भोजन मीठा नहीं भूख मीठी होती है - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

Thursday, May 7, 2015

भोजन मीठा नहीं भूख मीठी होती है

 Kavita Rawat

20 comments:

राजीव कुमार झा said...

बहुत सुंदर .
नई पोस्ट : खींचता जाए है मुझे

Unknown said...

Thanks for sharing this great post!!!!! I love reading and I am always searching for informative information like this.

http://winconfirm.com/category/inspirational-quotes-motivational-thoughts-inspirational-thoughts-motivational-quotes/

गिरधारी खंकरियाल said...

सर्वार्थ सत्य!

Anurag Choudhary said...

दीदी एकदम सही लिखा है। एक बार बादशाह अकबर ने बीरबल से पूछा सबसे स्वादिष्ट भोजन कौनसा होता है ? बीरबल ने उत्तर दिया यह तो इस पर निर्भर करता है कि आपको कितनी तेज भूख लगी है।

Sampat kumari said...

कविताजी एकदम यथार्थ है.

Anonymous said...

भोजन नहीं, भूख मीठी होती है - सत्य वचन

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' said...

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (08-05-2015) को "गूगल ब्लॉगर में आयी समस्या लाखों ब्लॉग ख़तरे में" {चर्चा अंक - 1969} पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक
---------------

vijay said...

विभुक्षितम किम न करोति पापम
बहुत सुन्दर रचना

RAJ said...

अति सुन्दर ..................

dj said...

बिलकुल सही। सुन्दर रचना

Neeraj Neer said...

बहुत सुंदर प्रस्तुति ॥

सुशील कुमार जोशी said...

सुंदर रचना सटीक बात ।

सु-मन (Suman Kapoor) said...

वाह बहुत ही सुंदर रचना

रचना दीक्षित said...

अच्छी लगी ये मीठी भूख
आभार

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

सुन्दर प्रस्तुति कविता जी ..सच भूख लगी हो तो सब
मीठा प्यारा अच्छा
भ्रमर ५

मन के - मनके said...

भूख पेट ना होए गोपाला---
सत्य-वचन






भूख पेट ना होए गोपाला---
सत्य-वचन



Harshita Joshi said...

सच में मीठा तो भोजन ही होता है

Rajendra kumar said...

बहुत सुंदर प्रस्तुति ॥

संजय भास्‍कर said...

बहुत ही सुंदर सत्य वचन .... कविता जी :)

दिगम्बर नासवा said...

सच लिखा है ... भूख न हो तो बेस्वादी लगती है हर चीज ... पर भूक हो तो कुछ भी हो अच्छा लगता है ... स्वादिष्ट लगता है ...
अच्छी रचना है ...