Kavita Rawat Blog, Kahani, Kavita, Lekh, Yatra vritant, Sansmaran, Bacchon ka Kona
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपनी कविता, कहानी, गीत, गजल, लेख, यात्रा संस्मरण और संस्मरण द्वारा अपने विचारों व भावनाओं को अपने पारिवारिक और सामाजिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का हार्दिक स्वागत है।

रविवार, 31 मई 2020

तम्बाकू सी मोहिनी ..... लम्बे-चौड़े पात

मई 31, 2020
कभी गांव में जब रामलीला होती और उसमें राम वनवास प्रसंग के दौरान केवट और उसके साथी रात में नदी के किनारे ठंड से ठिठुरते हुए आपस में हुक्का ...
और पढ़ें>>

शुक्रवार, 1 मई 2020

सोमवार, 20 अप्रैल 2020

मौत तारीख देखकर नहीं आती है

अप्रैल 20, 2020
सबकुछ मिट्टी से पैदा होकर फिर उसी में मिल जाता है राजा हो या रंक सबका अंत एक-सा होता है। उसी का जीवन सार्थक है जो गलतियों से फायदा उठाता ...
और पढ़ें>>

शुक्रवार, 20 मार्च 2020

मैं आऊँगा कल

मार्च 20, 2020
यही तो रास्ता है मेरे रोज गुजरने का एक बार, दो बार, रोज ...... एक दिन अचानक नजरे मिली थी तुमसे वहाँ तुम वहीं कहीं खड़ी थी सूरत तुम्हारी ...
और पढ़ें>>

गुरुवार, 12 मार्च 2020

मंगलवार, 3 मार्च 2020

बुधवार, 26 फ़रवरी 2020

मतलबी इंसान से पालतू कुत्ता भला होता है

फ़रवरी 26, 2020
जिस धारा का पानी पिया उसे बहुत कम लोग याद रखते हैं जिसकी रोटी खायी उसके गीत गाने वाले विरले मिलते हैं जो पेड़ छाया प्रदान करता है उसकी ...
और पढ़ें>>

शनिवार, 11 जनवरी 2020

बुधवार, 1 जनवरी 2020

शनिवार, 28 दिसंबर 2019

गुरुवार, 19 दिसंबर 2019

पोकेमॉन चक्र

दिसंबर 19, 2019
“अप्रैल की सुहानी सुबह फूलों की खुशबू और आकाश में चमकते सूरज के साथ सभी प्यारे पोकेमाॅन हो, तब बच्चों के अपने नए पोकेमाॅन को चुनने के लि...
और पढ़ें>>