वीरानियाँ नहीं होती - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

Wednesday, November 6, 2019

वीरानियाँ नहीं होती

प्लीजेंट वैली राजपुर, देहरादून से प्रकाशित मासिक पत्रिका 'हलन्त' के अंक नवम्बर, 2019 में प्रकाशित मेरी रचना 'वीरानियाँ नहीं होती"
जिंदगी में हमारी अगर दुशवारियाँ नहीं होती
हमारे हौसलों पर लोगों को हैरानियाँ नहीं होती

चाहता तो वह मुझे दिल में भी रख सकता था
मुनासिब हरेक को चार दीवारियाँ नहीं होती

मेरा ईमान भी अब बुझी हुई राख की तरह है
जिसमें कभी न आंच और न चिंगारियाँ होती

कुछ कम पढ़े तो कुछ अधिक ही पढ़ गए हम
वर्ना मेरे गाँव में इतनी वीरानियाँ नहीं होती

कुछ तो होता होगा असर दुआओं का भी
सिर्फ दवाओं से ठीक बीमारियाँ नहीं होती

देखते हैं बिगबॉस की कहानियाँ बच्चे टीवी पर
शायद घरों में अब वे दादी-नानियाँ नहीं होती

कोई कहकहा लगाओ के अब सन्नाटा खत्म हो
एक-दो बच्चों से अब किलकारियाँ नहीं होती

23 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज बुधवार 06 नवम्बर 2019 को साझा की गई है......... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल गुरुवार (07-11-2019) को      "राह बहुत विकराल"   (चर्चा अंक- 3512)    पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    --
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  3. कुछ तो होता होगा असर दुआओं का भी
    सिर्फ दवाओं से ठीक बीमारियाँ नहीं होती

    वाह बहुत खूब लिखा है


    मेरी रचना और बताओ क्या हो रहा है  पर पधारें

    ReplyDelete
  4. नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" में गुरुवार 07 नवंबर 2019 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  5. मेरा ईमान भी अब बुझी हुई राख की तरह है
    जिसमें कभी न आंच और न चिंगारियाँ होती
    बहुत खूब कविता जी | बहुत बढ़िया शेरो से सजी रचना है |हार्दिक शुभकामनायें |

    ReplyDelete
  6. सुंदर रचना,
    सादर
    --- नील

    ReplyDelete
  7. शानदार ग़ज़ल।
    आधुनिक समाज का ऐसा दर्द बयां करती रचना जो आने वाले दिनों में और निखर कर सामने आएगा और टिस देगा।
    गांव की वीरानियाँ हो या दादी नानी का ना होना, या बच्चों की किलकारियां ना गूँजना। सब विषय कितने चिंतनीय हैं। बहुत खूब सारी रचना लाजवाब है।

    मेरी नई पोस्ट पर स्वागत है👉👉 जागृत आँख 

    ReplyDelete
  8. गहन अर्थ लिए हुए है हर शेर। बहुत सुंदर रचना कविता जी

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर कविता जी !
    ज़माना जिस तेज़ी से बदल रहा है, हम खुद को उस रफ़्तार से नहीं बदल पा रहे हैं. हमारी स्थिति नीरज के शब्दों में -
    'कारवां गुज़र गया, गुबार देखते रहे'
    जैसी हो गयी है.

    ReplyDelete
  10. जिंदगी में हमारी अगर दुशवारियाँ नहीं होती
    हमारे हौसलों पर लोगों को हैरानियाँ नहीं होती
    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति, कविता दी।

    ReplyDelete
  11. वाह!!कविता जी ,क्यख बात कही है आपने !! वो हँसी कहकहे कहाँ सुनाई देते अब , लोगों को मुस्कुराने का भी वक्त नहीं अब ।

    ReplyDelete
  12. देखते हैं बिगबॉस की कहानियाँ बच्चे टीवी पर
    शायद घरों में अब वे दादी-नानियाँ नहीं होती


    बिलकुल सच्ची बात कही आपने
    एक शेर लाजबाब ,सादर नमस्कार

    ReplyDelete
  13. बुहत ही खूबसूरत शेर सभी ...
    ये कमाल की ग़ज़ल है .... हर शेर नयापन लिए ... ऐसा अंदाज़ देख कर आनंद आया ....

    ReplyDelete
  14. बहुत अच्छा लेख है Movie4me you share a useful information.

    ReplyDelete
  15. कुछ तो होता होगा असर दुआओं का भी
    सिर्फ दवाओं से ठीक बीमारियाँ नहीं होती

    बहुत सुंदर ग़ज़ल

    ReplyDelete
  16. बहुत सुंदर प्रस्तुति।धन्यवाद!

    ReplyDelete
  17. First of all congratulations on this post. This is really awesome. Great posts that we can sink our teeth into and really go to work. Your blog post is decent and meaningful for new users. A title is very unique and content is powerful to attract the audience directly. Continue to write this type of article in the future for us. I have also written a article on How To Use Word Counter To Know The Ideal Length Of Blog Post hdfriday

    ReplyDelete
  18. https://www.tricksallhindi.com/7starhd-movie-download/

    ReplyDelete
  19. What a great post!lingashtakam I found your blog on google and loved reading it greatly. It is a great post indeed. Much obliged to you and good fortunes. keep sharing.shani chalisa

    ReplyDelete
  20. Thank you for sharing this valuable information. Your articles are always very informative.

    ReplyDelete
  21. Thank you for sharing this valuable information.

    ReplyDelete