संसार में इंसान अकेला ही आता और जाता है - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

शुक्रवार, 27 नवंबर 2020

संसार में इंसान अकेला ही आता और जाता है

 


जाने कैसे मर-मर कर कुछ लोग जी लेते हैं 

दुःख में भी खुश रहना सीख लिया करते हैं

मैंने देखा है किसी को दुःख में भी मुस्कुराते हुए

और किसी का करहा-करहा कर दम निकलते हुए

संसार में इंसान अकेला ही आता और जाता है

अपने हिस्से का लिखा दुःख खुद ही भोगता है

ठोकरें इंसान को मजबूत होना सिखाती है 

मुफलिसी इंसान को दर-दर भटकाती है

.. कविता रावत 

11 टिप्‍पणियां:

  1. सच्ची बातें कही हैं कविता जी आपने । मैं बस इतना और कहूंगा कि ठोकरें इंसान को लोगों को पहचानना और अपनों-परायों में भेद करना भी सिखाती हैं ।

    जवाब देंहटाएं
  2. कविता दी, जीवन की सच्चाई को बहुत ही सुंदर तरीके से व्यक्त किया है आपने।

    जवाब देंहटाएं
  3. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" रविवार 29 नवंबर नवंबर 2020 को साझा की गयी है.............. पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह!कविता जी ,बहुत खूब !जीवन का सच बयाँ करती रचना ।

    जवाब देंहटाएं
  5. वाह..बेहतरीन सृजन।
    सादर।

    जवाब देंहटाएं
  6. ये सच है इंसान अकेला आता है अकेला जाता है ... पर जाते जाते बहुत कुछ यादें अपनों के मन में छोड़ जाता है ...
    भावपूर्ण सृजन ...

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर प्रस्तुति।

    जवाब देंहटाएं