लोकतंत्र का महोत्सव - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

शुक्रवार, 25 अप्रैल 2014

लोकतंत्र का महोत्सव

जब से चुनाव आयोग ने लोकतंत्र का चुनावी बिगुल बजाया, तब से कविवर पदमाकर के वसंत ऋतु की तरह ‘कूलन में केलि में कछारन में कुंजन में, क्यारिन में कलिन में कलीन किलकंत है, कहे पद्माकर परागन में पौनहू में, पानन में पीक में पलासन पगंत है, द्वार में दिसान में दुनी में देस.देसन में, देखो दीप.दीपन में दीपत दिगंत है, बीथिन में ब्रज में नवेलिन में बेलिन में, बनन में बागन में बगरयो बसंत है' की तर्ज पर इन दिनों गाँव की चौपाल, खेत-खलियान से लेकर शहर की गली-कूचों में, घर-परिवार में, हाट-बाजार में, पान-गुटके की गुमठियों में, चाय की दुकान-ठेलों में, होटल-रेस्टोरेन्ट में, स्कूल-कालेज में, बस में, हवाई जहाज में, ट्रेन में, पार्क में, पिकनिक में, शादी-ब्याह में, सरकारी-गैर सरकारी दफ्तरों में, रेडियो-टीवी में, समाचार पत्र-पत्रिकाओं में, टेलीफोन-मोबाइल में, इंटरनेट में, धार्मिक अनुष्ठानों में, पढ़े-लिखे हो या अनपढ़, गरीब हो या अमीर, व्यापारी हो या किसान, नौकरीपेशा हो या बेरोजगार, जवान हो या बुजुर्ग हर किसी पर लोकतंत्र के महोत्सव का रंग सिर चढ़कर बोल रहा है।
पाँच वर्ष में एक बार लगने वाले इस महोत्सव में लोकतंत्र के बड़े-बड़े जादूगर अपनी-अपनी जादुई छडि़यों से देश में व्याप्त बेरोजगारी, भुखमरी, महंगाई, भ्रष्टाचार को दूर भगाने के लिए ऐसे करतब दिखा रहे है, जिसे देखते ही अच्छे से अच्छा जादूगर भाग खड़ा हो जाय। जनता जनार्दन को राजनीति के अभिनय का ऐसा जौहर देखने को मिल रहा है, जिसे कोई बड़े से बड़ा अभिनेता भी नहीं निभा सकता है। नौटंकियों का सुन्दर अभूतपूर्व दुर्लभ समागम एक साथ देखने का आनन्द भी जनता को मिल रहा है।  इस महोत्सव में लोकतंत्र के महारथी जो सुनहरे सपने दिखा रहे हैं, उनमें जनता का मन खूब रमा हुआ है।
इधर महोत्सव में समुद्र मंथन जारी है, जिसके भाग्य में लक्ष्मी होगी उनके दिन सुदामा की तरह कुछ इस तरह फिरने में देर नहीं लगनी वाली-
“कै वह टूटी सी छानि हुती कहँ। कंचन के सब धाम सुहावत।
कै पग में पनही न हती कहँ। लै गजराजहु ठाडे महावत।।
भूमि कठोर पै रात कटै कहँ। कोमल सेज पै नींद न आवत।
कै जुरतो नहिं कोदों सवाँ, प्रभु के परताप ते दाख न भावत।।“
  उधर जिनके भाग्य में विषपान लिखा होगा, वे या तो “सदा न फूले तोरई, सदा न सावन होय। सदा न जीवन थिर रहे, सदा न जीवै कोय"की तर्ज पर 5 साल तक चुप रहेंगे या फिर कविवर बिहारी की ग्रीष्म ऋतु की कल्पना की तरह 'जब ग्रीष्म का प्रकोप प्राणियों को व्याकुल कर देता है तो वे सुध-बुध खोकर पारस्परिक राग-द्वेष भी भूल जाते हैं। परस्पर विरोधी स्वभाव वाले जीव एक दूसरे के समीप पड़े रहते हैं, किन्तु उन्हें कोई खबर नहीं रहती।’ इस तरह की तपोवन जैसी स्थिति में मिलेंगे-“कहलाने एकत बसत, अहि, मयूर, मृग बाघ, जगत तपोवन सो कियो, दीरघ दाघ निदाघ“।
लोकत्रंत के महारथी राजनेता "जो डूबे सो ऊबरे, गहरे पानी पैठ" की तरह लगे हुये हैं तो हम आम जनता की तरह अपने मतदान फर्ज निभाकर "मैं बपूरा बू़ड़न डरा, रहा किनारे बैठ" की तर्ज पर लोकतंत्र के इस महोत्सव में तमाशबीन बनकर एक तरफ मिथ्याओं पर धर्म का मुलम्मा चढ़ते तो दूसरी तरफ सच्चाई से ईमान को निचुड़ते देख अकबर इलाहाबादी को याद कर रहे हैं-
 "नयी तहजीब में दिक्कत, ज्यादा तो नहीं होती
मजहब रहते हैं, कायम, फकत ईमान जाता है।"

..... कविता रावत

30 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया....सामयिक आलेख,...

