हम भाँति-भाँति के पंछी हैं - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

सोमवार, 25 जनवरी 2016

हम भाँति-भाँति के पंछी हैं

हम भाँति-भाँति के पंछी हैं पर बाग़ तो एक हमारा है
वो बाग़ है हिन्दोस्तान हमें जो प्राणों से भी प्यारा है
हम  हम भाँति-भाँति के पंछी ………………………

बाग़ वही है बाग़ जिसमें तरह-तरह की कलियाँ हों
कहीं पे रस्ते चंपा के हों कहीं गुलाबी गलियाँ हों
कोई पहेली कहीं नहीं है, सीधा साफ़ इशारा है
हम  हम भाँति-भाँति के पंछी ………………………

बड़ी ख़ुशी से ऐसे-वैसे इकड़े तिकड़े बोलो जी
लेकिन दिल में गिरह जो बाँधी  है वो पहले खोलो जी
सुर में चाहे फर्क हो फिर भी इक  तारा इक तारा
पंजाबी या बंगाली मद्रासी या गुजराती हो
प्रीत की इक बारात है यह हम सबके साथी हो
भेद या बोली कुछ भी हो हम एक शमां  के परवाने
आपस में तकरार करें हम ऐसे तो नहीं दीवाने
मंदिर मस्जिद गिरजा अपना, अपना ही गुरुद्वारा है
हम  हम भाँति-भाँति के पंछी ……………………… 
                                                      …राजेन्द्र कृष्ण

सभी ब्लोग्गर्स एवं पाठकों को गणत्रंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं!

30 टिप्‍पणियां:

  1. अनेकता में एकता, यह हिन्द की विशेषता...

    जवाब देंहटाएं
  2. आपने लिखा...
    और हमने पढ़ा...
    हम चाहते हैं कि इसे सभी पढ़ें...
    इस लिये आप की रचना...
    दिनांक 26/01/2016 को...
    पांच लिंकों का आनंद पर लिंक की जा रही है...
    आप भी आयीेगा...

    जवाब देंहटाएं
  3. अनेकता में एकता
    सुन्दर गीत ...

    जवाब देंहटाएं
  4. अति सुन्दर ...
    आपको भी गणत्रंत्र दिवस की शुभकामनाए.......!

    जवाब देंहटाएं
  5. आपकी पोस्ट का लिंक कल के चर्चा मच पर भी है।
    गणतन्त्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।

    जवाब देंहटाएं
  6. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, " ६७ वें गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति जी का संदेश " , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    जवाब देंहटाएं
  7. जय हिंद। गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर रचना । गणतंत्र दिवस की शुभकामनायें ।

    जवाब देंहटाएं
  9. तभी तो इसे भारतवर्ष कहते हैं।

    जवाब देंहटाएं
  10. हमारे देश की यही तो विशिष्टता है ।

    जवाब देंहटाएं
  11. उम्दा और बेहतरीन रचना.....बहुत बहुत बधाई.....

    जवाब देंहटाएं
  12. इन्द्रधनुष सी हमारी पहचान पर मिल के सब एक रहें तो भारत चमकेगा ... सुंदर रचना ...

    जवाब देंहटाएं
  13. कविता जी, भिन्न भाषा, भिन्न पहनावा और भिन्न पहनावा ऐसी ढ़ेर सारी भिन्नताओं के बावजुद भी मेरा भारत एक है। इसे बहुत ही सुंदर तरीके से प्रस्तुत किया है आपने।

    जवाब देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर और सार्थक रचना...

    जवाब देंहटाएं
  15. बहुत सुन्दर और सार्थक रचना...

    जवाब देंहटाएं
  16. राष्ट्र प्रेम से ओतप्रोत। बहुत बढ़िया।

    जवाब देंहटाएं
  17. बहुत सुंदर और सारगर्भित रचना

    सादर

    जवाब देंहटाएं
  18. हार्दिक शुभकामनाएँ ।

    जवाब देंहटाएं
  19. बहुत अच्छा गीत । प्रस्तुति के लिए आभार एवं अभिनंदन कविता जी ।

    जवाब देंहटाएं
  20. कितना अच्छा हो की सब ये बात समझें और प्राण लें देश को खुश-हाल बनाने का ...
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाई ...

    जवाब देंहटाएं
  21. यहीं हैं भारत की सुन्दरता
    सुन्दर शब्द रचना
    गणत्रंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं!

    जवाब देंहटाएं