पोकेमॉन चक्र - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

Thursday, December 19, 2019

पोकेमॉन चक्र

“अप्रैल की सुहानी सुबह फूलों की खुशबू और आकाश में चमकते सूरज के साथ सभी प्यारे पोकेमाॅन हो, तब बच्चों के अपने नए पोकेमाॅन को चुनने के लिए यह एक आनंददायक आदर्श दिन है।“ गोस्वामी जी ने आराम की थाह लेते हुए कहा। 
“आप सही कह रहे हैं, मिस्टर पीयूष! आखिरकार एक लम्बे इंतजार के बाद बच्चों को अपने पोकेमाॅन मिल सकते हैं।“ प्रोफेसर देवदार ने कहा। “देखो! वे वहाँ हैं।“ कई बच्चे वन विहार वन क्षेत्र के मुख्य द्वार के सामने एकत्र हो गए।
प्रभाव के साथ सैम और मणि ने प्रवेश किया। “डैनी कहाँ है?“ मणि ने पूछा तो प्रभाव ने उत्तर दिया’ “वह तो हमसे पहले यहाँ आने वाला था। उसे देर हो गई होगी।“ सैम ने थोड़े गुस्से से कहा, “टिंगू देर रात तक पबजी खेल रहा होगा और समय पर नहीं उठा होगा।“ “वह जरूर ट्रेफिक में फँसा होगा।“ मणि ने चिन्ता व्यक्त की। “हाँ, रास्ते में बहुत ट्रेफिक है, क्योंकि कुछ जाने-माने लोग यहाँ झील देखने आ रहे हैं।“ प्रभाव ने कहा। जैसे-जैसे समय बीता और अधिक उत्साही बच्चे एकत्रित हो गए।
तब श्रीमान पीयूष मंच पर आए और उन्होंने घोषणा की, “भविष्य के माहिर पोकेमाॅन खिलाड़ियो! ध्यान दें, वन विहार वन्यक्षेत्र में आपका हार्दिक स्वागत है। आज आप सभी को अपना पहला दूसरा और तीसरा पोकेमाॅन पकड़ने को मिलेगा। मैं जानता हूँ कि आप सभी उत्सुक हैं अपने सफर के लिए, चिन्ता न करें, मैं भी हूँ।“ “आप क्यों उत्सुक हो रहे हैं?“ प्रोफेसर ने टोका। “ठीक है, जैसा कि आप सभी जानते हैं कि मैं कौन हूँ,“ जैसे ही उन्होंने ऐसा कहा पीछे से कोई चिल्लाया, “नहीं, बुड्ढे! तुम कौन हो?“ सब लोग हँसने लगे।
“वह कौन हो सकता है?“ प्रभाव ने कहा। “हाँ सचमुच, वह बूढ़ा कौन है?“ सैम ने प्रश्न किया। मणि ने उसके सिर के पीछे धीरे से हाथ मारते हुए कहा, “अरे बेवकूफ वह प्रोफेसर देवदार है, जो इस क्षेत्र के एक प्रसिद्ध प्रोफेसर हैं।“ और साथ ही प्रभाव उस व्यक्ति के बारे में बात कर रहा था, जो बीच में बोला था। “क्या कहा?“ सैम ने पूछा। “यह कि वे कौन हैं, जो श्रीमान पीयूष के साथ मंच पर हैं?“ 
तभी अपने हाथों में यान्मा लेकर प्रणाली उनके पास आई। “तो आखिर तुम आ ही गई, लेकिन तुमने इस यान्मा को अपने हाथों में क्यों ले रखा है। “ प्रभाव ने पूछा तो प्रणाली ने पूरी कहानी बताई, “वास्तव में मैंने इसे अपने बगीचे में बुरी तरह से घायल पाया। कुछ बीड्रील इसे परेशान कर रहे थे, इसलिए मैंने इसकी रक्षा की और अपने घर ले आयी और इसे ठीक किया, क्योंकि मैं इसे पोकेमाॅन सेंटर नहीं ले जा सकी और मैंने इसे ठीक कर दिया तो यह मेरा दोस्त बन गया। इसलिए मैं श्रीमान पीयूष जी से पूछने जा रही हूँ कि क्या मैं यान्मा को मेरे पहले पोकेमाॅन के रूप में ले सकती हूँ?“  “अच्छा, यह अच्छी बात है, क्यों सैम .... सैम“। मणि सैम की ओर मुड़ा और बोला, वह व्यक्ति तो प्रणाली को घूरने में लगा है। उसने फिर कहा, “हाँ बिल्कुल।“ प्रभाव ने उसके कान दूसरी ओर मरोड़े तो वह दर्द से चीखा, लेकिन वह जल्दी ही सामान्य स्थिति में लौट आया। आस-पास सभी हँसने लगे।  