    सादर
    अनु

    जवाब देंहटाएं
  2. नयी तहजीब में दिक्कत, ज्यादा तो नहीं होती
    मजहब रहते हैं, कायम, फकत ईमान जाता है।
    आज भी सच है इलाहाबादी का यह शेर ..........
    सटीक चुनावी चित्रण .....

    जवाब देंहटाएं
  3. इस महापर्व का पूरा खाका खीँच दिया...

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सामयिक...चुनावी महापर्व का सार्थक व सटीक विश्लेषण, बधाई...

    जवाब देंहटाएं
  5. कूलन में केलि में कछारन में कुंजन में, क्यारिन में कलिन में कलीन किलकंत है, कहे पद्माकर परागन में पौनहू में, पानन में पीक में पलासन पगंत है, द्वार में दिसान में दुनी में देस.देसन में, देखो दीप.दीपन में दीपत दिगंत है, बीथिन में ब्रज में नवेलिन में बेलिन में, बनन में बागन में बगरयो बसंत है'...........................
    वाह! साहित्यिक अंदाज में लोकतंत्र के महोत्सव का खूब रंग जमाया है आपने कविता जी!
    अतीव सुन्दर !! हम भी रंग गए लोकतंत्र के महोत्सव के इस रंग में। …………

    जवाब देंहटाएं
  6. लोकतंत्र का डांस इंडिया डांस महोत्सव।

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत ही उम्दा पंक्तियाँ चुनी है आपने। खासकर कविवर पद्माकर की बसंत पर जो पंक्तियाँ लिखी है-वो पढ़े बनता है!
    साथ ही सार्थ, सुन्दर आलेख!
    सादर
    मधुरेश

    जवाब देंहटाएं
  8. कहलाने एकत बसत, अहि, मयूर, मृग बाघ,
    जगत तपोवन सो कियो, दीरघ दाघ निदाघ“।

    १६ मई के बाद जब तीखी गर्मी पड़ेगी तब यही होना है एक ही घाट में सब पानी पीते नज़र आएंगे
    ...चुनावी महापर्व पर सुन्दर सामयिक आलेख .....

    जवाब देंहटाएं
  9. ईमान बचा हो जहाँ वही तो जायेगा
    कितना कहाँ पानी है अब कुँआ आ कर ही बतायेगा :)

    बहुत सुँदर विश्लेषण ।

    जवाब देंहटाएं
  10. साहित्य कि भाषा में ही आपने सही और सटीक टीका किया है इस महापर्व पर ...
    अब तो बस लोगों के फैंसले का समय और इंतज़ार है ...

    जवाब देंहटाएं
  11. प्रजातंत्र का सांस्कृतिक नृत्य प्रस्तुत कर दिया आपने प्रबंध शैली में मध्यकालीन कवियों के झरोखे से। बेहतरीन प्रस्तुति।

    जवाब देंहटाएं
  12. सटीक लिखा है आपने। साधुवाद।

    जवाब देंहटाएं
  13. chunaao jaise neeras vishay mein sahitya ka achchha misran karke rochak samgree di hai !

    जवाब देंहटाएं
  14. बहुत सुँदर विश्लेषण महोत्सव का खूब रंग जमाया है

    जवाब देंहटाएं
  15. नयी तहजीब में दिक्कत, ज्यादा तो नहीं होती
    मजहब रहते हैं, कायम, फकत ईमान जाता है।
    सच्चाई और ईमानदारी के मायने नहीं रहे अब ..
    बहुत बढ़िया....
    सामयिक आलेख......

    जवाब देंहटाएं
  16. बेहतरीन सामयिक आलेख !!
    मतदान करना सबसे जरूरी !!

    जवाब देंहटाएं
  17. सटीक, सामयिक आलेख ! बहुत बढ़िया !

    जवाब देंहटाएं
  18. लोकतंत्र के इस महापर्व में कई सुदामा ओबामा जैसे बनेंगे तो कई सूरमा सुरमा जैसे बिखर भी जाएंगे ।

    निबंध का लालित्य प्रशंसनीय है ।

    जवाब देंहटाएं
  19. स्वस्थ, समृद्ध और सशक्त भारत के लिए सक्षम नेतृत्व को ही चुने ...........सार्थक सन्देश
    सुन्दर सामयिक आलेख

    जवाब देंहटाएं
  20. सटीक एवं समसामयिक आलेख ... लेखन भी अत्यंत प्रभावी..

    जवाब देंहटाएं
  21. लोकतंत्र के महोत्सव को कविता और
    मुहावरों के साथ अनुपम संगम करके
    बहुत ही रोचक शैली में प्रस्तुत किया है आपने.

    सुन्दर कवितामय प्रस्तुति के लिए आभार कविता जी.

    जवाब देंहटाएं
  22. उम्दा प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@मतदान कीजिए
    नयी पोस्ट@सुनो न संगेमरमर

    जवाब देंहटाएं