भूली-बिसरी यादें - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

Sunday, October 30, 2022

भूली-बिसरी यादें

'गरीबी में डॉक्टरी' और 'होंठों पर तैरती मुस्कान' कहानी संग्रह के प्रकाशन के बाद शब्द.इन मंच के 'पुस्तक लेखन प्रतियोगिता' में मेरी यह पुस्‍तक भूली-बिसरी यादों के पिटारे के रूप में प्रस्तुत किया है। जहाँ मैंने इस पुस्तक में अपने दैनन्दिनी जीवन के हर पहलू के जिए हुए खट्टे-मीठे पलों को उसी रूप में पाठकों तक पहुँचाने का प्रयास किया है। मेरी इस पुस्तक के लगभग सभी संस्मरण देश-प्रदेश के विभिन्न प्रतिष्ठित समाचारों पत्रों में प्रकाशित होते रहे, जिससे मुझे निरंतर लिखने के लिए उत्साह और ऊर्जा मिलती रही। इन संस्मरण को रचाते-बसाते हुए मुझे एक अलग तरह की सुखद अनुभूति हुई। इन संस्मरण में जहाँ एक ओर मैंने अपने संवेदन मन के उमड़ते-घुमड़ते भावों को व्यक्त किया है, वहीँ दूसरी ओर पाठकों को कुछ न कुछ सार्थक सन्देश देने का भरपूर प्रयास किया है। मैं समझती हूँ कि पाठकों को निश्चित ही मेरे इन संस्मरण को पढ़कर सुखद अनुभूति का अहसास होगा।
           मेरी हार्दिक आकांक्षा है कि मेरे संस्मरण का यह संग्रह अधिक से अधिक जनमानस तक पहुँचे, क्योंकि इन्हें मैंने संवेदना के स्वर, प्रकृति के सानिध्य और आपसी भाई-चारे व धर्म-संस्कृति के विविध रंगों से रचाया-बसाया है। मुझे आशा और विश्‍वास है कि मेरे पाठकगण इन भूली-बिसरी यादों में मेरे साथ गोते लगाते हुए आनन्‍द और रोमांच का भरपूर अनुभव करेंगे।
          मुझे आशा है कि मेरे ब्लॉगर साथी और पाठक भी मेरे इस संस्करण संग्रह को ऑनलाइन क्रय कर मुझे विजेता बनाने हेतु अपना अमूल्य योगदान देने की कृपा करेंगे।  

मासिक बेस्ट सेलर और पुस्तक लेखन प्रतियोगिता के सभी नियम और शर्तों के अनुसार दोनों प्रतियोगिताओं में कई लेखकों ने  भाग लिया और सभी प्रतिभागियों ने श्रेष्ठ साहित्य की प्रस्तुति दी।

नियमों आधार पर विजेता पुस्तकें इस प्रकार  हैं

01- मासिक बेस्ट सेलर पुस्तक :-

भूली-बिसरी यादें | कविता रावत | shabd.in 


13 comments:

  1. आपकी लिखी रचना सोमवार 31 अक्टूबर 2022 को
    पांच लिंकों का आनंद पर... साझा की गई है
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    संगीता स्वरूप

    ReplyDelete
  2. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार(३१-१०-२०२२ ) को 'मुझे नहीं बनना आदमी'(चर्चा अंक-४५९७) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    सादर

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  4. बधाई कविता जी. घर लौटते ही मंगानी हूं आपकी पुस्तक.

    ReplyDelete
  5. जल्द ही मंगवा कर पढ़ते हैं ।

    ReplyDelete
  6. आपकी पुस्तक के लिए अनेकों शुभकामनाएं❤️❤️

    ReplyDelete
  7. बहुत शुभकामनायें कविता जी, मैं भी मंगाती हूं

    ReplyDelete
  8. हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  9. बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  10. निस्संदेह संस्मरण अनूठा होगा। शुभकामनाएँ आपको।

    ReplyDelete
  11. दिलचस्प । बधाई और शुभकामनाएं । पढ़ने की उत्सुकता है ।

    ReplyDelete
  12. हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं प्रिय कविता जी 🙏

    ReplyDelete