“ठीक है, बच्चो! टीम को तैयारी करने में अभी दस मिनट और लगेंगे। तब तक आप सभी अपने दोस्तों के साथ बातचीत कर सकते हैं, तय करें कि आप कौन से पोकेमाॅन को पकड़ेंगे, रणनीति बनाएं और अन्य दूसरी तैयारी कर लें।“ वन विहार वन्य क्षेत्र के प्रमुख श्रीमान आकाश मित्तल ने घोषणा की। 
जब वे सभी डैनी के आने की प्रतीक्षा कर रहे थे, तब सैम ने प्रभाव के कंधे को झटकाया और एक लड़की की ओर इशारा करते हुए कहा- “अरे! क्या वह नागिन तो नहीं है, जिनसे हम कुछ दिन पहले मिले थे? आओ उसे देखें! वह कहीं फिर से वही तो नहीं कर रही ........“ वह बोले जा रहा था तभी प्रभाव ने उसे पीछे से धक्का मारा तो वह जमीन पर गिर गया। “फिर भी, तुम उसे देखकर शरमा गए, भले ही तुमने मुझे नीचे गिरा दिया।“ वह बोला। तब प्रभाव ने कहा, “वह क्या था?“ “कुछ भी तो नहीं।“ सैम ने अपने कपड़ों से धूल झाड़ते हुए कहा।
“वह अभी भी यहाँ नहीं है। मुझे उम्मीद है कि वह कार्यक्रम शुरू होने से पहले आ जाएगा।“ मणि ने तनाव में कहा। “मुझे उम्मीद है कि वह जल्द ही आ जाएगा। वैसे मुझे यान्मा के बारे में पूछने के लिए श्रीमान पीयूष जी के पास जाने की जरूरत है।“ प्रणाली बोली। “शुभकामनाएं।“ सैम चिल्लाया। वह फिर श्रीमान गोस्वामी के पास जाती है। दस मिनट बीत गए। डैनी प्रभाव और अन्य लोगों की ओर आते हुए हाँफकर बोला, "माफ करना दोस्तो! मुझे आने में देर हो गई। क्या कार्यक्रम शुरू हो गया है?“ “नहीं“ सैम ने उत्तर दिया। “मैंने तुझे कितनी बार कहा है कि तुम देर रात तक पबजी नहीं खेला करो। खैर अब तुम पहुंच गए हो तो यहीं रहना। श्रीमान आकाश जी ने कहा है कि वे हमारे लिए अभी मैदानी तैयारी कर रहें है, इसलिए उन्हें पांच मिनट और लगेंगे। तुम ठीक समय पर आए हो।“ मणि ने कहा।
“आप सभी को इंतजार कराने के लिए मुझे खेद है।“ आकाश ने मंच पर आते ही कहना शुरू किया, हालांकि, हमारी सभी तैयारी हो चुकी हैं। अब आपको सबसे पहले अपने स्कूल आईडी कार्ड से खुद को वैरीफाई करना होगा। उसके बाद संस्था आपको पोकेबाॅल और रखने के लिए डिब्बा देगी। जैसे ही आप एक पोकेमाॅन को पकड़ेते हैं, आपको उसे डिब्बे में रखना है और हम आपके नाम से उस पोकेमाॅन को पंजीकृत करेंगे  और आपको उस पोकेमाॅन के बारे में विवरण देंगे। तीन पोकेमाॅन को पकड़ने के बाद हम आपको एक संदेश देंगे। अगर यह खो जाता है या टूट जाता है तो आप हमसे या आपके आसपास के व्यक्ति के माध्यम से हमारी मदद् ले सकते हैं। और .....
“हाँ, जो भी हो। यह शुरू करो, क्या हमें हमेशा के लिए यहाँ सड़ना होगा?“ प्रोफेसर को अपमानित करने वाला प्रतिभागी बोला। “हाँ यकीन है कि वे शुरू करने जा रहे हैं मुझे आशा है कि तुम तब तक सड़ोगे नहीं, जब तक तुमसे बहुत खराब गंध नहीं आ जाती और सभी पोकेमाॅन इसे सूंघ भाग नहीं जाते।।“ सैम ने चुटकी ली तो सभी लोग हँस पड़े। 
“अच्छा तो अब आप सभी जा सकते हैं। लेकिन वहाँ इस बात का जरूर ध्यान रखें कि आपको तीन पोकेमाॅन ही पकड़ने हैं और अन्य किसी भी पोकेमाॅन को चोट नहीं पहुंचाना है। आप सभी को शुभकामनाएं।“ श्रीमान पीयूष बोले। 
जैसे ही घोषणा हुई, सभी बच्चे पंजीकरण केन्द्र की ओर दौड़े पड़े। सैम, मणि, डैनी और प्रभाव ने अपना पंजीकरण करवाया और उन्हें एक गाइड बुक भी दी गई। “उसने हमें गाइड बुक पुस्तक के बारे में पहले क्यों नहीं बताया?“ सैम नाराज होते हुए बोला तो प्रभाव ने कहा, “क्योंकि किसी मूर्ख व्यक्ति को बीच में टोकना था।“ “हाँ, वह मूर्ख होगा।“ सैम ने हँसते हुए कहा।
