हम भोपाली - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

Wednesday, May 14, 2014

हम भोपाली


हम कहलाते हैं भोपाली
मिनीबस की है कुछ बात निराली
हम कुछ भी बकें इधर-उधर
हर बात हमारी है निराली
         हमसे बढ़ती शान
हम कहलाते हैं भोपाली।

हम ड्रायवर सबको ढ़ोते-फिरते
चाहे चपरासी हो या अफसर
पर जब आते टेंशन में भैया
तब दिखता न घर न दफ्तर
पान-गुटका-बीड़ी साथ हमारे
जुबां पर रहती हरदम गाली
         हमसे बढ़ती शान
हम कहलाते हैं भोपाली।

खाऊ किस्म के जीव नहीं हम
चाय कट पूरे गुटके से काम चलाते
रीढ़ की हड्डी हम सरकार की भैया
हम तो सबके प्यारे बाबू कहलाते
कुछ आये न आये हमको
पर आती है प्यार भरी गाली
        हमसे बढ़ती शान
हम कहलाते हैं भोपाली।

सरकार का बोझ उठाते हम
सरक-सरक कर चलते रहते
हम सरकारी अफसर कहलाते
अगर कोई काम बिगाड़ दे भैया
तो करते ठीक देकर दो-चार गाली
         हमसे बढ़ती शान
हम कहलाते हैं भोपाली।

..कविता रावत

31 comments:

  1. बहुत से एंगल से यथार्थ का खाका खींच दिया आपने अपने आप को सूरमा भोपाली समझने वालों का ...........क्या कहिये इन नाम ख़राब करते भोपालियों का?

    ReplyDelete
  2. आपकी लिखी रचना शनिवार 17 मई 2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. हा हा हा ... बहुत अच्छा चित्रण कविता के माध्यम से. मैं एक बार भोपाल गया था.. मुझे तो नया भोपाल बड़ा ही अच्छा लगा था ..

    ReplyDelete
  4. बहुत से भोपाली गाली देते नहीं दिल से फेंकते हैं ....
    भोपाल की शान पर बट्टा लगाने वाले ना समझे है ना समझेगें .............

    ReplyDelete
  5. सुरमा भोपाली .हा हा हा ...... बहुत ही सुन्दर रचना....अच्छा लगा पढ़कर

    सफ़र है सुहाना..
    http://ritesh.onetourist.in/2014/05/mehtab-bagh-7.html

    ReplyDelete
  6. बढ़िया लेखन की बढ़िया अनुभूति , आ. कविता जी धन्यवाद !
    Information and solutions in Hindi ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

    ReplyDelete
  7. हमारे ब्लॉग का लोगो अपने ब्लॉग पर स्थान देने के लिए , आ. बहुत-बहुत धन्यवाद !

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुन्दर रचना.....

    ReplyDelete
  9. कविता से भोपाल की झांकी मिल गयी. एक बार आकर देखना होगा.

    ReplyDelete
  10. बढ़िया है .... सुन्दर चित्रण किया है .

    ReplyDelete
  11. हम कहलाते हैं भोपाली
    मिनीबस की है कुछ बात निराली
    हम कुछ भी बकें इधर-उधर
    हर बात हमारी है निराली
    हमसे बढ़ती शान
    हम कहलाते हैं भोपाली।
    .......................
    बस में हर रोज दो चार होना पड़ता है
    मेरा भोपाल महान

    ReplyDelete
  12. सूरमा भोपाली आये हाये ,...आये हाये.........
    भालो ......भालो

    ReplyDelete
  13. हास्य, व्यंग्य का पुट लिए सुन्दर रचना...बधाई

    ReplyDelete
  14. आदरणीया कविता जी व्यंग्य का पुट और यथार्थ हमारे चालक महोदय का दिखती अच्छी रचना ..विचारणीय
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  15. चूंकि मैं भी भोपाली हूँ तो आपकी इन पंक्तियों को बहुत अच्छे से महसूस कर सकता हूँ..दूसरा आपकी इस पोस्ट से खुद को इसलिये भी जुड़ा महसूस कर पा रहा हूँ क्योंकि पीपुल्स समाचार और पीपुल्स ग्रुप से मैं तीन वर्षों तक जुड़ा रहा हूं..इसलिये ये प्रस्तुति मुझे काफी अपनी सी लगी।।

    ReplyDelete
  16. इसको कविता कहूँ कि शब्दचित्र... एकदम तस्वीर सामने लाकर रख दी आपने!! बहुत मज़ेदार!!

    ReplyDelete
  17. कई बार भोपाल गई हूँ ...... संयोग कहूँ या दुर्भाग्य ऐसों मुलाक़ात नहीं हुई .....
    आपने अच्छा लिखा है ......

    ReplyDelete
  18. भोपाल की मज़ेदार झांकी.......

    ReplyDelete
  19. कविता का मज़ा इस बात में है कि इसमें भोपाली की जगह इंदौरी, मेरठी, देहलवी, पटियालवी, रोहतकी आदि करने से कविता के भाव पर कुछ फर्क नहीं पड़ेगा!

    ReplyDelete
  20. हम भोपाली हैं कमाल के
    गाली भी दे तो शान से
    हर बात हमारी है निराली
    हम कहलाते हैं भोपाली।

    ReplyDelete
  21. सूरमा भोपाली का इलाका वाकई निराला है...

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस' प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (18-05-2014) को "पंक में खिला कमल" (चर्चा मंच-1615) (चर्चा मंच-1614) पर भी होगी!
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    ReplyDelete
  23. वाह भोपाली सूरमा हो गये आप तो।

    ReplyDelete
  24. हास्य व्यंग के माध्यम से बहुत कुछ कह दिया आपने ... शब्दों के माध्यम से खाका खींच दिया भोपाली का ... वाह गज़ब ...

    ReplyDelete
  25. achchha wyagy hai, तबीयत खुश हो गयी

    ReplyDelete
  26. यह हम भोपालियों की पहचान है

    कुछ आये न आये हमको
    पर आती है प्यार भरी गाली
    हमसे बढ़ती शान
    हम कहलाते हैं भोपाली।
    waah!

    ReplyDelete
  27. हम कहलाते हैं भोपाली
    हर बात हमारी है निराली
    सूरमा भोपाली

    ReplyDelete
  28. बधाई शुक्रिया आपकी टिप्पणियों का।

    बढ़िया व्यंग्य चित्र।

    एक और भी हैं भैया बाज़ीगर भोपाली ,

    राजनीति के दुर्मुख कहते -

    दिग पराजय सिंह ई भाईसाहब !सशक्त लेखनी को प्रणाम।

    ReplyDelete
  29. हर बात हमारी है निराली
    हमसे बढ़ती शान
    हम कहलाते हैं भोपाली।

    ........... व्यंग के माध्यम से बहुत कुछ कह दिया आपने !

    ReplyDelete
  30. Aw, this was an extremely good post. Taking the time and actual effort to make a top notch
    article… but what can I say… I put things off a whole lot and never manage to
    get nearly anything done.

    My homepage :: just click the next web site

    ReplyDelete