नए साल के लिए कुछ जरूरी सबक - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

Wednesday, December 31, 2014

नए साल के लिए कुछ जरूरी सबक


उठिए - जल्दी घर के सारे, घर में होंगे पौबारे
लगाइए - सवेरे मंजन, रात को अंजन
नहाइए - पहले सिर, हाथ-पैर फिर
पीजिए - दूध खड़े होकर, दवा-पानी बैठकर
खिलाइए - आए को रोटी, चाहे पतली हो या मोटी
पिलाइए  - प्यासे को पानी, चाहे कुछ होवे हानि
छोडि़ए    - अमूचर की खटाई, रोज की मिठाई
कीजिए - आये का मान, जाते का सम्मान
जाइए - दुःख में पहले, सुख में पीछे
बोलिए - कम से कम, दिखाओ ज्यादा दम
देखिए - माँ का ममत्व, पत्नी का धर्म
भगाइए   - मन के डर को, बूढे़ वर को
खाइए - दाल-रोटी-चटनी, कितनी भी कमाई हो अपनी
धोइए - दिल की कालिख को, कुटुम्ब के दाग को
सोचिए - एकांत में, करो सबके सामने
चलिए - अगाड़ी, ध्यान रहे पिछाड़ी
बोलिए   - जुबान संभालकर, थोड़ा बहुत पहचानकर
सुनिए  - पहले पराये की, फिर अपनों की
रखिए - याद कर्ज चुकाने की, मर्ज को मिटाने की
भूलिए     -  अपनी बड़ाई को, दूसरे की भलाई को
छिपाइए  - उम्र और कमाई, चाहे पूछे सगा भाई
लीजिए - जिम्मेदारी उतनी, संभाल सको जितनी
रखिए -  चीज़ जगह पर, जो मिले समय पर


30 comments:

प्रतिभा सक्सेना said...

वाह,बढ़िया सीख !

Jyoti Dehliwal said...

बहुत बढ़िया...नववर्ष की बहुत बहुत बधाई...

RAJ said...

एक से बढ़कर एक सबक ...
नए साल की हार्दिक बधाई!

दिगम्बर नासवा said...

नव वर्ष पे इतना सब कुछ ...
आपको और परिवार में सभी को नव वर्ष की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं ...

पी.सी.गोदियाल "परचेत" said...

बहुत सुन्दर शब्द जाल। आपको भी हार्दिक शुभकामनाये , कविता जी !

Kewal Joshi said...

वाह ! सुन्दर सीख - विचार .आपको सपरिवार नव वर्ष की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं ...

Unknown said...

नए साल के लिए सुन्दर सबक ...
नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं ...

Arogya Bharti said...

बहुत बढ़िया सीख ......
नव वर्ष की हार्दिक बधाई !

Surya said...

वाह! बड़े जरुरी सबक ....
नया साल मुबारक हो!!!!

Meenakshi said...

अच्छे टिप्स दिए आपने नए साल के लिए ................................
आपको और परिवार के सभी लोगों को नव वर्ष की लख लख हार्दिक बधाइयां...

दिलबागसिंह विर्क said...

आपकी इस प्रस्तुति का लिंक चर्चा मंच पर वर्ष २०१५ की प्रथम चर्चा में दिया गया है
नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ

यशवन्त माथुर (Yashwant Raj Bali Mathur) said...

आपको नव वर्ष 2015 सपरिवार शुभ एवं मंगलमय हो।

कल 01/जनवरी/2015 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
धन्यवाद !

राजीव कुमार झा said...

बहुत सुंदर.

जो दर्द भरा था बीत गया उसको क्यों याद किया जाए
सचमुच त्यौहार ही जीवन है ये त्यौहार जिया जाए
जाने वाला वश में न था आने वाला तो वश में हो
है नया वर्ष आने वाला सबको सुख और प्रेम दिया जाए

................आने वाले वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं !

कालीपद "प्रसाद" said...

बहुत सुन्दर सीख |नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं |
: नव वर्ष २०१५

संजय भास्‍कर said...

सुन्दर सीख आपको भी नववर्ष की बहुत बहुत बधाई

गिरधारी खंकरियाल said...

नववर्ष पर नयी सीख। ऩव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें।

Mamta said...

नए साल की नयी सीख......
नव वर्ष की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं ...

Unknown said...

नव वर्ष मंगलमय हो!

Harihar (विकेश कुमार बडोला) said...

बहुत बढ़िया। आपको भी अनेको शुभकामनाएं।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' said...

सार्थक प्रस्तुति।
--
नव वर्ष-2015 आपके जीवन में
ढेर सारी खुशियों के लेकर आये
इसी कामना के साथ...
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

Himkar Shyam said...

सुंदर और उपयोगी सबक....सुख-शान्ति, समृद्धि, प्रसन्नता, सफ़लता एवं आरोग्य की मंगलकामनाओं के साथ नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें!!!

Kunwar Kusumesh said...

आपको सपरिवार नव वर्ष की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ

Nitish Tiwary said...

अच्छा सबक दिया है आपने .
नववर्ष की बधाई.

चला बिहारी ब्लॉगर बनने said...

पूरा साल निकल जाएगा इनको साधने में कविता जी!!
बहुत अच्छे!!

सुशील कुमार जोशी said...

नव वर्ष शुभ हो ।

Unknown said...

अच्छा सबक दिया आपको सपरिवार नव वर्ष की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ

Onkar said...

बहुत सुन्दर

Kailash Sharma said...

बहुत सुन्दर सीख...शुभकामनाएं!

Rajendra kumar said...

बहुत ही सुन्दर, आपको सपरिवार नव वर्ष की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ

Sanjay Kumar Garg said...

बहुत सुन्दर आदरणीया कविता जी! साभार!
धरती की गोद