“चलो देखते हैं कि कहाँ जाना है ....मैं झील पर जा रहा हूँ, कोई मेरा साथ देगा?“ डैनी ने कहा। “हाँ, मैं दूंगा।“ प्रभाव ने कहा, “मैं बेर उद्यान जाना चाहता हूं और झील भी उसके नजदीक है, इस तरह से मैं तुम्हारा साथ दूंगा। क्या तुम झील की खोजबीन के बाद मेरे साथ आओगे? “मैं कुछ इलेक्ट्रिक और स्टील टाइप पोकेमाॅन्स को ढूंढ़ने के लिए चुम्बकीय धरा जाऊंगा।“ तभी बीच में सैम बोला, “मैं भी तुम्हारे साथ चलूंगा, क्या पता मुझे वहाँ एक जोराओरा मिल जाए।“ मणि ने कहा, “बस चुप रहो, यहां उसका मिलना असंभव है।“ “ठीक है, उसके बाद हम गुफा में मिलेंगे। यह चुम्बकीय धरा और बेर उद्यान के रास्ते के बीच में आता है। मुझे यकीन है कि हम वहां कुछ घोस्ट, डार्क, राॅक और ग्राउण्ड  पोकेमाॅन्स को ढूंढ़ सकते हैं।“ प्रभाव ने कहा।
“ठीक है, हम भी चलते हैं। अलविदा दोस्तो, हम दोनों तुमको गुफा के सामने मिलेंगे। “डैनी ने कहा। “अलविदा बेस्ट ऑफ  लक।“ मणि ने कहा और सब चल दिए।
प्रभाव और डैनी झील पर पहुंचे। “हम्म ....अरे वह देखो!“ डैनी उत्साहित हुआ, झील में चट्टान के ऊपर वह चीज? क्या यह गिब्बल नहीं लगती?“ हैं, कहाँ?“ झील की ओर देखते हुए प्रभाव बोला। “यह एक गिब्बल है। “वाह! मैं अपने पहले पोकेमाॅन के लिए यही चाहता था। अब मैं इसके लिए अपना पोकेबाॅल फेंकने जा रहा हूँ।“ डैनी ने जेब से एक पोकेबाॅल निकालकर गिब्बल सी दिखती चीज को लक्ष्य बनाते हुए उत्साहित होकर कहा तो प्रभाव ने गाइड बुक में देखा और चिल्लाया, “रुको।“ लेकिन अफसोस, डैनी पहले ही उत्साहित होकर पोकेबाल फेंक चुका था। वह चीज, जो कि एक गिब्बल लग रही थी, वास्तव में चट्टानों का ढे़र था। गेंद चट्टान के ऊपर टकराई और फिर झील में गिर गई। “क्या?“ डैनी रोने लगा। वह अपना विलाप जारी रखते हुए बड़बड़ाने लगा, “मुझे लगा कि मैं अपने पहले पोकेमाॅन के रूप में एक गिब्बल प्राप्त करने जा रहा हूँ।“  
“एक तालाब के बीच इसे प्राप्त करना असंभव है। इस आरक्षित क्षेत्र में तो केवल एक ड्रटीनी और 10 से 15 हार्सी हैं। तुम, चिन्ता न करो, तुम उनमें से किसी एक को पकड़ सकते हो।“ प्रभाव बोला।  
“तुम्हें क्या सच्ची ऐसा लगता है?“ डैनी ने अपने आंसू पोंछते हुए कहा तो प्रभाव उसे पुचकारते बोला, “हाँ, बिल्कुल। तुम कर सकते हो।“ जैसे ही वह उसे सहानुभूति दे रहा था, उसने तालाब में एक प्रकाश देखा, जिसे देख वह बोला, “डैनी देखो! तालाब से ऐसा प्रकाश आ रहा है जैसे कोई पोकेमाॅन पानी के नीचे पकड़ा गया हो।“
जैसे ही उसने कहा एक पोकेमाॅन डैनी के पोकेबाल को तालाब से ले आया, जो तालाब में गिर गई। फिर पोकेमाॅन दोबारा तालाब में चला गया। “मुझे लगता है कि तुमने किसी पोकेमाॅन को पकड़ा होगा? क्योंकि वह प्रकाशित हुई थी।“ प्रभाव ने कहा। “चलो देखते हैं कि मैंने कौन से पोकेमाॅन को पकड़ा है। जाओ पोकेबाॅल!“ डैनी ने अपना पोकेबाल फेंका जिसमें एक मैजिकार्प उसके अंदर से निकला। “सच में, क्यों?“ “चिन्ता मत करो, कम से कम तुम इसे प्रशिक्षित कर सकते हो।“ प्रभाव ने कहा। “हाँ, तुम सही हो, कम से कम एक डैªगन प्रकार का पोकेमाॅन तो मिलेगा।“ डैनी ने आह भरते हुए उत्तर दिया। “लेकिन वह वाटर और फ्लाइंग प्रकार का है।“ प्रभाव ने उनके बारे में बताया। 
