दुष्ट प्रवृत्ति वालों को उजाले से नफरत होती है - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

Thursday, September 30, 2010

दुष्ट प्रवृत्ति वालों को उजाले से नफरत होती है

एक जगह पहुंचकर अच्छे और बुरे में बहुत कम दूरी रह जाती है
इने-गिने लोगों की दुष्टता सब लोगों के लिए मुसीबत बन जाती है !

दुष्ट प्रवृत्ति वालों को उजाले से नफरत होती है
हर हिंसा सबसे पहले गरीब का घर उजाडती है!

चूने से मुहँ जल जाने पर दही देखकर  डर लगता है
एक बार डंक लगने पर आदमी दुगुना चौकन्ना हो जाता है !

जिसका जहाज डूब चुका हो वह हर समुद्र से खौफ़ खाता है
जो शेर पर सवार हो उसे नीचे उतरने में डर लगता है!

वक्त से एक टांका लें तो बाद में नौ टाँके नहीं लगाने पड़ते हैं
खेल ख़त्म तो बादशाह और प्यादा एक ही डिब्बे में बंद हो जाते हैं!

अपनी मोमबत्ती को नुक्सान पहुंचाएं बिना दूसरे की मोमबत्ती जलाई जा सकती है
छोटी-छोटी बातों का ध्यान रख लें तो बड़ी-बड़ी बातें अपना ध्यान स्वयं रख लेती हैं!

                    ..कविता रावत

46 comments:

  1. बहुत अच्छी प्रस्तुति। भारतीय एकता के लक्ष्य का साधन हिंदी भाषा का प्रचार है!
    मध्यकालीन भारत धार्मिक सहनशीलता का काल, मनोज कुमार,द्वारा राजभाषा पर पधारें

    ReplyDelete
  2. bahut hi khubsurat prastuti....
    saari panktiyaan yatharthta ke patal par likhi huyi...
    bahut khub...

    ReplyDelete
  3. mere blog par thode se bargad ki chhaon me padharein...

    ReplyDelete
  4. वाह! क्या बात है! बहुत सुन्दर!

    ReplyDelete
  5. kavita bahut bahut sunder sandesh v chetavnee........
    ati sunder abhivykti .

    ReplyDelete
  6. छोटी-छोटी बातों का ध्यान रख लें तो बड़ी-बड़ी बातें अपना ध्यान स्वयं रख लेती हैं...सार्थक सोच...आभार.

    ReplyDelete
  7. कमाल की लेखनी है आपकी लेखनी को नमन बधाई

    ReplyDelete
  8. वक्त से एक टांका लें तो बाद में नौ टाँके नहीं लगाने पड़ते हैं
    खेल ख़त्म तो बादशाह और प्यादा एक ही डिब्बे में बंद हो जाते हैं!
    .....बहुत सार्थक प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  9. वक्त से एक टांका लें तो बाद में नौ टाँके नहीं लगाने पड़ते हैं
    खेल ख़त्म तो बादशाह और प्यादा एक ही डिब्बे में बंद हो जाते हैं!

    सटीक बात कही ...

    ReplyDelete
  10. "अपनी मोमबत्ती को नुक्सान पहुंचाएं बिना दूसरे की मोमबत्ती जलाई जा सकती है
    छोटी-छोटी बातों का ध्यान रख लें तो बड़ी-बड़ी बातें अपना ध्यान स्वयं रख लेती हैं!"

    बहुत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति
    आभार


    मिलिए ब्लॉग सितारों से

    ReplyDelete
  11. सुन्दर बहुत सुन्दर!

    ReplyDelete
  12. वक्त से एक टांका लें तो बाद में नौ टाँके नहीं लगाने पड़ते हैं
    खेल ख़त्म तो बादशाह और प्यादा एक ही डिब्बे में बंद हो जाते हैं!
    Kya baat kahi hai!

    ReplyDelete
  13. बहुत अच्छी सटीक प्रस्तुति। आपके भावों को प्रणाम!!

    ReplyDelete
  14. रचना में मौजूद उपदेश मंथन करने लायक है कविता जी !

    ReplyDelete
  15. chalo achchha huaa achchho me koi dusht to nikala agar sabhi hote achche to dusht kanah jate ?
    chalo achchha huaa ujalo me andhera bhi mila agar charo taraf ujala hota to andhere kahan jate ?
    arganik bhagyoday.blogspot.com

    ReplyDelete
  16. स्वार्थी लोगों को उजाले से नफरत होती है
    हर हिंसा सबसे पहले गरीब का घर उजाडती है!
    KAvita ji
    Sach main aapki kavitaon main ek aisa dard chupa hota hai jiski taraf shayad humara dhyan nahi jaata, kisi bhav ko khuvsurti se pesh karna aapke shilp or soch ka kamal hai

    Dhanyavaad

    ReplyDelete
  17. अपनी मोमबत्ती को नुक्सान पहुंचाएं बिना दूसरे की मोमबत्ती जलाई जा सकती है
    छोटी-छोटी बातों का ध्यान रख लें तो बड़ी-बड़ी बातें अपना ध्यान स्वयं रख लेती हैं
    गंभीर बात कह दी आपने.

