निज भाषा उन्नति अहै, सब उन्नति को मूल - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

गुरुवार, 10 सितंबर 2015

निज भाषा उन्नति अहै, सब उन्नति को मूल




21 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (11.09.2015) को "सिर्फ कथनी ही नही, करनी भी "(चर्चा अंक-2095) पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, चर्चा मंच पर आपका स्वागत है।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ, सादर...!

    जवाब देंहटाएं
  2. सार्थक विचार ..... हिंदी का मान बना रहे

    जवाब देंहटाएं
  3. हिंदी हैं हमवतन हैं ..हिन्दोस्तान हमारा हमारा ..

    जवाब देंहटाएं
  4. हिंदी है देश का अभिमान
    इससे होगा देश का उत्थान

    उत्तम आलेख

    जवाब देंहटाएं
  5. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, परमवीरों को समर्पित १० सितंबर - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    जवाब देंहटाएं
  6. मातृभाषा के दृष्टिकोण से आधुनिक हिंदी के जनक भारतेंदु की ये पंक्तियाँ महत्वपूर्ण और प्रासंगिक हैं. हिंदी को आज भी वह स्थान नहीं मिल पाया है जिसकी वह हक़दार है. ब्रितानी हुकूमत के समय अंग्रेजी का जो महत्व था उससे कही अधिक आज है. अपने ही देश में हिंदी उपेक्षित है. भारतेंदु हरिश्चंद्र जी की जयंती (९ सितम्बर) पर सुन्दर और सार्थक आलेख के लिए धन्यवाद.

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत उम्दा विचार...प्रकाशन हेतु बधाई!!

    जवाब देंहटाएं
  8. हिंदी देश की पहचान और अभिमान है.

    प्रकाशन के बधाई.

    जवाब देंहटाएं
  9. हिंदी दिवस की बधाइयाँ

    जवाब देंहटाएं
  10. जी हाँ हिंदी भाषा का मान -सम्मान बना रहना बहुत जरुरी है । प्रकाशन के लिए बधाई ।

    जवाब देंहटाएं
  11. बिलकुल सहमत हूँ इस बात से की निज भाषा की उन्नति से देश, समाज औरर खुद की प्रगति भी निश्चित है ... सार्थक आलेख ...

    जवाब देंहटाएं
  12. सार्थक आलेख के लिए धन्यवाद.

    जवाब देंहटाएं
  13. मातृभाषा का जो न करे सम्मान वह कैसे जुड़ेगा अपनी संस्कृति से.

    जवाब देंहटाएं
  14. हिंदी भाषा का मान -सम्मान बना रहना बहुत जरुरी है

    जवाब देंहटाएं