दूसरी तरफ, सैम और मणि, चुम्बकीय धरा की ओर जा रहे थे। जब वे जा रहे थे, तो उन्हें रास्ते में एक टेडिअर्सा मिला। “क्या बात है, मैं इसे पकड़ लूंगा।“ सैम ने कहा और उस पर अपना पोकेबाल फेंककर उसे पकड़ लिया। “बधाई हो, तुमने अपना पहला पोकेमाॅन पकड़ लिया है, अब तुम्हें इसे डिब्बे में रखना होगा।“ मणि ने कहा।  
सैम ने उसे अपने डिब्बे में रखा। फिर वे चुम्बकीय धरा की ओर आगे बढ़ते गएं। वहाँ उन्होंने एक शिंक्स देखा, जहाँ अपने तीनों पोकेमाॅनों के साथ एक लड़का उसे परेशान कर रहा था। यह देखकर मणि उस पर चिल्लाया, “अरे इसे रोको। तुम उस पोकेमाॅन से क्यों लड़ रहे हो, जबकि तुम पहले ही तीन पोकेमाॅन पकड़ चुके हो?“ 
“अपने काम से काम रखो, जाओ यहाँ से।“ वह बिगड़कर बोला। “अरे क्या तुम वही मूर्ख तो नहीं हो, जो घोषणा के बीच में परेशान कर रहा था।“ सैम ने कहा तो वह उल्टा उस पर गुस्सा होते हुए बोला, “तो तुम ही थे जो मुझे तब उलटा-सीधा कहने लगे थे, चलो ठीक है अभी तो मैं जा रहा हूँ लेकिन बहुत जल्द हम मिलेंगे, फिर देख लूंगा तुझे।“ यह कहते हुए वह वहां से चला गया।  “ओह! नहीं, शिंक्स गंभीर रूप से घायल है।“ मणि ने चिन्ता व्यक्त की। “हमें कुछ करने की जरूरत है, इसें उपचार केन्द्र में ले जाना चाहिए।“ सैम ने कहा तो मणि ने शिंक्स को अपने हाथों में पकड़ते हुए कहा, “हाँ, तुम सही हो, चलो जल्दी करो। शिंक्स चिंता मत करो, तुम ठीक हो जाओगे।“ ?
मणि शिंक्स को अपने हाथों में उठाकर उपचार केन्द्र की ओर चल पड़ा। सैम ने सबको बताया कि उपचार केन्द्र की दूरी 100 मीटर है। जैसे ही वे जा रहे थे, उन्हें 4-5 शिंक्स, 2 लक्सियो और एक लक्सरे के झुंड का सामना करना पड़ा। वे सभी शिंक्स की तलाश में थे। झुंड के मुखिया लक्सरे ने उन्हें आगे जाने से रोक लिया। मणि ने उनसे अनुरोध किया कि वे उन्हें जाने दें, ताकि वे घायल शिंक्स का उपचार कर ठीक कर सकें। पहले उन्होंने मना कर दिया लेकिन फिर लक्सरे ने उसे ऐसा करने की अनुमति दे दी। फिर वे उपचार केन्द्र पहुंचे और मणि ने शिंक्स को नर्स को सौंप दिया। नर्स ने उसे पुनर्जीवित जड़ी बूटी दी, जिससे कुछ समय बाद शिंक्स स्वस्थ हो गया। दोनों ने नर्स का धन्यवाद किया। “अब इस छोटे का क्या करना है?“ मणि ने नर्स से पूछा तो वह बोली, “तुम इसे रख लो, आखिरकार तुमने इसे पाया और इसे यहां लाये हो।“ “हाँ, तुम इसके योग्य हो।“ सैम ने नर्स की बात का समर्थन किया। “वास्तव में? “ उसने आश्चर्य से कहा और फिर शिंक्स पर प्यार से हाथ फेरते हुए बोला, “वैसे मुझे पता नहीं शिंक्स, तुम इस बारे में क्या कहोगे, क्या तुम मेरे साथ आओगो शिंक्स।“ इस पर शिंक्स ने हाँ में अपना सिर हिलाया तो मणि ने तुरन्त अपना पोकेबाॅल फेंका और शिंक्स को पकड़ लिया, जिसे उसने अपने पहले पोकेमाॅन के रूप में पंजीकृत किया। वहाँ हर कोई खुश था।
प्रणाली दलदल क्षेत्र से गुजर रही थी। वहाँ वह उस लड़की से मिली, जिसे सैम ने उपनाम देकर ’नागिन’ कहा, परन्तु वास्तव में प्रभाव ने ही उसे यह नाम दिया था। “ओह, अरे प्रेयसी!“ प्रणाली ने कहा तो प्रेयसी बोली, “कैसी हो?“ उसने जवाब दिया, मैं ठीक हूँ। मुझे आशा है कि तुम भी होगी, तो क्या तुमने कोई पोकेमाॅन पकड़ा है?“ “नहीं अभी तक नहीं“ “क्या तुमने कोई पकड़ा है?“ प्रेयसी ने पूछा तो प्रणाली ने कहा, “मैने अपने बगीचे में एक यान्मा पाया और इसे अपना पहला पोकेमाॅन बनाने का फैसला किया।