

    होली का मौसम ओर कान्हा की ठिठोली न हो, उसका प्रेम किसी न किसी रूप में न हो ... उसका जिक्र न हो तो होली का त्योहार कहां ... अनुपम भाव लिए मधुर गीत ...
    आपको होली की बहुत बहुत शुभ-कामनाएं ...

    ReplyDelete
  19. खुबसूरत होली को समर्पित रचना...शुभ होलिकोत्सव...आपको...सपरिवार...

    ReplyDelete
  20. उत्कृष्ट सांगीतिक गीत फाग का भाषिक माधुरी स्वर और ताल लिए ब्रज की मिठास लिए .


    बढ़िया रचना फाग पे .मुबारक फाग फाग की रीत ,फाग की प्रीत ,फाग के लठ्ठ फाग . की भंग ,राग और रंग .शुक्रिया ज़नाब की सौद्देश्य टिपण्णी का .

    ReplyDelete
  21. होली की बहुत ही सुंदर रचना, बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर ...
    पधारें " चाँद से करती हूँ बातें "

    ReplyDelete
  23. बहुत ही सुन्दर गीत कविता जी
    आपको होली की बहुत बहुत शुभ-कामनाएं ..

    ReplyDelete
  24. सुन्दर होली गीत. होली की शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  25. बहुत सुन्दर प्यारा होली गीत..........
    Happy HOLI!!!!!

    ReplyDelete
  26. वाह! बहुत सुन्दर होली गीत......... आपको होली की हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  27. बहुत उम्दा सुंदर रचना!!!!!!!!!!!!
    होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  28. आया था बसंत जब, डाली-डाली हरियाली थी,
    आकर कोयल आंगन में तब, गीत सुमंगल गाती थी।
    फूल खिलते बहारों में, सबके ही मन लुभाती थी,
    प्रिय बिनु यह सब तनिक दिल को न भाती थी।।

    आया बसंत लौट के, फूलों के रंग में मुझे डुबाओ री।
    सखि! घर आयो कान्हा मेरे, खुशी के फाग सुनाओ री।।
    बहुत सुन्दर कविता जी!
    ..........................................................................
    रंग भरी मस्ती और ब्रज की होली ...तिस पर होली में राधा और कान्हा का जिक्र न हो ऐसा कैसे हो सकता है
    .....आपको होली की पुरे परिवार सहित अग्रिम शुभकामनायें

    ReplyDelete
  29. होली के गीत हो और श्याम के बिना पूरा हो जाए..पढ़कर आनंद आ गया .सादर

    ReplyDelete
  30. होली मुबारक

    अभी 'प्रहलाद' नहीं हुआ है अर्थात प्रजा का आह्लाद नहीं हुआ है.आह्लाद -खुशी -प्रसन्नता जनता को नसीब नहीं है.करों के भार से ,अपहरण -बलात्कार से,चोरी-डकैती ,लूट-मार से,जनता त्राही-त्राही कर रही है.आज फिर आवश्यकता है -'वराह अवतार' की .वराह=वर+अह =वर यानि अच्छा और अह यानी दिन .इस प्रकार वराह अवतार का मतलब है अच्छा दिन -समय आना.जब जनता जागरूक हो जाती है तो अच्छा समय (दिन) आता है और तभी 'प्रहलाद' का जन्म होता है अर्थात प्रजा का आह्लाद होता है =प्रजा की खुशी होती है.ऐसा होने पर ही हिरण्याक्ष तथा हिरण्य कश्यप का अंत हो जाता है अर्थात शोषण और उत्पीडन समाप्त हो जाता है.

    ReplyDelete
  31. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ...सादर!
    --
    आपको रंगों के पावनपर्व होली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  32. घिरकर भादो में काली घटायें, मन विकल कर गई थी,
    गरज-गरज कर बरसते बादल, दिल झकझौर करती थी।
    निरख दृश्य ऐसे उनकी यादों में खोई-खोई रहती थी,
    लेकर आयेंगे होली के रंग, बैचेन दिल को समझाती थी।
    behad prabhavshali prastuti ke liye aabhar Kavita ji ,

    ReplyDelete
  33. वाह! बहुत ही उत्कृष्ट, बहुत बधाई.
    होली के अवसर पर लिखी मेरी रचनाओं पर भी आपका स्वागत है.
    KAVYA SUDHA (काव्य सुधा): होली
    KAVYA SUDHA (काव्य सुधा): होली नयनन की पिचकारी से

    ReplyDelete
  34. होली की हार्दिक शुभकामनायें!!!

    ReplyDelete
  35. मन को आह्लादित करती यह उमंग बनी रहे!

    ReplyDelete
  36. बहुत ही सुन्दर रचना...
    होली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ...
    :-)

    ReplyDelete

  37. होली की हार्दिक शुभकामनायें!!!

    ReplyDelete
  38. बहुत सुन्दर...होली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete

  39. बहुत खूब .सुन्दर प्रस्तुति. आपको होली की हार्दिक शुभ कामना .



    ना शिकबा अब रहे कोई ,ना ही दुश्मनी पनपे गले अब मिल भी जाओं सब, कि आयी आज होली है प्रियतम क्या प्रिय क्या अब सभी रंगने को आतुर हैं हम भी बोले होली है तुम भी बोलो होली है .

    ReplyDelete
  40. उमंग भरा होली गीत -मिलन के चटख रंग से सराबोर

    ReplyDelete
  41. वाह क्या बात है! बहुत सुन्दर!

    ReplyDelete
  42. लेकर आए वे होली के रंग, तुम भी मेरे संग रंगो री।
    सखि! घर आयो कान्हा मेरे, होली के गीत गाओ री।।

    बहुत सुंदर गीत.
    आपको भी होली की हार्दिक शुभकामनाये.

    ReplyDelete
  43. आया था बसंत जब, डाली-डाली हरियाली थी,
    आकर कोयल आंगन में तब, गीत सुमंगल गाती थी।
    फूल खिलते बहारों में, सबके ही मन लुभाती थी,
    प्रिय बिनु यह सब तनिक दिल को न भाती थी।।
    ...............बहुत-बहुत सुन्दर गीत!!

    ReplyDelete
  44. सुन्दर गीत ..!!!

    ReplyDelete