हँसमुख चेहरा लुभाता उसका सूरत दिखती भोली-भली - Kavita Rawat Blog, Kahani, Kavita, Lekh, Yatra vritant, Sansmaran, Bacchon ka Kona
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपनी कविता, कहानी, गीत, गजल, लेख, यात्रा संस्मरण और संस्मरण द्वारा अपने विचारों व भावनाओं को अपने पारिवारिक और सामाजिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का हार्दिक स्वागत है।

शनिवार, 29 जुलाई 2023

हँसमुख चेहरा लुभाता उसका सूरत दिखती भोली-भली


कुछ शर्माती कुछ सकुचाती
जब आती बाहर वो नहाकर
मन ही मन कुछ कहती
उलझे लट सुलझा सुलझाकर

झटझट झटझट झरझर झरझर
बूंदें गिरतीं बालों से पल-पल
दिखतीं ये मोती सी मुझको
या ज्यों झरता झरने का जल

झर झर झरता झरने सा जल
झर झर झरता झरने सा जल  

तिरछी नजर घुमाती वो
अधरों पे  मदिर मुस्कान लिए
कभी निहारे एकटक होकर 
पलकों ज्योँ आराम दिए

हँसमुख चेहरा लुभाता उसका
सूरत दिखती भोली-भली
कभी लगती खिली फूल सी
कभी दिखती कच्‍ची कली

खिला यौवन उपवन जैसा 
नाजुक कली सुकोमल गात  
वो वसंत की चितचोर डाली
मैं पतझड़ सा बिखरा पात