“ जब वे बातचीत कर रहे थे, तो प्रेयसी ने पीछे झाड़ियों के हिलने की आवाज सुनी। जैसे ही उसने पलटकर देखा तो उसे एक स्कैटरबग वहाँ छिपा दिखा। यह देखते ही प्रेयसी उसके पीछे दौड़ी। “अरे, मेरे लिए तो रूको“, उसके पीछे भागते हुए प्रणाली चिल्लाई। उसी समय प्रभाव और डैनी वहाँ आए। “अरे देखो, एक स्कैटरबग है, डैनी, डैनी!“ डैनी के चेहरे को देखकर प्रभाव ने कहा। “कम से कम कुछ तो बोलो। अरे देखो, एक क्रीकेटौट भी है।“ “हुंह, कहाँ?“ डैनी बोला। वह फिर क्रीकेटौट की ओर दौड़ा। “हम्म ....भले ही वह छोटा है, लेकिन मुझे यह मानना ही होगा कि वह बहुत तेजी से दौड़ता है। खैर मुझे लगता है कि मुझे स्कैटरबग की ओर जाना चाहिए।“ जैसे ही प्रभाव उस पोकेमाॅन की ओर जा रहा था प्रेयसी भी पीछे से दौड़ती हुई आई और चिल्लायी, “मेरे रास्ते से हट जाओ वरना...“ जैसे ही प्रभाव ने पीछे मुड़कर देखा, उसने उसे धक्का देकर नीचे गिरा दिया और जैसे ही वह उठने की कोशिश कर रहा था तो उसने उसे एक लात मारी और फुर्ती से उसके सीने पर सवार हो गई। “पोकेबाल जाओ!“ उसने अपने पोकेबाल को फेंका और पोकेमाॅन को पकड़ लिया। “अरे वाह! क्या बात है!“ वह खुशी से उछली तो प्रभाव चिल्लाया, “आ आ आ“ ...तो पे्रयसी उसके ऊपर से हटी। तब तक डैनी और प्रणाली भी वहां आ चुके थे। “प्रभाव तुम ठीक हो?“ दोनों ने एक साथ पूछा और डैनी ने उसे उठने में मदद की।
“हे माँ जगदम्बा, मेरी छाती!“ प्रभाव ने एक गहरी सांस ली। “चिन्ता मत करो दोस्तो, मेरे बारे में चिन्ता करने की आवश्यकता नहीं है। मैं अब ठीक हूँ। वैसे वह महान इंसान कौन है जो मेरी छाती को गद्दा समझकर कूदा था?“ प्रभाव ने करहाते हुए कहा और प्रेयसी की ओर देखते हुए चिल्लाया, “तुम!“ तो वह भी ’तुम’ कहकर चिल्लाई। “क्या तुम दोनों एक दूसरे को जानते हो।“ प्रणाली ने पूछा तो दोनों एक बोले, “हाँ, बहुत अच्छे से, हम दोनों प्रतिद्धंदी हैं।“ “कब से?“ डैनी ने पूछा तो प्रभाव बोला, “पिछली मुलाकात से।“  “क्या कारण था?“ प्रणाली ने पूछा। कारण यह था कि मैं .....“ जैसे ही वह कह रहा था बीच में ही रूक गया। “वो तुम क्या?“ प्रणाली ने पूछताछ जारी रखी। “कुछ नहीं, तुम्हारा कोई काम नहीं।“ प्रेयसी ने कहा। “तो क्या तुमने अब तक कोई पोकेमाॅन पकड़ा है?“ “तुम यह जानकर हैरान रह जाओगी“ प्रभाव ने कहा। “क्या वे -1,००,००,००,हैं?“ प्रेयसी नेे कहा तो वह बोला, “नहीं, वे इससे भी अधिक हैं।“ “कितने“ प्रेयसी ने फिर प्रश्न किया। “वे हैं ...... “प्रेयसी ने दोहराया “वे हैं ......शून्य।“ प्रभाव बोला। “क्या! मुझे लगा तुम्हारे पास इससे अधिक हो सकते हैं।“ प्रेयसी बोली। “तुम मुझ पर विश्वास करती हो, है ना?“ प्रभाव ने कहा। “बेशक नहीं, बेवकूफ।“ प्रेयसी ने गुस्सा में कहा। “अच्छा, तुमने भी केवल एक पोकेमाॅन ही पकड़ा है।“ प्रभाव ने कहा। “हाँ, हाँ, जो भी हो।“ प्रेयसी ने जवाब दिया।
