नव संवत्सर 2073 - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

शुक्रवार, 8 अप्रैल 2016

नव संवत्सर 2073

नव संवत्सर
  नव धरा, नव विहान
   बीता अतीत अब नव भविष्य
    नव कल्पना, नव विचार
     नव संवेदना, नव संरचना
      संवारे गाँव गरीब
       यह संकल्पना साकार करें
        गढ़े संवारे नवराष्ट्र
         आप सुखमय होवे
          यह समाज सुखमय होवे
           यही शुभेच्छा हमारी  
            नव प्रकाश से आलोकित
             हो जगती सारी

'चैत्रे मासि जगद् ब्रह्मा ससर्ज प्रथमेऽहनि।
शुक्लपक्षे समग्रे तु तदा सूर्योदये सति।।
- ब्रह्म पुराण में वर्णित इस श्लोक के अनुसार चैत्र मास के प्रथम सूर्योदय पर ब्रह्मा जी ने सृष्टि की रचना की थी। इसी दिन से संवत्सर की शुरूआत होती है।


हिन्दू नव वर्ष चैत्र शुक्ल प्रतिपदा एवं चै़त्र नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं!  


33 टिप्‍पणियां:

  1. आप सबको हार्दिक बधाई

    जवाब देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  3. नव वर्ष की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें ... आशा है जल्दी ही समय आएगा जब पूरे भारत को भी अपनी गरिमा का भान होगा और इस दिन का महत्त्व जानेगा ... दुनिया का करीब करीब हर देश अपने अपने कलेंडर अनुसार अपना नव वर्ष धूम धाम से मनाता है ...

    जवाब देंहटाएं
  4. मंगलकामनाएं नव वर्ष की !

    जवाब देंहटाएं
  5. सुन्दर ...
    आपको भी नव संवत्सर 2073 की शुभकामनाएं....

    जवाब देंहटाएं
  6. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (09-04-2016) को "नूतन सम्वत्सर आया है" (चर्चा अंक-2307) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    चैत्र नवरात्रों की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  7. नव संवत्सर मंगलमय हो!!!

    जवाब देंहटाएं
  8. नए साल की ढेर सारी शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
  9. नए साल की ढेर सारी शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
  10. हमारी भावनायें भी आपके स्वर में स्वर मिला रही हैं !

    जवाब देंहटाएं
  11. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, " दन्त क्रांति - ब्लॉग बुलेटिन " , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    जवाब देंहटाएं
  12. आपने लिखा...
    कुछ लोगों ने ही पढ़ा...
    हम चाहते हैं कि इसे सभी पढ़ें...
    इस लिये आप की ये खूबसूरत रचना दिनांक 10/04/2016 को पांच लिंकों का आनंद के
    अंक 268 पर लिंक की गयी है.... आप भी आयेगा.... प्रस्तुति पर टिप्पणियों का इंतजार रहेगा।

    जवाब देंहटाएं
  13. बहुत सुंदर प्रस्तुति ... जय मां भवानी

    जवाब देंहटाएं
  14. नए साल की शुभकामनाएं...

    जवाब देंहटाएं
  15. नव संवत्सर २०७३ मंगलमय हो!

    जवाब देंहटाएं
  16. आपको भी नववर्ष की बधाई और मंगलकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
  17. नववर्ष एवं ऩवरात्र की शुभकामनाये।

    जवाब देंहटाएं
  18. नव संवत्सर की आपको और आपके परिवार को ढेरों बधाईयां। सुंदर रचना।

    जवाब देंहटाएं
  19. आज बहुत लम्बे समय के बाद एक बार फिर से मन बनाया है ब्लॉग की इस दुनिया में वापसी का. आपका स्नेह मिलता रहा है. आगे भी मिलता रहेगा यही कामना है। आपकी बहुत सी रचनाएँ पढ़ना बाकी हैं। जल्द ही पढ़ने का प्रयास करूँगा.
    बहुत आभार
    अखिलेश 'कृष्णवंशी '

    जवाब देंहटाएं
  20. नव संवेदना, नव संरचना
    संवारे गाँव गरीब
    यह संकल्पना साकार करें
    आदरणीया कविता जी ..बहुत सुन्दर भाव ...नया दिन नया वर्ष मंगल करे सब का तो आनंद और आये ..
    भ्रमर ५

    जवाब देंहटाएं
  21. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...नव वर्ष की हार्दिक मंगलकामनाएं...

    जवाब देंहटाएं
  22. बहुत सुंदर रचना नवबर्ष की शुभकामनाए ।

    जवाब देंहटाएं
  23. आपको मेरी तरफ़ से हिंदू नववर्ष की बधाईयाँ

    जवाब देंहटाएं
  24. सुन्दर रचना, सुभावना।

    शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
  25. सुन्दर रचना, सुभावना।

    शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं