संवेदनाओं का सामाजिक मंच : ब्लॉग चर्चा - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

Monday, February 2, 2015

संवेदनाओं का सामाजिक मंच : ब्लॉग चर्चा

31 जनवरी 2015 को समाचार पत्र पत्रिका के साप्ताहिक परिशिष्ट me.next के नियमित स्तंभ web blog में मेरे ब्लॉग के बारे में लिखा था, जिसे इसी दिन नगरपालिका के चुनाव में ड्यूटी लगने के कारण रात्रि 10 बजे पढ़ने का मौका मिला, जिसे पढ़कर मन को बहुत अच्छा लगा।  31 जनवरी 2015 को मुझे चुनाव ड्यूटी का पहला अनुभव प्राप्त हुआ, इस विषय में जल्दी ही अगली पोस्ट लिखूँगी तब तक के लिए पत्रिका द्वारा प्रकाशित लेख की कतरन सादर प्रस्तुत है .....
    


20 comments:

dr.sunil k. "Zafar " said...

बहुत बहुत बधाई।

संजय भास्‍कर said...

आपको बहुत-बहुत बधाई और शुभकामनाएँ कविता जी ।

vijay said...

आपका लेखन प्रभावपूर्ण है....
पत्रिका ने आपके ब्लॉग के बारे में बहुत अच्छा लिखा....
प्रकाशन पर हार्दिक बधाई!

Himkar Shyam said...

ख़ुशी हुई...हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ

mohan intzaar said...

बहुत बधाई आप को ....शुभकामनाएँ

Anonymous said...

बहुत-बहुत आपको बधाई हो . आप को जान कर ख़ुशी होगी की मेरे भी दो लेख दैनिक भास्कर के पटना एडिशन के db स्टार में 22/12/2014 और 12 जनवरी 2015 को छपे है , मुझे तो आज पता चला वो भी गूगल पर सर्च करने के बाद ... मेरे पास तो असली प्रिंटिंग अखबार भी नहीं है लेकिन ई-पेपर के लिंक अभी भी ऑनलाइन मौजूद है . . . इन दोनों के लिंक यह है 22 दिसम्बर को छपे लेख का लिंक यह है. और 12 जनवरी 2015 को छपे लेख का लिंक यह है . आप भी देखे. मुझे पता है की अखबार में लेख छपने की ख़ुशी का क्या अहसास होता है क्योंकि वह ख़ुशी आज मैं भी महसूस कर रहा हूँ. आपको बहुत-बहुत बधाई हो और आपको तहे दिल से हार्दिक शुभकामनाये....

Unknown said...

आपको बहुत बहुत बधाई !
गोस्वामी तुलसीदास

Arogya Bharti said...

बहुत-बहुत बधाई!

Unknown said...

हार्दिक बधाई!

वन्दना अवस्थी दुबे said...

वाह...बधाइयां.

RAJ said...

Congratulation!

HARSHVARDHAN said...

बहुत - बहुत बधाई। सादर।।

नई कड़ियाँ :- नेत्रहीनों की भाषा (ब्रेल लिपि) का जनक - लुईस ब्रेल

समर्पित योद्धा कवि का अवसान - डॉ. रवींद्र चतुर्वेदी (पंडित माखनलाल चतुर्वेदी जी की पुण्यतिथि पर विशेष)

राजीव कुमार झा said...

बहुत-बहुत बधाई !

अर्चना तिवारी said...

बहुत-बहुत बधाई कविता जी

डॉ. मोनिका शर्मा said...

बधाई , आपका ब्लॉग यकीनन पठनीय है ।

Unknown said...

बहुत बधाई आप को ....शुभकामनाएँ इसी प्रकार आपकी कहानियाँ समाचार-पत्र व पत्रिका में प्रकाशित होती रहें
http://savanxxx.blogspot.in

Manoj Kumar said...

बहुत बहुत बधाई

Anonymous said...

मेरी तरफ से बधाई स्वीकार करे...
मेरे ब्लॉग पर आप सभी लोगो का हार्दिक स्वागत है.

Anil Sahu said...

कविता जी, बहुत-बहुत बधाई हो आपको. मैंने पत्रिका में उसी दिन सुबह ये लेख पढ़ लिया था. मुझे बहुत प्रसन्नता हुई कि मैं जिस ब्लॉग को पढ़ रहा हूँ वो अब Popular हो रहा है.

Unknown said...

बहुत-बहुत बधाई!