“वे दोनों एक दूसरे के सबसे अच्छे दोस्त लगते हैं, है ना?“ प्रणाली ने डैनी से पूछा तो डैनी बोला, “हाँ, बिल्कुल।“ यह सुनते ही प्रभाव और प्रेयसी एक साथ चिल्लाए, “नहीं“ इस पर डैनी ने कहा, “ठीक है, अब शांत भी हो जाओ,“ इसी बीच उन्हें अचानक एक पोकेमाॅन की चीख सुनाई दी, जिसे सुनकर प्रभाव उसी ओर भागा तो बाकी सब भी उसके पीछे-पीछे दौड़ पड़े। उन्होंने देखा कि एक कैटरपी दलदल में फंसा हुआ है। यह देखकर डैनी बोला, “हम उसे बचाने के लिए क्या कर सकते है?“ कुछ देर सोचने के बाद प्रभाव ने कहा, “मैं इसे पकड़ लेता हूँ।“ यह कहते हुए उसने अपना पोेकेबाॅल कैटरपी के ऊपर फेंक दिया। पोकेबाल कैटरपी से टकराई और फिर उसे पकडने के बाद वापस प्रभाव के पास उछली। “उंह, हमने उसे बचा लिया।“ प्रभाव खुशी से चहका। “और तुमने अपना पहला पोकेमाॅन पकड़ लिया।“ प्रणाली मुस्कुराते हुए बोली। “हाँ, बिल्कुल सही।“ डैनी बोला तो प्रभाव आश्चर्य जताते हुए कहने लगा, “ओह हाँ, मेरा पहला पोकेमाॅन, मेरा पंसदीदा बग टाइप पोकेमाॅन कैटरपी।“ वह कहे जा रहा है, “हे डैनी, मुझे अभी याद आया, क्या तुमने उस क्रिकेटौट को पकड़ लिया?“ “हाँ, मेरा दूसरा पोकेमाॅन, क्रीकेटौट।“ डैनी ने उत्तर दिया। “ठीक है, तो चलो बेर उद्यान चलते हैं। अरे, क्या तुम दोनों हमारे साथ आओगे? हम बगीचे के बाद गुफा में जाएंगे।“ प्रभाव ने बताया।
“नहीं!“ प्रेयसी ने असहमति व्यक्त की तो उसका संवाद काटते हुए प्रणाली बोली, “हाँ, हम चलेंगे।“ 
“नहीं, मैं नहीं चलंूंगी।“ प्रेयसी ने अकड़ते हुए कहा तो प्रणाली ने उसे दुलारते हुए कहा, “ओह, प्रेयसी आओ भी। हम सब वहाँ मजे करेंगे। हमें कुछ नए पोकेमाॅन भी तो देखने को मिल सकते हैं।“ इसके बाद वे वहाँ से चल दिए।
मणि और सैम ने चुम्बकीय धरा से आगे चलने का फैसला किया और वे खुले मैदान में पहुंच गए। जहाँ दोनों को एक पिज्जी और एक स्पीयरो से सामना करना पड़ा। सैम ने पिज्जी को पकड़ा और मणि ने स्पीयरो को पकड़ा। फिर वे आगे बढ़ गए।
दूसरी तरफ डैनी ने एक टोगेडेमारू को पकड़ा तो प्रणाली ने एक गौसीफ्लोर को पकड़ा और प्रेयसी ने एक पचिरीसु और ड्रिलबर को पकड़ा। जब वे आगे बढ़ रहे थे, तो उन्हें वायनाट का एक समूह मिला। उनमें से एक को प्रभाव ने पकड़ा। उसके बाद वे सभी गुफा के सामने एकत्रित हुए। प्रभाव और अन्य तीन पहले ही वहां पहुंच चुके थे। अंत में मणि और सैम भी आ गए। “हम्म .... तो यह गुफा है,“ प्रभाव ने कहा। “तो चलो अंदर चलते हैं।“ प्रेयसी ने उत्सुकता जताई। वे फिर अंदर चले गए। उनकी आपस में बातचीत चल ही रही थी कि तभी अचानक एक रौलीबोली सामने आया। मणि ने उससे मुकाबला किया और उसे पकड़ते हुए घोषणा की, “मुझे लगता है कि मैं तीनों पोकेमाॅन पकड़ने वाला तीसरा व्यक्ति हूँ।“ “खैर उसने सही कहा, अब हमें आगे बढ़ना चाहिए।“ सैम ने कहा। “तुम सही हो। प्रणाली तुम्हें और मुझे भी सिर्फ एक और पोकेमाॅन चाहिए।“ प्रभाव ने अपनी बात कही। सभी गुफा के अंदर चलते रहे। जहाँ उन्होंने देखा कि एक चमचमाती बिजली  उनकी ओर आ रही है, जो प्रणाली से टकरा गई। उसने तब पहचाना कि यह एक यैम्पर था। उसने इसे गौसीफ्लोर की मदद से पकड़ लिया। वे अभी भी गुफा के अंदर जा रहे थे। अंधेरा गहराने लगा। तभी अचानक सैम चिल्लाया, “आह ..... मेरे बालों से खेलना बंद करो।“ यह सुनते ही प्रभाव ने अपनी टार्च निकाली और सैम को परेशान करने वाले प्राणी पर प्रकाश डाला। उन्हें पता चला कि यह एक इम्पिडिम्प था।
