सब चलता रहता है - Kavita Rawat Blog, Kahani, Kavita, Lekh, Yatra vritant, Sansmaran, Bacchon ka Kona
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपनी कविता, कहानी, गीत, गजल, लेख, यात्रा संस्मरण और संस्मरण द्वारा अपने विचारों व भावनाओं को अपने पारिवारिक और सामाजिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का हार्दिक स्वागत है।

गुरुवार, 20 जुलाई 2023

सब चलता रहता है


रात दिन की किचकिच पिटपिट

तंग होकर भागी बीबी

घर छोड़कर भागी बीबी

वह अपना दुःखड़ा 

सबको सुनाता फिरता है

तू चिंता मत कर आ आयेगी

पास बैठ कोई अपना समझाने लगता है

ऊँच नीच की बातें चलती

होता गला तर गम धुंए में उड़ता है

'ये कैसा दस्तूर गम गफलत का'

यह सब चलता रहता है 


उल्टी  सीधी दोस्ती यारी

खूब मौज मस्ती कर ली

कच्ची पक्की जैसी मिली

एक सांस में गटक ली

जिगर फेफड़े बोल गए

यार दोस्त भी छोड़ गए

देख हाल ये जिगरी साथी

इसे 'ऊपर वाले की मर्जी कहता है'

'खुशी गम की ये कैसी यारी'

यह सब चलता रहता है 


पढ़ना लिखना छोड़ लाडला

मोबाइल पर चेटिंग सेटिंग करता है

किसे पड़ी जो देख-समझा ले उसको 

यह सब चलता रहता

यह सब चलता रहता 

@Kavita Rawat

@newhindisong2023

#latesthindisong2023

#hindisong


कृपया गाना सुनने के लिए नीचे दिए यूट्यूब लिंक पर क्लिक करें और फिर
गाने को पसंद, कमेंट करते हुए हमारे चैनल को सब्सक्राइब कर हमें प्रोत्साहित करें।