हर मनुष्य की अपनी-अपनी जगह होती है - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

Friday, November 20, 2015

हर मनुष्य की अपनी-अपनी जगह होती है

हरेक पैर में एक ही जूता नहीं पहनाया जा सकता है।
हरेक  पैर  के  लिए  अपना  ही जूता ठीक रहता है।।

सभी लकड़ी तीर बनाने के लिए उपयुक्त नहीं रहती है। 
सब   चीजें  सब  लोगों  पर  नहीं  जँचती   है।।

कोई जगह नहीं मनुष्य ही उसकी शोभा बढ़ाता  है। 
बढ़िया कुत्ता बढ़िया हड्डी का हकदार बनता है ।।

एक मनुष्य का भोजन दूसरे के लिए विष हो सकता है ।
सबसे  बढ़िया  सेब को  सूअर  उठा ले  भागता  है।।

शहद गधे को खिलाने की चीज नहीं होती है ।
सोना नहीं गधे को तो घास पसंद आती है ।।

हरेक चाबी हरेक ताले में नहीं लग पाती है ।
हर मनुष्य की अपनी-अपनी जगह होती है ।। 

                            .... कविता रावत  


22 comments:

  1. हर मनुष्य की अपनी-अपनी जगह होती है

    ReplyDelete
  2. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (20.11.2015) को "आतंकवाद मानव सम्यता के लिए कलंक"(चर्चा अंक-2166) पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, चर्चा मंच पर आपका स्वागत है।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ, सादर...!

    ReplyDelete
  3. कविता जी, आपके ब्लॉग की तिथि की सेटिंग सही नहीं है, जिसके कारण यह आपकी ब्लॉगपोस्ट की तारिख एक दिन बाद की दिखता है. जैसे इस पोस्ट की प्रकाशन की तिथि 20 नवम्बर दिखाई दे रही है. इस कारण 'हमारीवाणी' पर आपकी पोस्ट से समस्या उत्पन्न होती है, आपसे अनुरोध है कि ब्लॉग की सेटिंग में जाकर चैक करें!

    ReplyDelete
  4. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शुक्रवार 20 नवम्बबर 2015 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  5. हरेक चाबी हरेक ताले में नहीं लग पाती है ।
    हर मनुष्य की अपनी-अपनी जगह होती है ।।
    ............................................
    तभी तो अलग अलग ताले बनते हैं रहते एक जैसे हैं इंसान जैसे ...
    बहुत सुन्दर ..............

    ReplyDelete
  6. सत्य कथन /........

    ReplyDelete
  7. सच कहा कविता जी हरेक की अपनी उपयोगिता है.

    ReplyDelete
  8. हरेक अपनी जगह पर ही अच्छा लगता है किसी और के नहीं ....................बहुत बहुत बहुत सुन्दर .............

    ReplyDelete
  9. सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  10. सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  11. बहुत ही सुंदर रचना की प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  12. ​​​​सुन्दर रचना ..........बधाई |
    ​​​​​​​​आप सभी का स्वागत है मेरे इस #ब्लॉग #हिन्दी #कविता #मंच के नये #पोस्ट #चलोसियासतकरआये पर | ब्लॉग पर आये और अपनी प्रतिक्रिया जरूर दें |

    http://hindikavitamanch.blogspot.in/2015/11/chalo-siyasat-kar-aaye.html​​

    ReplyDelete
  13. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन ब्लॉग बुलेटिन - कवियित्री निर्मला ठाकुर जी की प्रथम पुण्यतिथि में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  14. सावधान! चोर एक ही चाबी का इस्तेमाल कई तालों में भी कर देते हैं।

    ReplyDelete
  15. सबका अपना रोल होता है ,यही दुनिया है !

    ReplyDelete
  16. सही है, जो जिस जगह के लिए उपयुक्त है उसे वहीं होना चाहिए ।

    अच्छी रचना ।

    ReplyDelete
  17. बहुत सही बात कही रचना के माध्यम से ।

    ReplyDelete
  18. बहुत सही बात कही रचना के माध्यम से ।

    ReplyDelete
  19. आप की शादी की सालगिरह की कविता बहुत सुंदर थी । शादी की सालगिरह पर बहुत बहुत बधाई ।

    ReplyDelete
  20. बहुत सुंदर रचना वाह .

    ReplyDelete