“शैतान पोकेमाॅन! एक ही बार में रूक जाओ, यदि तुम नहीं रूकोगे तो मुझे अपने पोकेमाॅन को बाहर बुलाना होगा।“ सैम ने गुस्से में कहा। फिर उसने अपने टेडिअर्सा को बुलाया और उसे कमजोर करने की कोशिश की, लेकिन टेडिअर्सा के सभी हमले चूक गए और सिर्फ एक ’ब्रिक ब्रेक’ से इम्पीडिम्प ने टेडिअर्सा को नीचे गिरा दिया। उसने तब अपना पिज्जी भेजा। पिप्जी ने इम्पीडिम्प पर रेत के हमले का इस्तेमाल किया और फिर आंधी से हमला किया, जिससे इम्पिडिम्प कमजोर हो गया था। सैम ने उस पर एक पोेकेबाॅल फेंककर उसे पकड़ लिया।
“अरे! मैंने तीनों पोकेमाॅन पकड़ लिए हैं।“ सैम ने उत्साह के साथ कहा तो प्रणाली ने कहा, “तो चलो, इस जगह से बाहर निकलते हैं। यहाँ और भी अंधेरा हो रहा है।“ “हाँ, तुम सही हो।“ इस बात से डैनी और मणि सहमत हुए। तब प्रभाव ने कहा, “ तुम सभी बाहर जा सकते हो, लेकिन मै। तब तक नहीं आ सकता हूँ, जब तक मैं एक और पोकेमाॅन पकड़ नहीं लेता!“ यह कहते हुए वह अंदर की ओर बढ़ने लगा। उन सभी ने उसे आगे बढ़ने से रोकने की कोशिश की, लेकिन वह बोला, “मैं अपना ध्यान रखूंगा।“ वह थोड़ी दूर ही चला था कि उसे आभास हुआ कि कोई उसके पीछे है। उसने अपनी टाॅर्च निकाली और देखा कि प्रेयसी उसके पीछे थी। “ओहो! मैं डर गया। पर तुम मेरा पीछा क्यों कर रही हो?“ प्रभाव ने उससे पूछा। “मैं तुम्हारा पीछा नहीं कर रही थी। मैं तो तुमसे केवल यह पूछने आयी थी कि क्या तुम्हारे पास एक और टाॅर्च है।“ उसने स्पष्ट किया। उनकी आपस में बातचीत चल रही थी कि अचानक पीछे से ठंडी हवाओं ने प्रभाव का ध्यान अपनी ओर आकृष्ट किया। उसने पलट कर देखा तो कुछ नहीं दिखा। “क्या हुआ?“ प्रेयसी ने पूछा।
“कुछ नहीं, मैंने बस एक बर्फीली हवा का झौंका महसूस किया।“ जैसे ही उसने यह कहा, उन्होंने एक पोकेमाॅन की लाल रंग की पूंछ देखी। हालांकि टार्च की बैटरी खत्म होने लगी तो वह खुद पर नाराज होकर बुदबुदाया, “ओह हो, मैंने कल इसे क्यों नहीं चार्ज किया? तो... क्या, यह अभी भी अच्छी तरह से काम कर रहा है। चलो इस पोकेमाॅन को पकड़े। जाओ कैटरपी।“ उसने अपने कैटरपी को बाहर बुलाया।
कैटरपी और उस पोकेमाॅन के बीच काफी देर तक मुकाबला किया। गहरा अंधकार होने के कारण रहस्यमय पोकेमाॅन पर हमला करने में बड़ी कठिनाई हो रही थी। एक कड़े मुकाबले के बाद कैटरपी ने आखिरकार उस पोकेमाॅन को अपने धागे में फंसा लिया। “ठीक है, ठीक है, चलो इसे पकड़ लेते हैं। पोकेबाॅल जाओ।“ उसने उस पर अपना पोकेबाल फंेंककर उसे पकड़ लिया। “ठीक है, आखिरकार मैंने इसे पकड़ लिया। अच्छा काम किया तुमने कैटरपी, अब वापस आओ।“ उसने कैटरपी को वापस बुलाते हुए कहा। तब प्रेयसी और प्रभाव बाहर आए और फिर से मुख्य मैदान में आ गए।
“हम्म ..... तो प्रभाव तुमने और तुम्हारे दल ने सारे पोकेमाॅन पकड़ लिए?“ मिस्टर पीयूष ने पूछा। “मेरा दल“ प्रभाव ने आश्चर्य व्यक्त किया। “हाँ, यह तुम्हारा दल है।“ मिस्टर पीयूष ने मुस्कुराते हुए कहा।“हें! यह अच्छा है। हम सभी एक दल में हैं।“ डैनी ने कहा। “हाँ, सर, अगर आप चाहें तो ऐसा ही हो।“ सैम मिस्टर पीयूष से सहमत हुआ। “हाँ, आप सही है।“ मणि ने कहा। “और प्रेयसी और मैं भी आपके दल में रहेंगे, जो हमारा दल बनाता है।“ प्रणाली ने अपना और प्रेयसी का हाथ बढ़ाते हुए कहा। “ठीक है, अब आप सभी पोकेमाॅनों को पोकेमाॅन सेंटर पर लेकर जाएं और कुछ आराम करें। कल आपका अभ्यास मैच होगा। आप अपने साथ अपने-अपने डिब्बे ले जाना। वह आपको आपके पोकेमाॅनों के बारे में जानकारी देगा।“ मिस्टर पीयूष ने आगे का कार्यक्रम बताया तो सबने उनका धन्यवाद किया।

