जब उमड़-घुमड़ बरसे बदरा - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

Monday, July 4, 2022

जब उमड़-घुमड़ बरसे बदरा

मुरझाये पौधे भी खिल उठते

जब उमड़-घुमड़ बरसे पानी।

आह! इन बादलों की देखो

अजब-गजब की मनमानी।।


देख बरसते बादलों को ऊपर

पेड़-पौधे खिल-खिल उठते हैं।

जब बरसते बादल बूंद- बूंद

तब अद्भुत छटा बिखेरते हैं।।


अजब- गजब रंग बिखरते

चहुंदिशि फ़ैलती हरियाली।

उमड़-घुमड़ ज्यों बरसे बदरा

मनमोहक बनती डाली-डाली।।


आह! काले-भूरे बदरा नभ से

तुम कैसा अमृत बरसाते हो?

बूंद-बूंद, बरस-बरस धरा को

दर्पण के सम चमकाते हो।।


ये घनघोर काली घटाएं देखो

गरज-चमक करती हैं बौछारे।

भर उठे मन उमंग-तरंग मेरा

देखूं बगिया ऊपर बरसे सारे।।

...कविता रावत 

11 comments:

yashoda Agrawal said...

आपकी लिखी रचना  ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" मंगलवार 05 जुलाई 2022 को साझा की गयी है....
पाँच लिंकों का आनन्द पर
आप भी आइएगा....धन्यवाद!

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

आखिर बादल बरस ही गए । सुंदर शब्द चित्रांकन ।

अनीता सैनी said...

जी नमस्ते ,
आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार(०५-०७ -२०२२ ) को
'मचलती है नदी'( चर्चा अंक-४४८१)
पर भी होगी।
आप भी सादर आमंत्रित है।
सादर

Anuradha chauhan said...

बेहद खूबसूरत रचना।

विभा रानी श्रीवास्तव said...

ये घनघोर काली घटाएं देखो
गरज-चमक करती हैं बौछारे।
–चाक और कुटिया होते उदास

–सुन्दर प्रस्तुति

रंजू भाटिया said...

खूबसूरत रचना

शुभा said...



वाह!कविता जी ,खूबसूरत भावाभिव्यक्ति ।

Naresh nehra said...

एकदम सामयिक, सार्थक और सटीक रचना

MANOJ KAYAL said...

सराहनीय सृजन।

Sudha Devrani said...

बरसते बादलो पर बहुत ही सुंदर सराहनीय सृजन ।

Jigyasa Singh said...

वर्षा ऋतु की आमद का अहसास कराती सुंदर रचना ।