दीप बन जग में उजियारा फैलाएं.... - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

सोमवार, 24 अक्तूबर 2011

दीप बन जग में उजियारा फैलाएं....


दीपावली की गहन अंधियारी रात्रि में
जब हरतरफ पटाखों के शोरगुल
और धुएं से उपजे प्रदूषण के बीच
अन्धकार को मिटाने को उद्धत
छोटे से टिमटिमाते दीप को
निर्विकार भाव से निरंतर
जलते देखती हूँ
तो भावुक मन सोचने लगता है कि
जीवन भर आलोक बिखेर कर
दूसरों का पथ प्रदर्शन करने वाला
मानव को समभाव का पाठ पढाता
यह नन्हा सा दीपक किस तरह
अपने क्षणिक जीवन में
वह सब समझ लेता है
जो हम जीवन भर नहीं समझ पाते
तभी तो वह अपनी जीवन की
मूल्यवान घड़ियों को व्यर्थ नहीं गवांता
प्राणयुक्त तेल चुक जाने के बाद भी
अपनी आखिरी दम तक जलकर
मंद-मंद प्रकाश बिखेरना नहीं छोड़ता
सूरज के निरंतर चलते रहने के व्रत को
अंधियारी रात्रि में निरंतर जलकर
प्रकाश के क्रम को टूटने नहीं देता है
इस भौतिक जगत में जो भी आया
वह एक न एक दिन जाएगा जरुर
यह तथ्य वह हमसे पहले जान लेता है
क्यों न हम भी छोटे-छोटे कदमों से
अँधेरे कोनों में भी दीप जलाते रहें
दीप बन जग में उजियारा फैलाएं

सबको दीप पर्व की हार्दिक शुभकामनाओं सहित..
                                        ..कविता रावत 

95 टिप्‍पणियां:

  1. दीये की लौ की भाँति
    करें हर मुसीबत का सामना
    खुश रहकर खुशी बिखेरें
    यही है मेरी शुभकामना।

    जवाब देंहटाएं
  2. आपको भी दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    जवाब देंहटाएं
  3. इस भौतिक जगत में जो भी आया
    वह एक न एक दिन जाएगा जरुर
    यह तथ्य वह हमसे पहले जान लेता है
    क्यों न हम भी छोटे-छोटे कदमों से
    अँधेरे कोनों में भी दीप जलाते रहें
    दीप बन जग में उजियारा फैलाएं

    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति है आपकी कविता जी.
    सद् प्रेरणा देती हुई.
    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    धनतेरस व दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर भी आईयेगा.

    जवाब देंहटाएं
  4. क्यों न हम भी छोटे-छोटे कदमों से
    अँधेरे कोनों में भी दीप जलाते रहें

    बहुत सुंदर ....हार्दिक शुभकामनायें आपको भी.....

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ... दीपावली की शुभकामनाएँ

    जवाब देंहटाएं
  6. आपको एवं आपके परिवार के सभी सदस्य को दिवाली की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें !
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत प्रभावी... सार्थक चिंतन....
    आपको दीप पर्व की सपरिवार सादर शुभकामनाएं....

    जवाब देंहटाएं
  8. सुंदर और सार्थक सोच के लिए बधाई ...
    दिवाली की शुभकामनाएँ!

    जवाब देंहटाएं
  9. दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    कल 25/10/2011 को आपकी कोई पोस्ट!
    नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  10. अंधकार के साम्राज्य पर प्रहार करते ये दीपक, ज्ञान और प्रकाश को प्रसारित करते हैं

    जवाब देंहटाएं
  11. बहुत ही बढि़या ...दीपोत्‍सव की शुभकामनाओं के साथ बधाई ।

    जवाब देंहटाएं
  12. प्रभावशाली प्रस्तुति ...

    जवाब देंहटाएं
  13. सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार...
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ...

    जवाब देंहटाएं
  14. kyo na chhote-chhote kadmo se....sarthak aur ummidon se bhara lekh|
    prakash parv ki shubhkamnayen..

    जवाब देंहटाएं
  15. दीवाली की ढेरों शुभकामनायें।

    जवाब देंहटाएं
  16. क्यों न हम भी छोटे-छोटे कदमों से
    अँधेरे कोनों में भी दीप जलाते रहें
    दीप बन जग में उजियारा फैलाएं

    ,,,,,
    सद् प्रेरणा देती हुई.
    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ...