    ReplyDelete
  18. हर हिंसा सबसे पहले गरीब का घर उजाडती है!
    सही बात
    नेक बातें

    ReplyDelete
  19. कविता अभिधेयात्मक एवं व्यंजनात्मक शक्तियों को लिए हुए है। बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!
    चक्रव्यूह से आगे, आंच पर अनुपमा पाठक की कविता की समीक्षा, आचार्य परशुराम राय, द्वारा “मनोज” पर, पढिए!

    ReplyDelete
  20. स्वार्थी लोगों को उजाले से नफरत होती है
    हर हिंसा सबसे पहले गरीब का घर उजाडती है!..

    ज़मीनी बातों को बहुत लाजवाब और प्रभावी तरीके से रखा है आपने ....

    ReplyDelete
  21. अच्छी सोच..सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  22. बहुत अच्छी प्रस्तुति।धन्यवाद

    ReplyDelete
  23. गज़ब किया कविता जी !

    बहुत बहुत धन्यवाद इस सार्थक और अभिनव पोस्ट के लिए.........

    ReplyDelete
  24. एक से बढ़कर एक काम की बातें ।
    सुन्दर भाव ।

    ReplyDelete
  25. सुन्दर बहुत सुन्दर!

    ReplyDelete
  26. बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  27. कविता जी, सारी की सारी सूक्तियाँ हैं,पिरोई हुई,एक मालिका जैसी...बहुतसुंदर!!

    ReplyDelete
  28. बाकी सब तो ठीक,मगर शीर्षक से असहमति है। स्वार्थी होना बुरा नहीं है। आखिर हम यह क्यों सोचें कि कोई हमारे लिए कुछ करे? हर कोई पहले अपने लिए कुछ क्यों न करे? गौर कीजिएगा कि जिनके अपने जीवन में तमाम तत्वों की पूर्णता है,वही समाज को कुछ दे पाए हैं।

    ReplyDelete
  29. kavita ji
    bahut hi sundar rachna.vaise to sabhi panktiyan bahut hi achhi lagin par is ek pankti ne bahut kuchh kah diya------

    अपनी मोमबत्ती को नुक्सान पहुंचाएं बिना दूसरे की मोमबत्ती जलाई जा सकती है
    छोटी-छोटी बातों का ध्यान रख लें तो बड़ी-बड़ी बातें अपना ध्यान स्वयं रख लेती हैं!
    poonam

    ReplyDelete
  30. अपनी मोमबत्ती को नुक्सान पहुंचाए बिना दूसरे की मोमबत्ती जलाई जा सकती है ,
    खूब लिखा है आपने.

    कुँवर कुसुमेश
    मोबा:09415518546
    समय हो तो मेरा ब्लॉग देखें :kunwarkusumesh.blogspot.com

    ReplyDelete
  31. भाव अच्छे हैं। जीवन दर्शन छुपा है इस रचना मे। बधाई। कहाँ रहती हो आज कल बहुत दिन से बात नही हुयी? शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  32. कविता जी आपकी सीख बटोर ली है ....ध्यान रखेंगे ....!!

    ReplyDelete
  33. दुष्ट प्रवृत्ति वालों को उजाले से नफरत होती है
    हर हिंसा सबसे पहले गरीब का घर उजाडती है!

    Its true

    ReplyDelete
  34. चूने से मुहँ जल जाने पर दही देखकर डर लगता है
    एक बार डंक लगने पर आदमी दुगुना चौकन्ना हो जाता है !

    जिसका जहाज डूब चुका हो वह हर समुद्र से खौफ़ खाता है
    जो शेर पर सवार हो उसे नीचे उतरने में डर लगता है!

    .......बहुत अच्छी प्रस्तुति।धन्यवाद

    ReplyDelete
  35. अपनी मोमबत्ती को नुक्सान पहुंचाएं बिना दूसरे की मोमबत्ती जलाई जा सकती है.....
    बहुत ही प्रेरणादायक अभिव्यक्ति...बहुत सुन्दर..आभार..

    ReplyDelete
  36. चूने से मुहँ जल जाने पर दही देखकर डर लगता है
    एक बार डंक लगने पर आदमी दुगुना चौकन्ना हो जाता है !

    वाह क्या बात है बहुत ही सुंदर रचना है आपकी कृपया निरंतरता बनाये रखे धन्यवाद.
    अगर समय का आभाव न हो तो कृपया मेरा ब्लॉग http://deepakpaneruyaden.blogspot.com/ देखने का कष्ट करें

    ReplyDelete
  37. yatharth aur jeevan se judi hui sachchi baten....
    itani si baate jeevan main utar jayen to...........

    kaviji,abhi-abhi shuruaat ki hai,apka margdarshan chahiye....thoda samay chahoongi aapka.....

    ReplyDelete
  38. ज़मीनी बातों को बहुत लाजवाब और प्रभावी तरीके से रखा है आपने

    बहुत ही सुंदर रचना है आपकी

    ReplyDelete
  39. bahut achhi hai,i like ur all poems which i read

    ReplyDelete