दिल को दिल से राह होती है - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

Monday, February 8, 2010

दिल को दिल से राह होती है

-->

दिल को दिल से राह होती है
जब दिल में जगह बन जाय
तो घर में भी जगह बन जाती है

दिल आदमी का छुपा हुआ खजाना है
छोट-छोटे उपहार दिल से दिए जाते हैं
पर बड़े-बड़े उपहार दौलत दिखाना है.

दिल की ख़ुशी दौलत से बढकर है
यह हजारों लोगों से गवाही से बढकर है

जब दिल में भभक रही हो ज्वाला
तो कुछ चिंगारियां मुहं से बाहर निकलती हैं
दिल तो कांच का महल है
जिसकी मरम्मत नहीं की जा सकती है

दिल में लगी हो आग तो दिमाग में धुंआ भर जाता है
ऑंखें छलकने लगती हैं और दिल भर-भर आता है



-Kavita Rawat

12 comments:

परमजीत सिहँ बाली said...

भाव अच्छॆ है लेकिन कुछ कमी सी लगती है..कोशिश जारी रखें।शुभकामनायें।

संजय भास्‍कर said...

बहुत सुंदर और उत्तम भाव लिए हुए.... खूबसूरत रचना......

संजय कुमार
हरियाणा
http://sanjaybhaskar.blogspot.com

संजय भास्‍कर said...

GAREEBI PAR MERI RACHNA JAROOR DEKHNA KAVITA JI...

मनोज कुमार said...

कुछ अलग से भाव लिये दिल से दिल पर लिखी रचना अच्छी लगी।

mukti said...

भाव ही सब कुछ होते हैं और जब भावों डूब कर कोई रचना की जाती है, तो वह दिल को छू जाती है.

कडुवासच said...

....सुन्दर रचना!!!!

दिगम्बर नासवा said...

दिल आदमी का छुपा हुआ खजाना है
छोट-छोटे उपहार दिल से दिए जाते हैं
पर बड़े-बड़े उपहार दौलत दिखाना है...

सच कहा .... दिल तो बच्चा है, थोड़ा कच्चा है...... पर सच्चा भी है ........ अंदर उठते हुवे भावों का आईना है ......
बहुत अच्छी रचना है .........

Apanatva said...

Bahut acchee lagee ye kavita..........

Urmi said...

दिल की ख़ुशी दौलत से बढकर है
यह हजारों लोगों से गवाही से बढकर है ..
बिल्कुल सही कहा है आपने! बहुत ही सुन्दर और भावपूर्ण रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!

संजय भास्‍कर said...

सुन्दर कवितायें बार-बार पढने पर मजबूर कर देती हैं. आपकी कवितायें उन्ही सुन्दर कविताओं में हैं.

Pushpendra Rawat said...

Naksali samasya per apke comments pravkta per sarahniya hain.

Apanatva said...

saritaiti@gmail.com
mera E Mail ID ye hai...