    जवाब देंहटाएं
  17. अपने क्षणिक जीवन में
    वह सब समझ लेता है
    जो हम जीवन भर नहीं समझ पाते
    तभी तो वह अपनी जीवन की
    मूल्यवान घड़ियों को व्यर्थ नहीं गवांता
    ...जीवन का सार्थक सन्देश देती सुन्दर रचना.
    दीपोत्‍सव की शुभकामनाएँ...

    जवाब देंहटाएं
  18. अँधेरे कोनों में भी दीप जलाते रहें
    दीप बन जग में उजियारा फैलाएं
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति ...
    धनतेरस व दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    जवाब देंहटाएं
  19. अँधेरे कोनों में भी दीप जलाते रहें
    दीप बन जग में उजियारा फैलाएं
    बहुत सुन्दर
    दीपमालिका पर्व की हार्दिक बधाई

    जवाब देंहटाएं
  20. सुंदर भावों से सजी रचना. आपको दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    जवाब देंहटाएं
  21. क्यों न हम भी छोटे-छोटे कदमों से
    अँधेरे कोनों में भी दीप जलाते रहें
    दीप बन जग में उजियारा फैलाएं ... आमीन
    दिवाली की शुभकामनायें

    जवाब देंहटाएं
  22. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति .....
    दीपावली की शुभकामनायें

    जवाब देंहटाएं
  23. सुन्दर प्रस्तुति
    आपको और आपके प्रियजनों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें….!

    संजय भास्कर
    आदत....मुस्कुराने की
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  24. कल के चर्चा मंच पर, लिंको की है धूम।
    अपने चिट्ठे के लिए, उपवन में लो घूम।।
    --
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    जवाब देंहटाएं
  25. मंद-मंद प्रकाश बिखेरना नहीं छोड़ता
    सूरज के निरंतर चलते रहने के व्रत को
    अंधियारी रात्रि में निरंतर जलकर
    प्रकाश के क्रम को टूटने नहीं देता है

    सुन्दर दीप का प्रेरणादायक सन्देश
    आपको भी दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    जवाब देंहटाएं
  26. ओजमय प्रस्तुति
    आपको धनतेरस और दीपावली की हार्दिक दिल से शुभकामनाएं
    MADHUR VAANI
    MITRA-MADHUR
    BINDAAS_BAATEN

    जवाब देंहटाएं
  27. यह नन्हा सा दीपक किस तरह
    अपने क्षणिक जीवन में
    वह सब समझ लेता है
    बहुत सुन्दर ... दीपक के सन्देश का प्रकाशन
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ

    जवाब देंहटाएं
  28. सुन्दर प्रस्तुति, शुभ सन्देश.. आपके जीवन में भी यह दीप-पर्व उजियारा लाये!

    जवाब देंहटाएं
  29. यह नन्हा सा दीपक किस तरह
    अपने क्षणिक जीवन में
    वह सब समझ लेता है... बहुत सुन्दर प्रस्तुति ... दीपावली की शुभकामनाएँ...

    जवाब देंहटाएं
  30. दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
  31. क्यों न हम भी छोटे-छोटे कदमों से
    अँधेरे कोनों में भी दीप जलाते रहें

    उत्तम ख्यालात ....

    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं...!!

    जवाब देंहटाएं
  32. सामयिक,सुंदर प्रस्तुती 'दीप बन जग में उजियारा फैलाये,बधाई....
    दीपावली की हार्दिक शुभ्कामनाये.....

    जवाब देंहटाएं
  33. उत्तम सोच, ग्राह्य सन्देश.
    दीपपर्व की हार्दिक शुभकामनाओं सहित...

    जवाब देंहटाएं
  34. बहुत अच्‍छी सोंच .. आपको दीपावली की शुभकामनाएं !!

    जवाब देंहटाएं
  35. कविता जी,
    नमस्कार,
    आप के लिए "दिवाली मुबारक" का एक सन्देश अलग तरीके से "टिप्स हिंदी में" ब्लॉग पर तिथि 26 अक्टूबर 2011 को सुबह के ठीक 8.00 बजे प्रकट होगा | इस पेज का टाइटल "आप सब को "टिप्स हिंदी में ब्लॉग की तरफ दीवाली के पावन अवसर पर शुबकामनाएं" होगा पर अपना सन्देश पाने के लिए आप के लिए एक बटन दिखाई देगा | आप उस बटन पर कलिक करेंगे तो आपके लिए सन्देश उभरेगा | आपसे गुजारिश है कि आप इस बधाई सन्देश को प्राप्त करने के लिए मेरे ब्लॉग पर जरूर दर्शन दें व अपने नाम के बटन को एक बार कलिक जरूर करें |
    धन्यवाद |
    विनीत नागपाल

    जवाब देंहटाएं
  36. सुंदर अभिव्‍यक्ति।
    आपको और आपके परिवार को दीप पर्व की शुभकामनाएं....

    जवाब देंहटाएं
  37. बहुत सार्थक ,सटीक लिखा है देखो एक नन्हा सा दीप कितना महान है .

    जवाब देंहटाएं
  38. हमेशा की तरह एक और प्यारी सारगर्भित रचना, बधाई !
    दीपावली पर आपको और परिवार को हार्दिक मंगल कामनाएं !
    सादर !

    जवाब देंहटाएं
  39. दीपावली पर्व अवसर पर आपको और आपके परिवारजनों को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
  40. दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    जवाब देंहटाएं
  41. दीपावली केशुभअवसर पर मेरी ओर से भी , कृपया , शुभकामनायें स्वीकार करें

    जवाब देंहटाएं
  42. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें!

    जवाब देंहटाएं
  43. दीपावली की शुभकामनाये.....
    आपका समर्थक बन रहा हूँ

    जवाब देंहटाएं
  44. दीप पर्व की अनंत मंगलकामनाएं !

    जवाब देंहटाएं
  45. आपके पोस्ट पर आना बहुत अच्छा लगा । मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है । दीपावली की शुभकामनाएं ।

    जवाब देंहटाएं
  46. Bahut hi sundar rachna Kavita ji.. Aabhar..

    Vishesh aabhar humare blog par pahunch kar utsahvardhan hetu, ummeed hai aapka utsaahvardhan milta rahega..

    Happy Diwali..

    जवाब देंहटाएं
  47. आपको दीपावली,भाईदूज एवं नववर्ष की सपरिवार ढेरों शुभकामनाएं !

    जवाब देंहटाएं
  48. इस पोस्ट पर देर से आया हूँ , क्षमा चाहता हूँ. दीया, प्रतीक भी है, उदाहरण भी और मार्ग दर्शक भी . दिये के माध्यम से आपने जो सन्देश दिया है , वह सामयिक भी है और सार्थक भी.
    बधाई स्वीकार करें !

    जवाब देंहटाएं
  49. बहुत प्रभावी और सार्थक चिंतन....
    आपको दीप पर्व की सपरिवार सादर शुभकामनाएं..

    जवाब देंहटाएं
  50. क्यों न हम भी छोटे-छोटे कदमों से
    अँधेरे कोनों में भी दीप जलाते रहें

    बहुत सुंदर ...आपको दीप पर्व की सपरिवार सादर शुभकामनाएं..

    जवाब देंहटाएं
  51. सुन्दर और सार्थक रचना
    दीवाली की हार्दिक शुभकामना!

    जवाब देंहटाएं
  52. उत्तम सन्देश.....
    दीपपर्व की सादर शुभकामनाएं!

    जवाब देंहटाएं
  53. क्यों न हम भी छोटे-छोटे कदमों से
    अँधेरे कोनों में भी दीप जलाते रहें
    दीप बन जग में उजियारा फैलाएं
    ..बहुत सुन्दर प्रेरणा देती रचना ...
    दीपावली और भाई दूज की हार्दिक शुभकामना

    जवाब देंहटाएं
  54. इस भौतिक जगत में जो भी आया
    वह एक न एक दिन जाएगा जरुर
    यह तथ्य वह हमसे पहले जान लेता है
    क्यों न हम भी छोटे-छोटे कदमों से
    अँधेरे कोनों में भी दीप जलाते रहें
    दीप बन जग में उजियारा फैलाएं
    ...बहुत सुन्दर सन्देश
    आपको एवं आपके परिवार के सभी सदस्य को दिवाली और भाई दूज की हार्दिक शुभकामनायें !

    जवाब देंहटाएं
  55. bahut sundar prastuti..
    bhaiyadooj aur chandragupt poojan ke avsar pe dher saari shubhkamnaye..

    sadasya ban raha hu..

