Kavita Rawat Blog, Kahani, Kavita, Lekh, Yatra vritant, Sansmaran, Bacchon ka Kona
ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपनी कविता, कहानी, गीत, गजल, लेख, यात्रा संस्मरण और संस्मरण द्वारा अपने विचारों व भावनाओं को अपने पारिवारिक और सामाजिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का हार्दिक स्वागत है।

शुक्रवार, 5 जनवरी 2018

सोमवार, 1 जनवरी 2018

शनिवार, 16 दिसंबर 2017

चूहे के न्याय से बिल्ली का अत्याचार भला

दिसंबर 16, 2017
कानून का निर्णय काले कौए को बरी लेकिन फाख्ता को दोषी ठहराता है निर्धन के लिए मुसीबत और धनवान के लिए कानून फायदेमंद होता है मुकदमे में कि...
और पढ़ें>>

गुरुवार, 30 नवंबर 2017

बुधवार, 1 नवंबर 2017

बुधवार, 25 अक्तूबर 2017

दरिया जिधर बह निकले वही उसका रास्ता होता है

अक्तूबर 25, 2017
दो काम एक साथ हाथ में लेने पर एक भी नहीं हो पाता है। बहुत ज्यादा सोच-विचार वाला कुछ भी नहीं कर पाता  है।। जो कुछ नहीं जानता वह किसी बात ...
और पढ़ें>>

गुरुवार, 19 अक्तूबर 2017

क्या दीवाली लक्ष्मी जयन्ती है?

अक्तूबर 19, 2017
एक मान्यता के अनुसार दीपावली ‘लक्ष्मी जयन्ती’ अर्थात् लक्ष्मी के जन्मदिन के रूप में मनाई जाती है। निश्चित ही यह कल्पना अर्वाचीन है, क्यो...
और पढ़ें>>

शुक्रवार, 13 अक्तूबर 2017

प्यार की अजीब होती है दास्ताँ

अक्तूबर 13, 2017
कुछ हुई उनकी बात कुछ  हुई मुलाकात और वे प्यार समझ बैठे दिल देने की भूल कर  बैठे कहते सुनते आए से जिसे वे भी करने लगे प्यार बस इसी प...
और पढ़ें>>

शनिवार, 9 सितंबर 2017

एक उम्मीद जरूरी है जीने के लिए

सितंबर 09, 2017
एक उम्मीद जिसकी नाउम्मीदी पर उठती है मन में खीज, झुंझलाहट निराश मन कोसता बार-बार उम्मीद उनसे जो खुद उम्मीद में जीते-पलते हैं उम्मीद...
और पढ़ें>>

रविवार, 6 अगस्त 2017

भाई-बहिन का प्यारा बंधन रक्षाबंधन

अगस्त 06, 2017
रिमझिम सावनी फुहार-संग पावन पर्व रक्षाबंधन आया है घर-संसार खोई बहिना को मायके वालों ने बुलाया है मन में सबसे मिलने की उमंग धमा-चैक...
और पढ़ें>>

शुक्रवार, 4 अगस्त 2017

बांध कलाई में राखी बहिना अपना प्यार जताती है

अगस्त 04, 2017
बहिन विवाहित होकर अपना अलग घर-संसार बसाती है। पति-बच्चे, पारिवारिक दायित्व दुनियादारी में उलझ जाती है।। सतत स्नेह, प्रेम व प्यार की नि...
और पढ़ें>>

शनिवार, 29 जुलाई 2017

बरखा बहार आयी

जुलाई 29, 2017
सूरज की तपन गई बरखा बहार आयी झुलसी-मुरझाई धरा पर हरियाली छायी बादल बरसे नदी-पोखर जलमग्न हो गए खिले फूल, कमल मुकुलित बदन खड़े हुए नदियां ...
और पढ़ें>>

रविवार, 9 जुलाई 2017

सोमवार, 26 जून 2017

सोमवार, 5 जून 2017

बुधवार, 31 मई 2017

कई रोगों की जड़ है तम्बाकू/धूम्रपान

मई 31, 2017
तम्बाकू/धूम्रपान जनित कुछ प्रमुख रोगों के बारे में जानिए और  आज ही छोड़ने का संकल्प कीजिए  कैंसर:  तम्बाकू के धुएं से उपस्थित बेंजपाए...
और पढ़ें>>

सोमवार, 29 मई 2017

तानाशाह का काम किसी भी बहाने से चल सकता है

मई 29, 2017
अनाड़ी कारीगर अपने औजारों में दोष निकालता है। पकाने का सलीका नहीं जिसे वह देगची का कसूर बताता है।। कातना न जाने जो वह चर्खे को दुत्कारने ...
और पढ़ें>>