पात्र परिचय Characters



मिस्टर पीयूष गोस्वामी बच्चों के शिक्षक हैं। 
उनका हँसमुख स्वभाव है। 
वे दुनिया के बारे में बहुत कुछ जानते हैं।   

प्रोफेसर देवदार एक सुप्रसिद्ध प्रोफेसर हैं। 
वर्तमान और प्राचीन स्थिति के बीच में संबंध ढूढ़ना उनका शोध का हिस्सा है। 

वन विहार वन्यक्षेत्र उस क्षेत्र में एक जगह है जहां छात्र जो पोकेमॉन ट्रेनर बनना चाहते हैं, अपनी शुरुआत के लिए अपना पहला पोकेमॉन प्राप्त करते हैं।

प्रभाव  एक 14 साल का लड़का है जो पोकेमॉन को प्यार करता है। वह परिवेश से सीखना पसंद करते हैं।
एक बग प्रकार का कैटरपी उसका पहला पोकेमॉन है
उसका दूसरा पोकेमाॅन वायनट है, जो एक सायकिक प्रकार है। 
उसका तीसरा पोकेमाॅन स्नीजल है, जो डार्क और आइस प्रकार का है। 

सैम एक 13 साल का लड़का है, जो अपने आस.पास के सभी लोगों को खुश करना पसंद करता था।
उसका नार्मल प्रकार का पहला पोकेमाॅन टेडिअर्सा है। 
उसका दूसरा पोकेमाॅन पिज्जी है, जो नार्मल और फ्लाइंग प्रकार का है। 
इम्पीडिम्प उसका तीसरा पोकेमाॅन है, जो डार्क और फैरी प्रकार का है। 

मणि एक  14 साल का प्यारा और दूसरों की देखभाल करने वाला लड़का हैए जो हमेशा खुद के बजाय दूसरों की मदद के लिए हमेशा तैयार रहता है। 
उसका पहला पोकेमाॅन शिंक्स है, जो इलेक्ट्रिक टाइप का है। 
उसका दूसरा नार्मल और फ्लाइंग प्रकार का पोकेमाॅन स्पीयरो है। 
उसका तीसरा पोकेमाॅन राॅक टाइप पोकेमाॅन रौलीबोली है। 

डैनी एक 13 साल का छोटा कद का लड़का जो थोड़ा लापरवाह लेकिन बहुत उत्साही है।
मैजिकाॅर्प एक वाटर टाइप पोकेमाॅन उसका पहला पोकेमाॅन है। 
क्रीकेटौट एक बग प्रकार का पोकेमॉन उसका दूसरा पोकेमॉन है। 
टोगेडेमारु  एक स्टील और इलेक्ट्रिक टाइप पोकेमॉन उसका तीसरा पोकेमॉन है।

13 साल की प्रेयसी गंभीर स्वभाव की लड़की है। वह किसी को भी अनदेखा नहीं करती है भले ही वह उसे परेशान क्यों न करती हो।  वह  मददगार भी है।
स्कैटरबग उसका पहला पोकेमाॅन है, जो बग प्रकार का है। 
पाचिरीसु उसका दूसरा पोकेमाॅन है, जो इलेक्ट्रिक टाइप का है। 
ग्राउंड टाइप का ड्रिलबर उसका तीसरा पोकेमाॅन है। 


प्रणाली 13 साल कीए एक हंसमुख स्वभाव की लड़की है, जो सबके साथ रहना पसंद करती है। वह कभी.कभी बच्चों जैसी हो जाती हैए लेकिन वह लड़ने में भी बहुत कुशल है।
उसका पहला पोकेमॉन बग फ्लाइंग टाइप यान्मा है।
उसका दूसरा पोकेमॉन ग्रास टाइप का गौसीफ्लोर है। 

यैम्पर उसका तीसरा पोकेमाॅन है, जो इलेक्ट्रिक टाइप का है।



अस्वीकरण (Disclaimer)
कहानी में किसी चित्र और पाठ की नक़ल नहीं की गई है। चित्र बनाने के लिए सामग्री गूगल और कुछ गेम से ली गई है। सभी विचार और अवधारणाएं मेरी अपनी है। इससे पहले मैं एक कॉमिक बनाने जा रहा था, लेकिन एक कॉमिक बनाने का तरीका जितना मैंने सोचा था उससे कहीं ज्यादा कठिन लगा।  लेकिन एक दिन मेरे शिक्षक ने हमें कहानी लेखन का होमवर्क दिया तो मैंने अपनी लिखी कॉमिक के एक भाग, क्योँकि दूसरा भाग मैं कभी नहीं लिख पाया, इसलिए मैंने इसे कहानी रूप में बनाने का फैसला किया।
अध्याय के बाद भी, आप सभी पात्रों और उनके पोकेमॉन को देख सकते हैं, कुछ प्रश्न हैं, जिन्हें आप हल  कर सकते हैं।
अर्जित रावत 

5 comments:

  1. ‌'top job gyan'very good information friend's ,apki post bhahut achhi lagi thanku friend'naukari jobs'

    ReplyDelete
  2. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार(२१ -११ -२०१९ ) को "यह विनाश की लीला"(चर्चा अंक-३५५६) पर भी होगी।

    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    ….
    अनीता सैनी

    ReplyDelete
  3. बहुत बढ़िया कहानी लिखी गई है। हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं 💐 👌👌

    ReplyDelete
  4. बहुत बढिया कहानी।

    ReplyDelete