    जवाब देंहटाएं
  56. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ...
    दीपावली की शुभकामनाएँ

    जवाब देंहटाएं
  57. बहुत सुंदर ....
    दीपावली कीहार्दिक शुभकामनायें

    जवाब देंहटाएं
  58. बहुत सुंदर...
    सार्थक चिंतन....
    शुभकामनाएँ

    जवाब देंहटाएं
  59. सुंदर भाव..

    आह्लाद की हिलोरें उठने लगीं।

    जवाब देंहटाएं
  60. दीपावली की शुभकामनाएँ

    जवाब देंहटाएं
  61. सुंदर और सार्थक प्रस्तुति ...
    दीपावली की शुभकामनाएँ

    जवाब देंहटाएं
  62. दीप यूं ही बहुत बड़ी बात कहता है.. सतत प्रकाशमान अंतिम बूंद तेल की तक...किन्तु आपकी कविता ने दिए की इस भावना पर प्रकाश दल कर बहुत कुछ कह दिया ... सादर ...

    जवाब देंहटाएं
  63. हमेशा की भांति बेहतरीन रचना! शुभ कामनाओं सहित!
    डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'

    जवाब देंहटाएं
  64. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ...

    जवाब देंहटाएं
  65. सुन्दर प्रस्तुति ...
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    जवाब देंहटाएं
  66. कविता जी,आप मेरे ब्लॉग पर एक अरसे से नही आई हैं.
    मुझ से कोई भूल हुई है क्या ?

    कृपया,मुझे बताएं क्या सुधार करूँ मैं.

    जवाब देंहटाएं
  67. मानव को समभाव का पाठ पढाता
    कविता जी अभिवादन सुन्दर भाव लिए प्यारी रचना काश हमारे मन का अंधियारा ये मिटा दे ...
    भ्रमर ५
    यह नन्हा सा दीपक किस तरह
    अपने क्षणिक जीवन में
    वह सब समझ लेता है
    जो हम जीवन भर नहीं समझ पाते
    तभी तो वह अपनी जीवन की
    मूल्यवान घड़ियों को व्यर्थ नहीं गवांता
    प्राणयुक्त तेल चुक जाने के बाद भी
    अपनी आखिरी दम तक जलकर

    जवाब देंहटाएं
  68. आपका पोस्ट अच्छा लगा ।मेरे नए पोस्ट पर आप आमंत्रित हैं । धन्यवाद ।

    जवाब देंहटाएं
  69. यह नन्हा सा दीपक किस तरह
    अपने क्षणिक जीवन में
    वह सब समझ लेता है
    जो हम जीवन भर नहीं समझ पाते
    तभी तो वह अपनी जीवन की
    मूल्यवान घड़ियों को व्यर्थ नहीं गवांता
    प्राणयुक्त तेल चुक जाने के बाद भी
    अपनी आखिरी दम तक जलकर

    बहुत सुन्दर गहरे भाव एक सद्प्रेरक प्रस्तुति के लिए आभार.

    जवाब देंहटाएं
  70. कृपया पधारेँ । http://poetry-kavita.blogspot.com/2011/11/blog-post_06.html

    जवाब देंहटाएं
  71. सुन्दर भाव लिए प्यारी रचना,

    बधाई.

    जवाब देंहटाएं
  72. सुंदर भाव..

    आह्लाद की हिलोरें उठने लगीं।

    जवाब देंहटाएं
  73. सुन्दर रचना ..बधाई पहलीबार आप को पढ़ रही हू ,दिया शब्द का अर्थ ही होता है देना ..सिर्फ ..देना आप मेरे ब्लॉग पर आयेगी तो बहुत खुशी होगी

    जवाब देंहटाएं
  74. बहुत सुन्दर रचना आने वाले समय के लिए बहुत सारी शुभकामनाएँ |

    जवाब देंहटाएं
  75. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  76. बहुत सुन्दर भावपूर्ण अभिव्यक्ति!!!

    जवाब देंहटाएं
  77. आपकी उत्साहवर्धक टिप्पणी के लिए धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  78. विवाह की वर्षगांठ की आप दोनों को हार्दिक शुभकामनायें...........

    जवाब देंहटाएं
  79. दीप पर्व आपको सपरिवार शुभ हो !

    कल 03/11/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं