तिल-तिल जीने वाला हर दिन मरता है - KAVITA RAWAT
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

सोमवार, 19 अक्तूबर 2020

तिल-तिल जीने वाला हर दिन मरता है


शत्रु की मुस्कुराहट से मित्र की तनी हुई भौंहे अच्छी होती है
मूर्ख के साथ लड़ाई करने से उसकी चापलूसी भली होती है

किसी कानून से अधिक उसके उल्लंघनकर्ता मिलते हैं
ऊँचे पेड़ छायादार अधिक लेकिन फलदार कम रहते हैं

पत्थर खुद भोथरा हो फिर भी छुरी को तेज करता है
मरियल घोड़ा भी हट्टे-कट्टे बैल से तेज दौड़ सकता है

पोला बांस बहुत अधिक आवाज करता है
जो जिधर झुकता है वह उधर ही गिरता है

आरम्भ के साथ उसका अंत भी चलता है
तिल-तिल जीने वाला हर दिन मरता है

... कविता रावत 




12 टिप्‍पणियां:

  1. बिल्कुल ठीक कहा आपने कविता जी ।

    जवाब देंहटाएं
  2. सादर नमस्कार ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (13-10-2020 ) को "उस देवी की पूजा करें हम"(चर्चा अंक-3860) पर भी होगी,आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    ---
    कामिनी सिन्हा

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सटिक अभिव्यक्ति, कविता दी।

    जवाब देंहटाएं
  4. हृदयस्पर्शी और सटीक सृजन ।

    जवाब देंहटाएं
  5. सुंदर और सटीक सृजन आदरणीया

    जवाब देंहटाएं
  6. शत्रु की मुस्कुराहट से मित्र की तनी हुई भौंहे अच्छी होती है
    मूर्ख के साथ लड़ाई करने से उसकी चापलूसी भली होती है,,,,,।बहुत बढ़िया एवं सटीक अभिव्यक्ति ।

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर रचना..... व्यंग्य के क्या कहने....

    जवाब देंहटाएं
  8. "मूर्ख के साथ लड़ाई करने से उसकी चापलूसी भली होती है"-बहुत बढ़िया पंक्ति !

    जवाब देंहटाएं