5 सितम्बर - शिक्षक दिवस - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

शुक्रवार, 4 सितंबर 2015

5 सितम्बर - शिक्षक दिवस

            शिक्षकों द्वारा किए गए श्रेष्ठ कार्यों का मूल्यांकन कर उन्हें सम्मानित करने का दिन है ‘शिक्षक दिवस‘। छात्र-छात्राओं के प्रति और अधिक उत्साह-उमंग से अध्यापन, शिक्षण और जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में संघर्ष के लिए उनके अंदर छिपी शक्तियों को जागृत करने का संकल्प-दिवस है ‘अध्यापक दिवस’। यह दिवस समाज और राष्ट्र में ‘शिक्षक’ के गर्व और गौरव को पहचान कराता है। इस दिन विभिन्न राज्यों से शिक्षण के प्रति समर्पित अति विशिष्ट शिक्षकों को पुरुस्कृत कर सम्मानित किया जाता है।

तमिलनाडु के तिरुतनी नामक गांव में 5 सितम्बर 1888 को जन्मे डाॅ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन् प्रकांड विद्वान, दार्शनिक, शिक्षा-शास्त्री, संस्कृतज्ञ और राजनयज्ञ थे। वे सन् 1962 से 1967 तक भारत के राष्ट्रपति भी रहे। इस पद पर आने के पूर्व वे शिक्षा जगत् से ही सम्बद्ध थे। मद्रास में प्रेजीडेंसी कालेज में वे दर्शनशास्त्र के सहायक प्राध्यापक रहे। सन् 1936 से 1939 तक वे आॅक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में पूर्वी देशों के धर्म और दर्शन के ‘स्पाल्डिंग प्रोफेसर’ पद पर रहे। उन्होंने अपने लेखों और भाषणों के माध्यम से विश्व को भारतीय दर्शनशास्त्र से परिचित कराया। वे वर्ष 1939 से 1948 तक काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के उपकुलपति पद पर आसीन हुए। वे 1949 से 1952 तक रूस की राजधानी मास्को में भारत के राजदूत रहे। इस दौरान भारत-रूस मैत्री बढ़ाने में उनका भारी योगदान रहा। उनके उल्लेखनीय कार्यो के लिए भारत के प्रथम राष्ट्रपति डाॅ. राजेन्द्र प्रसाद जी ने उन्हें देश का सर्वोच्च अलंकरण भारत रत्न प्रदान किया। राष्ट्रपति बनने के बाद जब उनके प्रशंसकों ने उनका जन्मदिवस सार्वजनिक रूप से मनाना चाहा तो उन्होंने जीवनपर्यन्त स्वयं शिक्षक रहने के नाते उन्होंने अपने जन्मदिवस 5 सितम्बर को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाना स्वीकार किया। तभी से प्रतिवर्ष यह दिन ‘शिक्षक दिवस’ के रूप में मनाया जाता है।
शिक्षक दिवस और श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाओं सहित।

27 टिप्‍पणियां:

  1. शिक्षक दिवस की बहुत बहुत बधाइयाँ

    जवाब देंहटाएं
  2. शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
  3. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, मेड इन इंडिया - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    जवाब देंहटाएं
  4. आप को भी शिक्षक दिवस की सपरिवार बधाईयाँ एवं शुभकामनाएँ

    जवाब देंहटाएं
  5. आज ऐसे शिक्षकों की भारी कमी है।

    जवाब देंहटाएं
  6. आजकल ज्ञान बेचने वाले बनिया टाइप शिक्षक की भरमार है........

    जवाब देंहटाएं
  7. शिक्षक दिवस की बहुत बहुत बधाई !

    जवाब देंहटाएं
  8. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (05-09-2015) को "राधाकृष्णन-कृष्ण का, है अद्भुत संयोग" (चर्चा अंक-2089) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    श्रीकृष्ण जन्माष्टमी तथा शिक्षक-दिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  9. समय की माँग पर ही बनिये
    ज्ञान बेचने वाले बनिये बनिये
    देर ना करें समय पर बनिये :)

    शिक्षक दिवस की शुभकामनाऐं ।

    जवाब देंहटाएं
  10. शिक्षक दिवस और श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं ||

    जवाब देंहटाएं
  11. सुन्दर ..सारगर्भित प्रस्तुति ! शुभ कामनाएँ !

    जवाब देंहटाएं
  12. " शिक्षक को राष्ट्र का निर्माता और उसकी संस्कृति का संरक्षक माना जाता है। वे शिक्षा द्वारा छात्र-छात्राओं को सुसंस्कृतवान बनाकर उनके अज्ञान रूपी अंधकार को दूर कर देश को श्रेष्ठ नागरिक प्रदान करने में अहम् दायित्व निर्वहन करते हैं। वे केवल बच्चों को न केवल साक्षर बनाते हैं, बल्कि अपने उपदेश के माध्यम से उनके ज्ञान का तीसरा नेत्र भी खोलते हैं, जिससे उनमें भला-बुरा, हित-अहित सोचने की शक्ति उत्पन्न होती हैं और वे राष्ट्र की समग्र विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए सक्षम बनते हैं।"

    इसमें कोई दो राय नहीं।

    आपको भी शिक्षक दिवस और कृष्ण जन्माष्टमी पर्व की हार्दिक शुभकामनाए !

    जवाब देंहटाएं
  13. मोदी जी के आने का कम से कम ये तो फायदा हुआ है की कई महत्वपूर्ण दिनों का महत्त्व सामने आने लगा है ... और शिक्षक दिवस उनमी से एक ही है ... जनम अष्टमी की बहुत बहुत बधाई औएर सुभकामनाएँ ...

    जवाब देंहटाएं
  14. सुन्दर पोस्ट, शिक्षक दिवस की शुभकामनाएँ

    जवाब देंहटाएं
  15. सुन्दर, विचारणीय पोस्ट..शिक्षक दिवस और जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाए !

    जवाब देंहटाएं
  16. सुंदर और सटीक पोस्ट । जन्माष्टमी और शिक्षक दिवस की शुभ कामनाये।

    जवाब देंहटाएं
  17. शिक्षक दिवस की शुभकामनायें. इस अवसर पर सुंदर पोस्ट.

    जवाब देंहटाएं
  18. बहुत ही बेहतरीन पोस्‍ट। शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
  19. आज शिक्षा भी केवल एक व्यवसाय बन कर रह गया है...बहुत सारगर्भित प्रस्तुति...

    जवाब देंहटाएं
  20. ज्ञान बेचने वाले बनिये बनिये
    देर ना करें समय पर बनिये :)

    शिक्षक दिवस की शुभकामनाऐं ।

    जवाब देंहटाएं
  21. शिक्षक दिवस की शुभकामनाएं।
    बहुत अच्छा लेख।
    सादर।

    जवाब देंहटाएं
  22. अत्यंत सुन्दर और ज्ञानवर्धक लेख प्रिय कविता जी।शिक्षक दिवस की बधाई और शुभकामनाएं 🙏🌺🌺

    जवाब देंहटाएं
  23. बहुत ही सारगर्भित ज्ञानवर्धक लेख ।
    शिक्षक दिवस की बहुत बहुत शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
  24. बहुत ही शिक्षाप्रद और सुंदर लेख।शिक्षक दिवस की बधाई!!!

    जवाब देंहटाएं
  25. शिक्षक दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएं।
    बहुत ही सटीक और सारगर्भित लेख।

    जवाब देंहटाएं